होम /न्यूज /धर्म /रीछराज जामवंत ने भगवान श्रीकृष्ण से क्यों किया युद्ध? जानें वजह

रीछराज जामवंत ने भगवान श्रीकृष्ण से क्यों किया युद्ध? जानें वजह

श्रीकृष्ण ने द्वंदयुद्ध में जामवंत को हराया था.

श्रीकृष्ण ने द्वंदयुद्ध में जामवंत को हराया था.

जामवंत अग्निपुत्र थे. वह महाबलशाली रीछ थे. सतयुग में उनका जन्‍म देवासुर संग्राम के समय हुआ. श्रीहरि के वामन अवतार के सम ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

जामवंत सतयुग-त्रेता और द्वापर तीन महायुगों तक जीवित रहे.
वह अपने जीवन में केवल श्रीकृष्ण से ही मल्‍लयुद्ध हारे थे.
जामवंत ने देवासुर संग्राम में भी राक्षसों को धूल चटाई थी.

Mahabharat Katha: जामवंत के बारे में आपने पुराणों में कभी पढ़ा क्या? जामवंत अत्यंत बलशाली थे. वह रीछों के राजा थे, रीछों को अब भालू कहा जाता है. रामायण में वर्णन है कि जामवंत वानरराज सुग्रीव की ओर से श्रीराम की सेना का हिस्सा रहे. उन्हें हनुमान जी के प्रति बहुत स्नेह था. वह यह जानते थे कि हनुमानजी असल में कौन हैं और कितने सक्षम हैं. जामवंत स्वयं भी दीर्घायु थे, जो सतयुग-त्रेता और द्वापर तीन महा युगों तक जीवित रहे. द्वापर में उन्होंने श्रीकृष्ण से भी कुश्ती लड़ी.

वाल्मीकि रामायण में जामवंत के बल-बुद्धि और पुरुषार्थ पर चौपाइयां हैं. उसी तरह श्रीकृष्ण की लीलाओं को दर्शाने वाले धर्म-ग्रंथ ‘प्रेम सागर’ में भी जामवंत का पाठ आता है. जामवंत को जाम्बवंत, जामुवन (Jambavan), जामवंता, जाम्बावान, सम्बुवन आद‍ि नामों से भी जाना गया. रामायण काल त्रेता में आया, तब तक जामवंत वृद्ध हो चुके थे. उनमें इतना सामर्थ्य नहीं बचा था, जितना युवावस्था में था. यह बात उन्होंने खुद बताई.

जब लाखों वानर-भालू मां सीता की खोज में विभिन्न दिशाओं में भेजे गए, तब दक्षिण दिशा वाले दल में जामवंत भी हनुमान, अंगद, नल व नील के साथ थे. जहां जामवंत ने ही हनुमान जी को उनकी शक्ति-सामर्थ्य की याद दिलाई. युद्ध में रावण के अनेकों राक्षस भी मारे.

यह भी पढ़ें: कैसे होने चाहिए नए घर के मुख्यद्वार? जानें क्या कहता है वास्तुशास्त्र

यह भी पढ़ें: शनि देव की बहन हैं भद्रा, जानें भद्रा काल में किन कार्यों को करना है वर्जित

रामजी की विजय हुई. उसके बाद अगले जन्‍म में राम द्वापर युग में श्रीकृष्ण के रूप में अवतरित हुए. तब स्यमंतक मणि को लेकर जामवंत की श्रीकृष्ण से ठन गई. दोनों में 27 दिन तक जोर-आजमाइश चलती रही. जामवंत अपने जीवन में केवल कृष्ण से ही हारे, तब उन्‍हें भरोसा हुआ कि वह भगवान (राम) हैं. उसके बाद जामवंत ने अपनी पुत्री का श्रीकृष्ण से विवाह कराया.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Religious

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें