जानें क्या है भगवान गणेश के एक दंत होने की पौराणिक कथा

जानें क्या है भगवान गणेश के एक दंत होने की पौराणिक कथा
गणेश जी का श्रृंगार सिंदूर से ही किया जाता है, इससे लोगों की समस्त परेशानियां दूर होती हैं.

हिंदू मान्यताओं के अनुसार कोई भी शुभ कार्य करने से पहले भगवान गणेश (Lord Ganesha) की पूजा की जानी जरूरी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 16, 2020, 7:47 AM IST
  • Share this:
बुधवार (Wednesday) को पूरे विधि विधान के साथ भगवान गणेश (Lord Ganesha) की पूजा की जाती है. भगवान गणेश भक्तों पर प्रसन्न होकर उनके दुखों को हरते हैं और सभी की मनोकामनाएं (Wishes) पूरी करते हैं. हिंदू मान्यताओं के अनुसार कोई भी शुभ कार्य करने से पहले भगवान गणेश की पूजा की जानी जरूरी है. भगवान गणेश सभी लोगों के दुखों को हरते हैं. भगवान गणेश खुद रिद्धि-सिद्धि के दाता और शुभ-लाभ के प्रदाता हैं. वह भक्‍तों की बाधा, सकंट, रोग-दोष तथा दरिद्रता को दूर करते हैं. शास्‍त्रों के अनुसार माना जाता है कि श्री गणेश जी की विशेष पूजा का दिन बुधवार है. कहा जाता है कि बुधवार को गणेश जी की पूजा और उपाय करने से हर समस्‍या का समाधान हो जाता है.

महादेव पुण्य कथा पर आधारित खंड
गणेश पुराण में पांच खंड हैं. पहला खंड आरंभ खंड है. दूसरा खंड परिचय बताता हुआ परिचय खंड है. सभी खंडों में कथाओं के माध्यम से गणेश जी की लीलाओं का वर्णन किया गया है. तीसरा खंड मां पार्वती पर आधारित खंड है. इसमें पार्वती जी के जन्म और शिव विवाह की कहानी है. कार्तिकेय के जन्म की कहानी भी इसी खंड में आती है. चौथा खंड है, युद्ध खंड. इसमें मत्सर असुर की कहानी भी है. पांचवा खंड महादेव पुण्य कथा पर आधारित खंड है. इस युग में सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग के बारे में भी कहानियां शामिल की गई हैं. कई कथाओं का वर्णन इसमें मिलता है.

इसे भी पढ़ेंः बुधवार को ऐसे करें श्रीगणेश की पूजा, गणेश चालीसा का पाठ करना न भूलें
गणेश जी से जुड़ी कई तरह की कहानियां गणेश पुराण में मिलती हैं. जैसे गणेश जी के एकदंत नाम पड़ने की कहानी भी यहां दी गई है. इसमें भी कई तरह की कहानियां हैं. जैसे एक जगह कहा गया है कि गणेश जी महाभारत लिख रहे थे. उन्हें लिखने के लिए कलम की जरूरत थी और उन्होंने अपने एक दांत को कलम बना लिया. गणेश पुराण में एक कथा गजमुखासुर की भी मिलती है. कथा यह है कि इस राक्षस को किसी भी अस्त्र-शस्त्र से न मारे जा सकने का वरदान था. तब भगवान श्री गणेश ने अपने दांत से इसका वध किया था.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज