होम /न्यूज /धर्म /Shree Yantra: श्रीयंत्र सहित कई यंत्र दूर करते हैं घर की समस्याएं, लाते हैं सुख और समृद्धि

Shree Yantra: श्रीयंत्र सहित कई यंत्र दूर करते हैं घर की समस्याएं, लाते हैं सुख और समृद्धि

श्रीयंत्र को घर या दुकान में रखने से उन्नति होती है.(Image-Canva)

श्रीयंत्र को घर या दुकान में रखने से उन्नति होती है.(Image-Canva)

घर व व्यवसाय की परेशानियों को दूर करने के लिए कई तरह के यंत्र बताए गए हैं. मान्यता है कि इन यंत्रों के दर्शन व पूजन से ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

घर व व्यवसाय की परेशानियों को दूर करने के लिए कई तरह के यंत्र बताए गए हैं.
मान्यता है कि इन यंत्रों के दर्शन व पूजन से हर बाधा दूर होती है.
इन यंत्रों का विधान वास्तु व ज्योतिष शास्त्र में बताया गया है.

घर और व्यवसाय की परेशानियों को दूर कर सुख- समृद्धि व रोग नाश के लिए वास्तु व ज्योतिष शास्त्र में कई तरह के उपायों का जिक्र है. इनमें एक उपाय यंत्रों का भी है. जो घर व कारोबार स्थल पर लगाने से हर सुख संभव होने की मान्यता है.  आज हम आपको ऐसे ही प्रमुख यंत्रों के बारे में बताने जा रहे हैं. 

  1. श्रीयंत्र (स्फटिक): पंडित रामचंद्र जोशी के अनुसार यंत्र राज कहलाने वाला श्रीयंत्र महालक्ष्मी को प्रसन्न करने वाला माना गया है. सुख- संपदा, व्यापारिक व आर्थिक उन्नति के लिए इस यंत्र से बढ़कर संसार में कोई अन्य यंत्र नहीं माना गया है. इसके साथ श्रीसूक्त पाठ करने का विधान है.

  2. शिवलिंग (स्फटिक या पारद): शिवलिंग शक्ति तत्व का प्रतीक है. पुराणों के अनुसार लिंग भगवान शिव की शक्ति है. इसे घर में रखने से शक्ति व संपन्नता बढ़ती है.

  3. श्रीगणेश (स्फटिक): इन्हें नवग्रह को नियंत्रित रखने का प्रतीक माना गया है. किसी भी पवित्र कार्य में इनकी सबसे पहले पूजा करनी चाहिए.

  4. कुबेर यंत्र: इस यंत्र को व्यापार के लिए लाभप्रद माना जाता है. घर के अलावा इसे व्यापारिक स्थल पर रखने से व्यापार में धन लाभ होता है.

  5. श्रीमहामृत्युंजय यंत्र: यह यंत्र भगवान शिव से संबंधित है. यह रोग, कष्ट और मृत्यु का भय दूर करने वाला यंत्र है.

  6. श्रीदुर्गा यंत्र व श्रीदुर्गा बीसा यंत्र:  यह शक्ति यंत्र है. यह बुरी शक्तियों का नाश कर हर क्षेत्र में सफलता दिलाने वाला होता है.

  7. श्रीनागपाश या कालसर्प यंत्र: यह यंत्र काल सर्प योग वाले व्यक्ति के लिए पूजनीय होता है. इससे घर के भीतर, बाहर, नदी व तालाब में रहने वाले जल देवताओं के दोष भी मिटते हैं.

  8. वास्तु दोष व व्यापार वृद्धि इंद्राणी यंत्र:  दुकान व व्यापार में वास्तु दोष दूर कर व्यापार में वृद्धि के लिए  इस यंत्र को श्रेष्ठ माना गया है.
  9. कनकधारा यंत्र:  इस यंत्र को पूजा स्थल में रखने का विधान है. मान्यता के अनुसार इससे घर और कारोबार में धन लाभ होता है. व्यापार में वृद्धि होती है.
  10. वाहन दुर्घटना नाशक यंत्र: यह वाहन में लगाए या साथ में रखने का यंत्र होता है. इससे दुर्घटना से बचाव होता है.

    यह भी पढ़ें – कौन हैं मां लक्ष्मी की बड़ी बहन अलक्ष्मी? क्यों नहीं की जाती है उनकी पूजा

यह भी पढ़ें – पर्स में भूलकर भी न रखें ये चीजें वरना हमेशा रहेगी पैसों की तंगी 

11. कोर्ट कचहरी विजय यंत्र:  यह यंत्र कोर्ट में चल रहे मुकदमों में विजय दिलाने वाला माना गया है.

12. श्री वशीकरण यंत्र: यह यंत्र किसी को भी वश या पक्ष में करने वाला, वाद- विवाद, परीक्षा व नौकरी आदि में सफलता दिलाने वाला माना जाता है.

13. श्रीमंगल यंत्र: यह रोग निवारक और भूमि विवाद में लाभदायक माना जाता है. मेष राशि के लिए इसे विशेष लाभदायक कहा गया है.

14. अन्य यंत्र:  इन यंत्रों के अलावा संतान विवाह यंत्र, लग्न विघ्नहर्ता यंत्र, पुत्र प्राप्ति यंत्र, श्रीवास्तु दोष नाशक यंत्र, नवग्रह शांति यंत्र, क्लेश कंकास निवारक यंत्र, श्री हनुमत्पूजन यंत्र, श्री रिद्धि सिद्धि गणेश यंत्र, श्रीभैरव यंत्र, श्रीसरस्वती यंत्र, श्रीविजय सहायक यंत्र, श्री सिद्ध राहु यंत्र, श्रीसिद्ध सूर्य यंत्र, श्रीसर्व कार्य सिद्धि यंत्र और श्री सिद्ध केतु यंत्र सहित अन्य यंत्र भी कामना पूर्ति वाले माने गए हैं.

Tags: Astrology, Dharma Aastha, Vastu tips

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें