• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • बुधवार को गणेशजी के इन विशेष मंत्रों का जरूर करें पाठ, दूर होंगी सारी परेशानियां

बुधवार को गणेशजी के इन विशेष मंत्रों का जरूर करें पाठ, दूर होंगी सारी परेशानियां

भगवान गणेश प्रथम आराध्य हैं और उनका दिन बुधवार माना जाता है. Image - Shutterstock.com

भगवान गणेश प्रथम आराध्य हैं और उनका दिन बुधवार माना जाता है. Image - Shutterstock.com

Lord Ganesha Mantra: बुधवार को गणेश जी का दिन माना जाता है. इस दिन विघ्नहर्ता की उपासना से जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं. घर में रिद्धि-सिद्धि का वास हो जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    Lord Ganesha Mantra: प्रथम पूज्य भगवान गणपति जी (Lord Ganesha) की आराधना के लिए सर्वश्रेष्ठ दिन बुधवार को माना जाता है. यह गणेशजी का वार कहलाता है. मान्यता है कि इस दिन बप्पा की आराधना से जीवन की सारी विघ्न-बाधाएं दूर हो जाती हैं. घर में रिद्धि एवं सिद्धि का वास हो जाता है. बुद्धि एवं विवेक का भी विकास होता है. किसी भी शुभ कार्य को अगर शुरू करना है तो भगवान गणेश के पूजन के बिना यह संभव नहीं होता है. भगवान गणेश के पूजन के लिए कुछ विशेष मंत्र (Ganesh Mantra) भी हैं जिनका बुधवार के दिन पाठ करने पर विशेष फल मिलता है. भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती है. जिन लोगों का बुध कमजोर होता है अगर वे भी इस दिन भगवान गणेश का पूजन करते हैं तो यह उनके लिए बहुत फायदेमंद होता है.

    बुधवार इस वजह से है गणेशजी का दिन
    पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जिस वक्त माता पार्वती के द्वारा भगवान गणेश जी की उत्पत्ति की गई थी उस वक्त बुध देव भी वहां मौजूद थे. इसी वजह से गणेश जी का प्रमुख वार बुधवार को माना जाने लगा.

    ऐसे करें बप्पा की पूजा

    – शांत, प्रसन्न मन से करें गणेशजी का पूजन.
    – पूजा के वक्त लड्डू, मोदक का भोग लगाएं.
    – बप्पा को दूर्वा अर्पित करें.
    – गणपति जी को लाल सिंदूर भी चढ़ाएं.
    – पूजन के बाद गणेशजी की आरती जरूर करें.

    इसे भी पढ़ें: Navratri 2021: नवरात्रि के 9 दिनों में इन नियमों का करें पालन, मां की बनी रहेगी कृपा

    गणेश जी के ये हैं विशेष मंत्र

    1. ‘ऊँ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्य कोटि समप्रभ
    निर्विघ्नं कुरू मे देव, सर्व कार्येषु सर्वदा।।’

    2. ‘ऊँ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुण्डाय धीमहि तन्नो दन्तिः प्रचोदयात्।’

    3. ‘त्रयीमयायाखिलबुद्धिदात्रे बुद्धिप्रदीपाय सुराधिपाय।
    नित्याय सत्याय च नित्यबुद्धि नित्यं निरीहाय नमोस्तु नित्यम्।।’

    इसे भी पढ़ें: Ganesh Utsav 2021: विघ्नहर्ता को तुलसी जी ने आखिर क्यों दिया था श्राप, जानें पूरी कहानी
    इसके अलावा बुधवार के दिन नियमित रुप से गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ करने से भी बहुत लाभ होता है. इस पाठ के नियमित अभ्यास से मन एकाग्रचित्त होता है. इसके साथ ही शांति एवं समृद्धि की प्राप्ति होती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज