Mahananda Navami Katha: मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए महानंदा नवमी व्रत में पढ़ें ये कथा

महानंदा नवमी व्रत की कथा

महानंदा नवमी व्रत की कथा

Mahananda Navami Katha- जो मनुष्य महानंदा नवमी के दिन यह व्रत रखकर श्री लक्ष्मी देवी का पूजन-अर्चन करता है उनके घर स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है तथा दरिद्रता से मुक्ति मिलती है तथा दुर्भाग्य दूर होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 10:17 AM IST
  • Share this:
Mahananda Navami Katha- आज महानंदा नवमी व्रत है. यह व्रत धन की देवी मां लक्ष्मी को समर्पित माना जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, आज के दिन जो जातक सच्चे हृदय से मां लक्ष्मी का यह व्रत रखता है उसके जीवन में यश, धन एवं वैभव सदा बना रहता है. माना जाता है कि आज के दिन जो जातक दान-पुण्य करता है उसे मृत्यु के पश्चात विष्णु लोक की प्राप्ति होती है. आइए पढ़ें महानंदा नवमी व्रत की कथा...

महानंदा नवमी व्रत की कथा:

पौराणिक कथा के अनुसार एक समय की बात है कि एक साहूकार की बेटी पीपल की पूजा करती थी. उस पीपल में लक्ष्मीजी का वास था. लक्ष्मीजी ने साहूकार की बेटी से मित्रता कर ली. एक दिन लक्ष्मीजी ने साहूकार की बेटी को अपने घर ले जाकर खूब खिलाया-पिलाया और ढेर सारे उपहार दिए. जब वो लौटने लगी तो लक्ष्मीजी ने साहूकार की बेटी से पूछा कि तुम मुझे कब बुला रही हो?

इसे भी पढ़ें: Mahananda Navami 2021 Date: महानंदा नवमी कब है? जानें तारीख, पूजा विधि एवं महालक्ष्मी स्तुति
अनमने भाव से उसने लक्ष्मीजी को अपने घर आने का निमंत्रण तो दे दिया किंतु वह उदास हो गई. साहूकार ने जब पूछा तो बेटी ने कहा कि लक्ष्मीजी की तुलना में हमारे यहां तो कुछ भी नहीं है. मैं उनकी खातिरदारी कैसे करूंगी?

साहूकार ने कहा कि हमारे पास जो है, हम उसी से उनकी सेवा करेंगे.

फिर बेटी ने चौका लगाया और चौमुख दीपक जलाकर लक्ष्मीजी का नाम लेती हुई बैठ गई. तभी एक चील नौलखा हार लेकर वहां डाल गया.



उसे बेचकर बेटी ने सोने का थाल, साल दुशाला और अनेक प्रकार के व्यंजनों की तैयारी की और लक्ष्मीजी के लिए सोने की चौकी भी लेकर आई. थोड़ी देर के बाद लक्ष्मीजी गणेशजी के साथ पधारीं और उसकी सेवा से प्रसन्न होकर सब प्रकार की समृद्धि प्रदान की.

अत: जो मनुष्य महानंदा नवमी के दिन यह व्रत रखकर श्री लक्ष्मी देवी का पूजन-अर्चन करता है उनके घर स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है तथा दरिद्रता से मुक्ति मिलती है तथा दुर्भाग्य दूर होता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज