होम /न्यूज /धर्म /Karwa Chauth 2022: सिद्धि योग और रोहिणी नक्षत्र में मनेगा करवा चौथ व्रत, इन दिन है वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी भी

Karwa Chauth 2022: सिद्धि योग और रोहिणी नक्षत्र में मनेगा करवा चौथ व्रत, इन दिन है वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी भी

करवा चौथ पति की लंबी आयु और सुखी दांपत्य जीवन के लिए रखते हैं.

करवा चौथ पति की लंबी आयु और सुखी दांपत्य जीवन के लिए रखते हैं.

Karwa Chauth 2022 Date In India: हर साल करवा चौथ का व्रत कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है. आइए ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को हर साल करवा चौथ का व्रत रखा जाता है.
इस दिन वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी व्रत भी होता है.
इस साल करवा चौथ का व्रत सिद्धि योग में है और इस रात रोहिणी नक्षत्र है.

Karwa Chauth 2022 Date In India: हिंदू कैलेंडर के कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को हर साल करवा चौथ का व्रत रखा जाता है. इस दिन वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी व्रत भी होता है. करवा चौथ पति की लंबी आयु और सुखी दांपत्य जीवन के लिए रखते हैं और वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी व्रत संकटों को दूर कर जीवन में सुख, सौभाग्य और समृद्धि के लिए रखते हैं. काशी के ज्यो​तिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट के
अनुसार, इस साल करवा चौथ व्रत और वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी व्रत दोनों ही सिद्धि योग और रोहिणी नक्षत्र में है. इन दोनों को ही शुभ माना जाता है. आइए जानते हैं करवा चौथ और वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी के दिन बनने वाले योग और मुहूर्त के बारे में.

ये भी पढ़ें: करवा चौथ की थाली में इन चीजों को जरूर करें शामिल, नोट कर लें पूजा सामग्री

करवा चौथ तिथि 2022
पंचांग के अनुसार, कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि 13 अक्टूबर दिन गुरुवार को 01 बजकर 59 एएम पर प्रारंभ हो रही है और इस तिथि का समापन अगले दिन 14 अक्टूबर शुक्रवार को तड़के 03 बजकर 05 एएम पर हो रहा है. व्रत के लिए चतुर्थी की उदयातिथि 13 अक्टूबर की मान्य होगी, इसलिए करवा चौथ व्रत 13 अक्टूबर को मनाया जाएगा. इस दिन ही वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी व्रत भी रखा जाएगा.

करवा चौथ पूजा मुहूर्त 2022
13 अक्टूबर को करवा चौथ का पूजा मुहूर्त शाम 05 बजकर 54 मिनट पर सूर्यास्त के बाद से लेकर शाम 07 बजकर 09 मिनट तक है. करवा चौथ व्रत की पूजा चंद्रमा को जल अर्पित करने और पूजन के बाद ही पूर्ण होता है.

चंद्रोदय समय: रात 08 बजकर 09 मिनट पर

ये भी पढ़ें: करवा चौथ पर पत्नी को दें राशि के अनुसार गिफ्ट

सिद्धि योग और रोहिणी नक्षत्र में करवा चौथ
इस साल करवा चौथ का व्रत सिद्धि योग में है और इस रात रोहिणी नक्षत्र है. 13 अक्टूबर को प्रात:काल से लेकर दोपहर 01 बजकर 55 मिनट तक सिद्धि योग है और उसके बाद से व्यतीपाज योग होगा. नक्षत्र की बात की जाए तो रोहिणी नक्षत्र शाम 06 बजकर 41 मिनट से लेकर अगले दिन शाम तक है. सिद्धि योग और रोहिणी नक्षत्र दोनों ही मांगलिक कार्यों के लिए शुभ माने गए हैं.

वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी 2022
करवा चौथ के दिन वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी व्रत भी है. इस दिन आप सुबह गणेश जी का पूजन विधिपवूर्वक करें और रात के समय में चंद्रमा का दर्शन करें. उनको जल अर्पित करें. संकष्टी चतुर्थी व्रत की पूजा चंद्रमा के पूजन के बिना अधूरा है.

ऐसे में देखा जाए तो वक्रतुण्ड संकष्टी चतुर्थी और करवा चौथ दोनों ही व्रत में चंद्रमा की पूजा करने का महत्व है.

Tags: Dharma Aastha, Karwachauth

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें