लाइव टीवी

Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति पर इस समय करें स्नान-दान, है अद्भुत मुहूर्त

News18Hindi
Updated: January 14, 2020, 2:36 PM IST
Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति पर इस समय करें स्नान-दान, है अद्भुत मुहूर्त
मकर संक्रांति पर इस समय करें स्नान-दान, है अद्भुत मुहूर्त

मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2020): भ समय में स्नान दान करने से यश और धन, संपदा में वृद्धि होगी. इस दिन शुभ मुहूर्त में गंगा स्नान करने वाले जातकों को पाप से मुक्ति मिलेगी और पुण्य फल की प्राप्ति होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 2:36 PM IST
  • Share this:
मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2020): मकर संक्रांति 15 जनवरी, बुधवार को मनाई जाएगी. मकर संक्रांति के दिन गंगा स्नान का काफी महत्व है. मान्यता है कि इस दिन गंगा स्नान करने से सारे पाप कट जाते हैं और लोग पुण्य के भागी होते हैं. गंगा स्नान के बाद लोग सूर्य को अर्घ्य देते हैं और विधिवत तरीके से पूजा-अर्चना करते हैं. मकर संक्रांति के दिन तिल, खिचड़ी, अन्न और धन दान करने का भी विशेष महत्व है. इस दिन कई लोग संगम में पवित्र डुबकी लगाने के लिए प्रयागराज में भी आते हैं. साथ ही इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है जिससे कि खरमास समाप्त हो जाता है. आइए जानते हैं इस मकर संक्रांति पर स्नान और दान का शुभ मुहूर्त...

मकर संक्रांति के दिन स्नान और दान का शुभ मुहूर्त...
मकर राशि की शुरुआत 15 जनवरी बुधवार को सुबह 7:54 बजे से होगी. इस समय से लेकर शाम को सूरज डूबने तक आप किसी भी समय स्नान और दान कर सकते हैं. इस मकर संक्रांति पर शोभन योग, स्थिर योग के साथ गुरु और मंगल स्वराशि योग एक साथ बन रहे हैं जिस वजह से संक्रांति का महत्व काफी बढ़ जाता है. बुधादित्य योग को काफी शुभ फल देने वाला माना जाता है. सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने से खरमास तो खत्म होगा ही शुभ काम भी शुरू हो जाएंगे. साथ ही इस शुभ समय में स्नान दान करने से यश और धन, संपदा में वृद्धि होगी. इस दिन शुभ मुहूर्त में गंगा स्नान करने वाले जातकों को पाप से मुक्ति मिलेगी और पुण्य फल की प्राप्ति होगी.

इसे भी पढ़ें : Makar Sankranti 2020 Date: इस बार भी 14 की जगह 15 जनवरी को है मकर संक्रांति, जानिए क्या है वजह

मुंडन संस्कार का भी है धार्मिक महत्व:
हिंदू धर्म में मुंडन संस्कार का काफी धार्मिक महत्व है. इस दिन माघ मेले पर प्रयागराज में आने वाले कई लोग मकर संक्रांति पर गंगा में डुबकी लगाने के बाद मुंडन संस्कार भी कराते हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, कुरुक्षेत्र में दान, काशी में देह त्याग, गया जी में पूर्वजों के पिंडदान और प्रयागराज में मुंडन संस्कार का अपना ही अलग महत्व है. ऐसा भी माना जाता है कि इसमें से कोई भी संस्कार यदि अधूरा है तो सारा पूजा पाठ और कर्मकांड पूरा नहीं माना जाएगा.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 2:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर