Home /News /dharm /

Chandra grahan 2021: कल लगने वाला है साल का आखिरी चंद्रग्रहण, जानें इससे जुड़ी सारी बातें

Chandra grahan 2021: कल लगने वाला है साल का आखिरी चंद्रग्रहण, जानें इससे जुड़ी सारी बातें

19 नवंबर को सदी का सबसे बड़ा और सबसे लंबा चंद्र ग्रहण (Longest Lunar Eclipse of The Century) होगा. (Image: Shutterstock)

19 नवंबर को सदी का सबसे बड़ा और सबसे लंबा चंद्र ग्रहण (Longest Lunar Eclipse of The Century) होगा. (Image: Shutterstock)

Chandra Grahan 2021 date, time and details: साल 2021 के आखिरी चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse 2021) कल यानी 19 नवंबर 2021 को लगने जा रहा है. 19 नवंबर को लगने वाला चंद्रग्रहण इस साल का दूसरा और अंतिम चंद्रग्रहण है. हिंदू पंचांग के अनुसार, साल का आखिरी चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan)कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को लगेगा. चंद्र ग्रहण का धार्मिक दृष्टि से खास महत्व है. इस चंद्र ग्रहण का असर सभी राशियों पर देखने को मिलेगा. 19 नवंबर को लगने वाला चंद्र ग्रहण सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण है. इसलिए इस चंद्रग्रहण का खास महत्व है. 

अधिक पढ़ें ...

    Chandra Grahan 2021: हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार कार्तिक शुक्ल (Kartik Month 2021) पक्ष की पूर्णिमा तिथि यानी 19 नवंबर को सदी का सबसे बड़ा और सबसे लंबा चंद्र ग्रहण (Longest Lunar Eclipse of The Century) होगा. इस बार कार्तिक पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण का योग बन रहा है. आपको बता दें कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन लगने वाला वर्ष 2021 का आखिरी चन्द्र ग्रहण आंशिक रहेगा यानी इस चंद्र ग्रहण के दौरान सूतक नहीं लगेगा. हांलाकि, बहुत सारे लोग आंशिक व खंडग्रास ग्रहण चंद्र ग्रहण के दौरान भी ग्रहण से जुड़े नियमों का पालन करते हैं. माना जाता है कि पृथ्वी से नजदीक होने के कारण चंद्रमा का प्रभाव राशियों पर अधिक रहता है. इसके साथ ही चंद्रमा को जल का का भी कारक माना गया है. शरीर में जल की मात्रा अधिक होने के कारण चंद्रमा का प्रभाव अधिक रहता है.

    इसे भी पढ़ेंः Chandra Grahan 2021: 580 साल बाद लगेगा सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण, आखिर क्यों है इतना खास? जानें 5 वजह

    इसलिए इतना महत्वपूर्ण है यह चंद्रग्रहण
    आंशिक चंद्रग्रहण चंद्रमा और धरती के बीच अधिक दूरी की वजह से लंबे समय तक दिखेगा. इस बार आंशिक चंद्र ग्रहण की अवधि 3 घंटा 28 मिनट और 24 सेकंड रहेगी.

    इससे पहले इतना लंबा चंद्र ग्रहण 18 फरवरी 1440 को लगा था. इस तरह कह सकते हैं कि 580 साल बाद इतना लंबा चंद्र ग्रहण लने जा रहा है. अगला इतनी लंबी अवधि वाला चंद्र ग्रहण 8 फरवरी 2669 को होगा.

    19 नवंबर को लगने वाला चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लग रहा है. इस समय वृषभ राशि में राहु का गोचर हो रखा है इसलिए सदी के सबसे बड़े चंद्र ग्रहण का सबसे अधिक प्रभाव वृषभ राशि पर पड़ेगा.

    19 नवंबर को लगने वाले चंद्र ग्रहण को आंशिक ग्रहण माना जा रहा है और इसलिए सूतक नियमों का पालन नहीं किया जाएगा. सूतक काल पूर्ण ग्रहण की स्थिति में ही प्रभावी माना जाता है.

    अगला चंद्र ग्रहण 8 नवंबर 2022 को देखा जाएगा
    भारतीय समय के अनुसार चंद्रग्रहण 19 नवंबर को प्रातः 11:34 मिनट से आरंभ होगा और इसका समापन सायं 05:33 मिनट पर होगा. चंद्रग्रहण की कुल अवधि लगभग 05 घंटे 59 मिनट तक की होगी. इसके बाद भारत में अगला चंद्र ग्रहण 8 नवंबर 2022 को देखा जाएगा. 19 नवंबर के आंशिक चंद्र ग्रहण के दो सप्ताह बाद 4 दिसंबर 2021 पूर्ण सूर्य ग्रहण लगेगा. इससे पहले इतना लंबा चंद्रग्रहण 18 फरवरी 1440 को पड़ा था और अगला मौका 8 फरवरी, 2669 में आएगा.

    इसे भी पढ़ेंः Chandra Grahan 2021: क्या आप जानते हैं कितने प्रकार का होता है चंद्रग्रहण? जानें किसके क्या हैं मायने

    कैसे लगता है चंद्रग्रहण
    सूर्य की परिक्रमा के दौरान जब पृथ्वी, चांद और सूर्य के बीच में आ जाती है तब चांद धरती की छाया से छिप जाता है. यह तभी संभव है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा अपनी कक्षा में एक दूसरे की बिल्कुल सीध में हों. पूर्णिमा के दिन जब सूर्य और चंद्रमा की बीच पृथ्वी आ जाती है तो उसकी छाया चंद्रमा पर पड़ती है. इससे चंद्रमा का छाया वाला भाग अंधकारमय रहता है. इस स्थिति में जब हम धरती से चांद को देखते हैं तो वह भाग हमें काला दिखाई पड़ता है. इसी वजह से इसे चंद्र ग्रहण कहा जाता है.

    कितने प्रकार का होता है चंद्रग्रहण?

    1. उपच्छाया चंद्रग्रहण
    भारतीय ज्योतिष के अनुसार उपच्छाया चंद्रग्रहण पृथ्वी की छाया वाला माना जाता है जिसमें चन्द्रमा के आकार पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता. इसमें चांद की रोशनी में हल्का सा धुंधलापन आ जाता है जिसमें फर्क कर पाना मुश्किल होता है.

    2. आंशिक चंद्रग्रहण
    ज्योतिष के अनुसार आंशिक चंद्रग्रहण वो होता है जब सूरज और चांद के बीच पृथ्वी पूरी तरह न आकर पृथ्वी की छाया चांद के कुछ हिस्से पर पड़े. ऐसी स्थिति को आंशिक चंद्रग्रहण कहते हैं. यह लम्बे समय के लिए नहीं लगता लेकिन इसमें सूतक के सारे नियमों का पालन करना पड़ता है.

    3. पूर्ण चंद्रग्रहण
    पूर्ण चंद्रग्रहण में सूतक काल माना जाता है. इसमें ग्रहण लगने के समय से ठीक 12 घंटे पहले सूतक लग जाता है. जब चांद और सूरज के बीच पृथ्वी आ जाती है, इसमें पृथ्वी चांद को पूरी तरह से ढक लेती है. यह पूर्ण चंद्रग्रहण कहलाता है. इस समय चांद का रंग पूरी तरह से लाल नज़र आता है. इसमें चन्द्रमा के धब्बे भी साफ दिखाई देते हैं. इस तरह का ग्रहण 21 जनवरी 2019 में लगा था जिसे सुपर ब्लड मून के नाम से जाना जाता है. ज्योतिष के अनुसार पूर्ण चंद्रग्रहण सबसे प्रभावशाली माना जाता है. साथ ही इसका सभी राशियों पर अच्छा और बुरा प्रभाव देखने को मिलता है.

    चंद्र ग्रहण का समय (Chandra Grahan 2021 Timing in India)
    19 नवंबर 2021 को चंद्र ग्रहण प्रात: 11 बजकर 34 मिनट से आरंभ होगा और शाम 05 बजकर 33 मिनट पर समाप्त होगा.

    Chandra Grahan 2021 Don’ts- चंद्रग्रहण के दौरान न करें ये काम
    – भोजन पकाना या खाना-पीना वर्जित माना जाता है.
    – इस दौरान पूजा न करें और मंदिर के पट बंद कर दें.
    – ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए.
    – ग्रहण के समय गर्भवती महिलाएं घर से बाहर न निकलें.
    – इस दौरान पेड़-पौधे नहीं छूना चाहिए.
    ग्रहण शुरु होने से पहले खाने-पीने की चीजों में तुलसी के पत्ते डाल दें.
    – ग्रहण के दौरान आप भगवान का नाम जप और मंत्रों का जाप कर सकते हैं.
    – ग्रहण के बाद घर की साफ-सफाई करें. गंगा जल छिड़कें और नहाएं.
    – इसके बाद अन्न दान करें.

    देश के किन-किन शहरों में दिखाई देगा चंद्रग्रहण
    इस बार जो चंद्रग्रहण लग रहा है, वह भारत के कुछ ही शहरों में यह दिखाई देगा. चंद्र ग्रहण केवल उन्हीं जगहों पर दिखाई देता है, जहां चंद्रमा आकाश के घेरे में यानी क्षितिज के ऊपर होता है. 19 नवंबर को लगने वाला चंद्रग्रहण असम और अरुणाचल प्रदेश सहित भारत के पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों को दिखाई दे सकता है. इसके अलावा ये उत्तर और दक्षिण अमेरिका, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत क्षेत्र में देखा जा सकेगा. यूएस ईस्ट कोस्ट में आंशिक चंद्र ग्रहण रात 2 बजे के बाद शुरू होगा, जो सुबह 4 बजे चरम पर होगा. वहीं वेस्ट कोस्ट में रात 11 बजे के बाद शुरू होगा और रात 1 बजे चरम पर होगा.

    चंद्र ग्रहण किस राशि और किस नक्षत्र में लग रहा है?
    पंचांग के अनुसार इस बार का चंद्र ग्रहण वृषभ राशि और कृत्तिका नक्षत्र में लग रहा है.

    Tags: Chandra Grahan, Religious, धर्म

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर