ओणम 2019: जानिए क्यों मनाया जाता है ओणम और क्या है थिरुवोणम मुहूर्त?

News18Hindi
Updated: September 10, 2019, 2:07 PM IST
ओणम 2019: जानिए क्यों मनाया जाता है ओणम और क्या है थिरुवोणम मुहूर्त?
ओणम 2019: जानिए क्यों मनाया जाता है ओणम और क्या है थिरुवोणम मुहूर्त

आइए जानते हैं क्या होता है थिरुवोणम मुहूर्त और आखिर क्यों मनाया जाता है ओणम का त्यौहार

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2019, 2:07 PM IST
  • Share this:
दक्षिण भारत में कल यानी कि 11 सितंबर 2019 को जोर शोर से ओणम का त्यौहार मनाया जाएगा. यह त्यौहार कृषि की अच्छी पैदावार के लिए मनाया जाता है. स्थानीय लोग पूरे 13 दिनों तक ओणम का जश्न मनाएंगे. यह त्यौहार 1 सितम्बर से लेकर 13 सितम्बर तक मनाया जाएगा. इस दिन लोगों घरों में दिए जलाकर पूजा अर्चना करते हैं. इस दौरान केरल में नौका रेस (अराणमुला नौका दौड़, सर्प नौका) का भी आयोजन किया जाता है जिसमें कई लोग भाग लेते हैं और देश विदेश से कई पर्यटक भी इसे देखने आते हैं. इस दौरान केरल की संस्कृति और परंपरा की एक अनोखी झलक देखने को मिलती है. सबसे ख़ास बात है कि ओणम की पूजा अर्चना घरों में होती है न कि मंदिर में. आइए जानते हैं क्या होता है थिरुवोणम मुहूर्त और आखिर क्यों मनाया जाता है ओणम का त्यौहार..

इसे भी पढ़ें: जानें अनंत चतुर्दशी की तारीख, व्रत कथा और पूजा विधि

थिरुवोणम मुहूर्त का अर्थ:
'थिरुवोणम' दो शब्दों थिरु और ओणम के योग से मिलकर बना शब्द है. थिरु का मतलब है पवित्र और ओणम का मतलब भाग्यशाली और वामन अवतार से भी लिया जाता है. स्थानीय लोगों की ऐसी मान्यता है कि ओणम के दिन ही भगवान विष्णु के वामन अवतार पृथ्वी पर अवतरित हुए थे. इस दौरान थिरुवोणम के एक दिन पहले से अवकाश शुरू होकर उसके दो दिन बाद तक रहता है.

know all about onam importance and worship method
know all about onam importance and worship method


इसे भी पढ़ें: गांधी समेत इन शख्सियतों ने हुसैन से ली प्रेरणा और लड़ी आजादी की जंग

इसलिए मनाया जाता है ओणम:
Loading...

पौराणिक मान्यता के अनुसार, स्थानीय लोग केरल के महाबली नाम के असुरराज के सम्मान में ओणम का जश्न मनाते हैं. इस दिन किसान अपने खेतों की सलामती और अच्छी फसल और पैदावार के लिए श्रावण देवता और पुष्पदेवी की पूजा अर्चना करते हैं. लोग फसलों की अच्छी पैदावार पर जश्न मनाकर ख़ुशी जाहिर करते हैं. इस दिन लोग घरों को अच्छे से साफ कर फूलों की लड़ियों और आटे, चावल और रंगों से बनी रंगोली से सजाते हैं और रात में दिए जलाते हैं.

ओणम पर रंगोली बनाती महिलाएं
ओणम पर रंगोली बनाती महिलाएं


Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 1:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...