लाइव टीवी
Elec-widget

ये है गायत्री मंत्र के जाप का सटीक तरीका, जान लें मंत्र का अर्थ

News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 10:52 AM IST
ये है गायत्री मंत्र के जाप का सटीक तरीका, जान लें मंत्र का अर्थ
गायत्री मंत्र करने का सटीक तरीका, जान लें मंत्र का अर्थ

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, अगर आप पूरे दिन में तीन बार भी गायत्री मंत्र का जाप करते हैं तो आपका जीवन सकारात्मकता की तरह प्रेरित होता है और नकारात्मकता जाती रहती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 10:52 AM IST
  • Share this:
मां गायत्री को वेदमाता भी कहा गया है. हिंदू धर्म शास्त्रों में गायत्री मंत्र के जाप को जीवन के लिए आवश्यक बताया गया है. हिंदू धर्म में चार वेड हैं जिनका नाम है- ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद. इन सबमें ही वेदमाता गायत्री और गायत्री मंत्र के जप का उल्लेख मिलता है. हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, अगर आप पूरे दिन में तीन बार भी गायत्री मंत्र का जाप करते हैं तो आपका जीवन सकारात्मकता की तरह प्रेरित होता है और नकारात्मकता जाती रहती है. यह भी माना जाता है कि मां गायत्री भक्तों के दुखों को हरने वाली हैं. आइए जानते हैं गायत्री मंत्र का अर्थ और क्या है इसे करने का सही तरीका...

इसे भी पढ़ेंः Margashirsha Maas: भगवान कृष्ण का है अगहन माह, ऐसे करें पूजा पाठ

गायत्री मंत्र का अर्थ:

ॐ - ईश्वर , भू: - प्राणस्वरूप , भुव: - दु:खनाशक, स्व: - सुख स्वरूप, तत् - उस , सवितु: - तेजस्वी, वरेण्यं - श्रेष्ठ, भर्ग: - पापनाशक, देवस्य - दिव्य, धीमहि - धारण करे, धियो - बुद्धि ,यो - जो, न: - हमारी , प्रचोदयात् - प्रेरित करे. इसे अगर जोड़कर देखा जाए तो इसका अर्थ होगा- 'उस, प्राणस्वरूप, दुखनाशक, सुख स्वरुप, तेजस्वी, श्रेष्ठ, पापनाशक, दिव्य परमात्मा (ईश्वर) को हम अपनी अंतरात्मा में धारण करें. जो हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे.

गायत्री मंत्र जाप का तरीका:
1.गायत्री मंत्र का जाप करते समय रीढ़ की हड्डी सीढ़ी करके कुश के आसन के आसन पर पालथी मारकर बैठने की मुद्रा में जाप करना चाहिए.

2.गायत्री मंत्र का जाप करने से पहले शरीर की शुद्धि कर लेनी चाहिए. इसके लिए सुबह नहाने धोने के बाद ही जाप करना चाहिए.
Loading...

इसे भी पढ़ेंः जीवन में सफलता पाने के लिए ये हैं संत कबीर के 5 खास दोहे

3.मंत्रों का जप करते समय उच्चारण का काफी महत्व होता है. इसलिए आहिस्ता आहिस्ता मंत्र का जाप करना चाहिए.

4.अगर आप माला से जाप करना चाहते हैं तो तुलसी के 108 मानकों की माला से भी गायत्री मंत्र का जाप कर सकते हैं.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 8:41 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...