Magh Purnima 2021: कब है माघ पूर्णिमा, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और स्नान का महत्व

विनायक चतुर्थी के दिन चंद्र देव के दर्शन से ही व्रत पूर्ण होता है.

विनायक चतुर्थी के दिन चंद्र देव के दर्शन से ही व्रत पूर्ण होता है.

Magh Purnima 2021: माघ पूर्णिमा के दिन शुभ मुहूर्त में पूजन और ईश्वर का ध्यान करना अति उत्तम माना जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 11:42 AM IST
  • Share this:
Magh Purnima 2021: हिन्दू धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व होता है. कहा जाता है कि इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने, दान और ध्यान करने से पुण्य फलों की प्राप्ति होती है. वैसे तो साल में 12 पूर्णिमा तिथियां होती हैं जिसमें पूर्ण चंद्रोदय होता है लेकिन माघ महीने की पूर्णिमा का अपना अलग महत्व है. माघ महीने की पूर्णिमा को माघी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन लोग पवित्र नदियों और मुख्य रूप से गंगा नदी में स्नान करते हैं. साथ ही इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है. आइए आपको बताते हैं कब है माघ पूर्णिमा और क्या है इसका महत्व.

कब है माघ पूर्णिमा

हिन्दू मान्यतानुसार पूर्णिमा तिथि को बेहद शुभ माना जाता है. हर मास के शुक्ल पक्ष की अंतिम तिथि को पूर्णिमा तिथि होती है और उसी तिथि से नए माह की शुरुआत होती है. इस साल माघ मास की पूर्णिमा 27 फरवरी 2021 (शनिवार) को है. इस दिन दान पुण्य और स्नान करने का विशेष महत्व होता है. कहा जाता है कि माघी पूर्णिमा या माघ पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा अपनी पूर्ण कलाओं के साथ उदित होता है.

इसे भी पढ़ेंः क्या है भगवान विष्णु के कूर्म अवतार का रहस्य, समुद्र मंथन से जुड़ा है संबंध
माघ पूर्णिमा शुभ मुहूर्त

माघ पूर्णिमा के दिन शुभ मुहूर्त में पूजन और ईश्वर का ध्यान करना अति उत्तम माना जाता है. इस साल माघ पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त इस प्रकार है-

माघ पूर्णिमा आरंभ- 26 फरवरी 2021 (शुक्रवार) को दोपहर 03 बजकर 49 मिनट से.



माघ पूर्णिमा समाप्त- 27 फरवरी 2021 (शनिवार) दोपहर 01 बजकर 46 मिनट पर.

उदया तिथि 27 फरवरी को है, इसलिए इस दिन मुख्य रूप से पूर्णिमा तिथि मनाई जाएगी और इसी दिन नदियों में स्नान से पुण्य की प्राप्ति होगी.

पवित्र नदियों में स्नान क्यों है शुभ

कहा जाता है कि इस दिन पवित्र नदी जैसे गंगा में स्नान करने से और दान पुण्य करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. इसी वजह से माघ पूर्णिमा के दिन काशी, प्रयागराज और हरिद्वार जैसे तीर्थ स्थानों में स्नान करने का विशेष महत्व बताया गया है. हिन्दू मान्यता के अनुसार माघ पूर्णिमा पर स्नान करने वाले लोगों पर भगवान विष्णु मुख्य रूप से प्रसन्न होते हैं और उन्हें सुख सौभाग्य और धन-संतान तथा मोक्ष प्रदान करते हैं.

इसे भी पढ़ेंः सूर्यदेव के नामों के पीछे छिपी हैं ये पौराणिक कथाएं, जानें क्यों कहा जाता है उन्हें 'दिनकर'

माघ पूर्णिमा का महत्व

कहा जाता है कि माघ पूर्णिमा में चन्द्रमा अपनी संपूर्ण कलाओं से भरा होता है. इसलिए इस दिन पूजन अत्यंत लाभकारी होता है. माघ पूर्णिमा में विशेष रूप से भूखे और गरीबों को भोजन कराएं जिससे आपको पुण्य की प्राप्ति हो सके. किसी भी पवित्र नदी में स्नान करें. कहा जाता है इस दिन गंगा स्नान से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है. माघ पूर्णिमा की पूर्णिमा पर चंद्रमा मघा नक्षत्र और सिंह राशि में होता है. इसलिए यह माघ मास कहलाता है और इसकी पूर्णिमा अत्यंत फलदायी होती है. इस तिथि को भगवान विष्णु का वास नदियों में होता है, इसलिए स्नान का विशेष महत्व बताया गया है. इस दिन गंगा स्नान करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज