होम /न्यूज /धर्म /Mahabharat: युद्ध में भीष्म ने गुरु परशुराम को हरा दिया था, परपोते अर्जुन को क्यों नहीं हरा पाए?

Mahabharat: युद्ध में भीष्म ने गुरु परशुराम को हरा दिया था, परपोते अर्जुन को क्यों नहीं हरा पाए?

भीष्म ने एक प्रतिज्ञा ली थी कि वह खुद शादी नहीं करेंगे और राजा भी नहीं बनेंगे.

भीष्म ने एक प्रतिज्ञा ली थी कि वह खुद शादी नहीं करेंगे और राजा भी नहीं बनेंगे.

भीष्म ने एक ऐसी प्रतिज्ञा ली थी, जिसके कारण इतिहास बदल गया. उनका अपने ही गुरु से युद्ध हुआ. उसके बाद महाभारत युद्ध में ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भीष्म ने 21 दिनों तक अपने ही गुरु परशुराम से युद्ध किया था.
भीष्म को इच्छा मृत्यु का वरदान था.

Mahabharat: भीष्म पितामह का नाम भारतीय पौराणिक इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण शख्सियतों में लिया जाता है. वह द्वापर युग में जन्‍मे थे. उनका जन्‍म हस्तिनापुर में तब हुआ था- जब महाराजा शांतनु से गंगाजी ने विवाह किया. गंगाजी की कोख से ही भीष्‍म जन्‍मे. जब गंगाजी अपनी शर्त-वश शान्तनु को छोड़कर चली गई थीं तो भीष्‍म को उन्‍हें सौंप गई थीं.

भीष्म का मूल नाम देवव्रत था. वह पितृभक्त थे. इसके साथ ही वह गुरु भक्त भी थे. परशुराम जी उनके गुरु थे. भीष्‍म ने एक ऐसी प्रतिज्ञा ली थी, जो बहुत दुष्कर थी. जब गंगाजी अपनी शर्त-वश शान्तनु को छोड़कर चली गई थीं तो शान्तनु दुर्बल होने लगे थे.

भीष्म प्रतिज्ञा
भीष्म से पिता का दुख देखा नहीं गया और उन्‍होंने सत्‍यवती नाम की युवती से पिता का विवाह कराया. उस दौरान भीष्म ने एक भीषण प्रतिज्ञा ले ली थी कि वह खुद शादी नहीं करेंगे और राजा भी नहीं बनेंगे. उनकी इस प्रतिज्ञा से धरती कांपने लगी. तब राजा शान्तनु ने पुत्र को इच्छामृत्यु का वर दिया. उन्होंने भीष्‍म से कहा ‘जब तक तुम खुद न चाहो, मृत्यु नहीं आएगी’. महाभारत ग्रंथ में इसका वर्णन है.

यह भी पढ़ें: कैसे होने चाहिए नए घर के मुख्यद्वार? जानें क्या कहता है वास्तुशास्त्र

यह भी पढ़ें: शनि देव की बहन हैं भद्रा, जानें भद्रा काल में किन कार्यों को करना है वर्जित

भीष्म का परशुराम से युद्ध
भीष्‍म की प्रतिज्ञा के कारण ही परशुराम जी से उनका युद्ध हुआ. दोनों के बीच 21 दिनों तक द्वंद युद्ध चला था. परशुराम जी अनेक अस्‍त्रों के ज्ञाता थे, लेकिन वे भीष्म को परास्त नहीं कर पाए. अंत में परशुराम जी को ही युद्धभूमि से हटना पड़ा.

अर्जुन से नहीं जीत सके भीष्म
गुरु से युद्ध के बाद भीष्‍म का मान और बढ़ गया था. हालांकि, आगे चलकर जब भीष्‍म का अपने ही वंश में जन्‍मे अर्जुन से सामना हुआ तो वे अर्जुन को नहीं हरा पाए. अर्जुन भीष्म को पितामह कहते थे. भीष्‍म के ही मित्र द्रोणाचार्य अर्जुन के गुरु थे. उन्‍होंने कहा था कि अर्जुन सर्वश्रेष्ठ धर्नुधारी होगा. इसके अलावा अर्जुन श्रीकृष्ण की शरण में थे, इसलिए भीष्म अर्जुन से हार गए.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Religious

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें