लाइव टीवी

शाम को बाबा भोलेनाथ के इस मंत्र का करें जाप, तन-मन दोनों रहेगा शांत

News18Hindi
Updated: March 21, 2020, 4:02 PM IST
शाम को बाबा भोलेनाथ के इस मंत्र का करें जाप, तन-मन दोनों रहेगा शांत
भोलेनाथ के इस मंत्र का जाप करने से खोया हुआ आत्मविश्वास लौट आता है.

मान्यताओं के अनुसार, भोलेनाथ का ये मंत्र तन और मन दोनों की शांति के लिए अच्छा माना जाता है. इस मंत्र से मनुष्य के शरीर से नकारात्मक शक्तियां खत्म हो जाती हैं और मन में सकारात्मक विचार आते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2020, 4:02 PM IST
  • Share this:
देवों के देव महादेव की लीलाएं अपरंपार है. शास्त्रों में महादेव के गौरव, शांत स्वभाव, नीले कंठ और उनकी महिमाओं को वर्णन है. ऐसा कहा जाता है कि बाबा भोलेनाथ बहुत ही भोले हैं और उनके स्मरण मात्र से ही सभी कष्ट मिट जाते हैं. निराकार शिव हो या साकार शंकर दोनों का स्मरण दु:खों का शमन करने वाला माना गया है.

आजकल के बदलते युग में कई कारणों से मनुष्यों के बीच तनाव-दवाब के कई ऐसे मौके आते हैं, जिससे दिमाग बिल्कुल थक सा जाता है. दिमाग सही और गलत की पहचान तक नहीं कर पाता है. ऐसे ही मुश्किल वक्त का सामना करने व दिमाग को शांत, स्थिर और टेंशन से मुक्त रखने के लिए शिव का एक मंत्र बड़ा ही सुखद माना गया है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस मंत्र का नियमित तौर पर जाप किया जाए तो तन और मन दोनों की शांत हो जाते हैं. भोलेनाथ के इस मंत्र का जाप करने से खोया हुआ आत्मविश्वास लौट आता है. आइए जानते हैं भगवान भोलेनाथ का यह मंत्र और कब करें इसका जाप.
इसे भी पढ़ें : Mahamrityunjaya Mantra: सभी कष्टों से मुक्ति दिलाता है 'महामृत्युंजय मंत्र', मन को मिलती है शांति

 



शाम के वक्त करें इस मंत्र का जाप

शास्त्रा अनुसार भोलेनाथ के इस मंत्र का जाप शाम के वक्त ही करना चाहिए. सूर्यास्त के बाद हाथों और पैरों को अच्छे से धो लें. इसके बाद मंदिर के सामने बैठ जाएं और घी का दीपक जलाएं. भोलेनाथ के नाम का स्मरण करते हुए इस मंत्र का जाप करें.
वन्दे देवमुमापतिं सुरगुरुं वन्दे जगत्कारणं.
वन्दे पन्नगभूषणं मृगधरं वन्दे पशूनांपतिम्..
वन्दे सूर्य-शशाङ्क-वह्निनयनं वन्दे मुकुन्दप्रियं.
वन्दे भक्तजनाश्रयञ्च वन्दे शिवं शङ्करम्..

108 बार इस मंत्र का जाप करने के बाद भोलेनाथ से आशीर्वाद की प्रार्थना करते हुए इसे संपन्न करें. इसके बाद भोग लगाएं और परिवार के सभी सदस्यों में प्रसाद बांटे.

मन और तन दोनों होंगे शांत

मान्यताओं के अनुसार, भोलेनाथ का ये मंत्र तन और मन दोनों की शांति के लिए अच्छा माना जाता है. इस मंत्र से मनुष्य के शरीर से नकारात्मक शक्तियां खत्म हो जाती हैं और मन में सकारात्मक विचार आते हैं.

 

 

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 21, 2020, 3:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर