Home /News /dharm /

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर्व आज, यह है स्नान और दान का सही मुहूर्त, जानें विधि

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर्व आज, यह है स्नान और दान का सही मुहूर्त, जानें विधि

मकर संक्रांति 2022 स्नान दान का मुहूर्त

मकर संक्रांति 2022 स्नान दान का मुहूर्त

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति का पर्व आज मनाया जा रहा है. आज मकर सं​​क्रांति पर स्नान (Snan) और दान (Daan) के लिए सही मुहूर्त (Muhurat) क्या है? आइए जानते हैं इसके बारे में.

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति का पर्व आज मनाया जा रहा है. आज के दिन सूर्य देव (Surya Dev) धनु राशि से​ निकलकर मकर राशि में प्रवेश करेंगे. यही मकर संक्रांति कहलाता है. आज के दिन स्नान करते हैं और सूर्य देव की पूजा करते हैं. उसके बाद दान दिया जाता है. फिर पूजा के बाद तिल के लडडू, मूंगफली, लाई, रेवड़ी, खिचड़ी और दही-चूड़ा खाने की परंपरा है. इस बार मकर संक्रांति पर तारीखों को लेकर स्पष्टता नहीं थी. हालांकि 14 जनवरी और 15 जनवरी दोनों ही दिन मकर संक्रांति का पर्व मनाया जा रहा है. आज मकर सं​​क्रांति पर स्नान (Snan) और दान (Daan) के लिए सही मुहूर्त (Muhurat) क्या है? आइए जानते हैं इसके बारे में.

Makar Sankranti 2022 Date, Time, Puja Shubh Muhurat in India 

मकर संक्रांति 2022 शुभ मुहूर्त
दृक पंचांग के अनुसार, आज 14 जनवरी को मकर संक्रांति का क्षण मकर दोपहर 02:43 बजे है. इस समय पर सूर्य का मकर राशि में प्रवेश होगा. इसका पुण्य काल दोपहर 02:43 बजे से शाम 05:45 बजे तक है. वहीं मकर संक्रांति का महा पुण्य काल दोपहर 02:43 बजे से शाम 04:28 बजे तक है.

यह भी पढ़ें: मकर संक्रांति पर क्यों करते हैं गंगा स्नान? पढ़ें यह पौराणिक कथा

मकर संक्रांति 2022 Sanan Time
मकर संक्रांति को स्नान और दान के लिए मुहूर्त 6 घंटा पूर्व से प्रारंभ हो जाएगा. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, 6 घंटा पूर्व पुण्य काल मान्य होता है. ऐसे में आप सुबह 08:43 से मकर संक्रांति का स्नान और दान कर सकते हैं. इस समय में रोहिणी नक्षत्र और शुक्ल योग बना हुआ है. ये दोनों ही दान पुण्य के लिए ठीक माने जाते हैं.

मकर संक्रांति 2022 Daan Dhashina/दान विधि 
आज स्नान के बाद आप सूर्य देव को जल अर्पित करें. फिर काला तिल, तिल के लड्डू, चावल, सब्जियां, दाल, नमक, हल्दी आदि दान की वस्तुएं रख लें. फिर हाथ में जल लेकर सूर्य देव को साक्षी मानकर कहें कि जिस प्रकार से आज से आपके प्रभाव में वृद्धि हो रही है, उस प्रकार से मेरे भी जीवन में धन—धान्य, यश और कीर्ति में वृद्धि हो. आज मकर संक्रांति पर यह वस्तुएं दान कर रहा हूं. हे सूर्य देव और शनि देव मेरी प्रार्थना स्वीकार करें और मेरे कष्टों और दुखों को दूर करके अपनी कृपा सदा बनाएं रखें.

यह भी पढ़ें: मकर संक्रांति पर भूलवश भी न करें ये 3 काम, जानें क्या हैं जरूरी कार्य

मकर राशि के स्वामी शनि देव हैं. सूर्य देव शनि की राशि में प्रवेश करते हैं. ऐसी मान्यता है कि सूर्य देव शनि देव से मिलने उनके घर जाते हैं. ऐसे में पूजा के समय सूर्य देव और शनि देव का ध्यान करना उत्तम है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Makar Sankranti

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर