Mahalaxmi Vrat 2020: मां लक्ष्मी की पूजा से घर में होगी शांति, पढ़ें महालक्ष्मी की आरती

Mahalaxmi Vrat 2020: मां लक्ष्मी की पूजा से घर में होगी शांति, पढ़ें महालक्ष्मी की आरती
मां लक्ष्मी की पूजा करने से वह प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों को सुख-समृद्धि का वरदान देती हैं.

मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) की पूजा करने से घर में शांति (Peace) बनी रहती है और हर मनोकामना पूरी होती है. महालक्ष्मी (Mahalakshmi) की पूजा करने और कथा सुनने के बाद उनकी आरती जरूर करनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 6:16 PM IST
  • Share this:
महालक्ष्मी व्रत २०२० (Mahalaxmi Vrat 2020): आज 25 अगस्त को महालक्ष्मी व्रत है. महालक्ष्मी व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को होता है. माता महालक्ष्मी (Mahalaxmi Vrat 2020) का व्रत आज (भाद्रपद शुक्ल अष्टमी ) से शुरू होकर 16 दिनों तक यानी कि आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि तक रहेगा. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, महालक्ष्मी व्रत के दिन मां की पूजा अर्चना से घर में धन के भण्डार भरे रहते हैं और किसी चीज की कमी नहीं होती है. इस दिन दूर्वा घास की पूजा की जाती है. मां लक्ष्मी की पूजा करने से वह प्रसन्न (Happy) होती हैं और अपने भक्तों को सुख-समृद्धि का वरदान देती हैं. साथ ही भक्तों पर धन (Wealth) की वर्षा करती हैं. मां लक्ष्मी की पूजा करने से घर में शांति बनी रहती है और हर मनोकामना पूरी होती है. महालक्ष्मी की पूजा करने और कथा सुनने के बाद उनकी आरती जरूर करनी चाहिए.

पढ़ें मां लक्ष्मी की आरती

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन * सेवत हरि विष्णु विधाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2



उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता
सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता
सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता
उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुमको निशदिन सेवत,
मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता
ॐ जय लक्ष्मी माता-2 (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज