Home /News /dharm /

Kumbh Sankranti 2022: कब है कुंभ संक्रांति? जानें तारीख एवं महा पुण्य काल

Kumbh Sankranti 2022: कब है कुंभ संक्रांति? जानें तारीख एवं महा पुण्य काल

कुंभ संक्रांति

कुंभ संक्रांति

Kumbh Sankranti 2022: सूर्य देव (Surya Dev) अभी मकर राशि में हैं. लगभग एक माह तक वे हर राशि में क्रमश: रहते हैं. मकर के बाद वे कुंभ राशि (Kumbh Rashi) में प्रवेश करेंगे. जिस समय वे मकर से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे, वह सूर्य की कुंभ संक्रांति होगी.

अधिक पढ़ें ...

Kumbh Sankranti 2022: सूर्य देव (Surya Dev) अभी मकर राशि में हैं. लगभग एक माह तक वे हर राशि में क्रमश: रहते हैं. मकर के बाद वे कुंभ राशि (Kumbh Rashi) में प्रवेश करेंगे. जिस समय वे मकर से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे, वह सूर्य की कुंभ संक्रांति होगी. सूर्य का कुंभ राशि में गोचर 13 फरवरी दिन रविवार को हो रहा है. उस दिन ही कुंभ संक्रां​ति मनाई जाएगी. इस दिन त्रिपुष्कर योग और प्रीति योग बन रहा है. इससे पहले 14 जनवरी के मकर संक्रांति मनाई गई थी. उस दिन नदियों में स्नान और दान का महत्व होता है. आइए जानते हैं कुंभ संक्रांति के महा पुण्य काल एवं पंचांग के बारे में.

कुंभ संक्रांति 2022 महा पुण्य काल

दृक पंचांग के अनुसार, सूर्य देव का कुंभ राशि में प्रवेश 13 फरवरी को तड़के 03 बजकर 41 मिनट पर होगा. ऐसे में कंभ संक्रांति का पुण्य काल प्रात: 07 बजकर 01 मिनट से प्रारंभ हो जाएगा, जो दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक रहेगा. कुंभ संक्रांति पुण्य काल का समय 05 घंटा 34 मिनट का होगा, वहीं कुंभ संक्रांति का महा पुण्य काल 07 बजकर 01 मिनट से सुबह 08 बजकर 53 मिनट तक है. महा पुण्य काल की अवधि 01 घंटा 51 मिनट की है.

यह भी पढ़ें: फरवरी में सूर्य, मंगल और शुक्र करेंगे राशि परिवर्तन, बुध होगा मार्गी

संक्रांति स्नान एवं दान
संक्रांति के दिन नदियों में स्नान करने के बाद सूर्य देव को जल अर्पित कर पूजा करने का विधान है. इस ​दौरान आप सूर्य देव के मत्रों का जाप भी कर सकते हैं. स्नान के बाद सूर्य ग्रह से जुड़ी वस्तुओं का दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है. इस दिन आप गेहूं, धान, कंबल, गरम कपड़े आदि का दान कर सकते हैं.

कुंभ संक्रांति 2022 पंचांग
सूर्योदय: प्रात: 07:01 बजे
सूर्यास्त: शाम 06:10 बजे
चन्द्रोदय: दोपहर 03:01 बजे
चन्द्रास्त: अगले दिन प्रात: 05:33 बजे

यह भी पढ़ें: राहु करेगा राशि परिवर्तन, इन रा​शि वालों को होगा लाभ

योग: प्रीति, रात 09:16 बजे तक फिर आयुष्मान योग प्रारंभ
नक्षत्र: आर्द्रा, सुबह 09:28 तक
अभिजित मुहूर्त: दोपहर 12:13 बजे से दोपहर 12:58 बजे तक
विजय मुहूर्त: दोपहर 02:27 बजे से दोपहर 03:11 बजे तक
त्रिपुष्कर योग: सुबह 09:28 बजे से शाम 06:42 बजे तक

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Astrology, Dharma Aastha

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर