Masik Shivratri 2020: मासिक शिवरात्रि का सटीक मुहूर्त जानें, पढ़ें व्रत कथा

मासिक शिवरात्रि  पर भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए पढ़ें कथा
मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए पढ़ें कथा

मासिक शिवरात्रि (Masik Shivratri 2020): मान्यताओं के अनुसार, महा शिवरात्रि के दिन आधी रात में भगवान शिव लिङ्ग के रूप में उत्पन्न हुए थे. भगवान विष्णु और ब्रह्माजी ने सबसे पहली बार मासिक शिवरात्रि के दिन शिव लिङ्ग की आराधना की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 6:39 AM IST
  • Share this:
मासिक शिवरात्रि (Masik Shivratri 2020): आज अधिक मास की मासिक शिवरात्रि है. मासिक शिवरात्रि का पर्व शिव भक्तों के लिए बेहद ख़ास है. भक्त आज शिवलिंग पर दूध, जल और बेलपत्र चढ़ाएंगे. हर माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि कहा हाता है. अधिकमास में पड़ने वाली मासिक शिवरात्रि का विशेष महत्त्व है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महा शिवरात्रि के दिन आधी रात में भगवान शिव लिङ्ग के रूप में उत्पन्न हुए थे. भगवान विष्णु और ब्रह्माजी ने सबसे पहली बार मासिक शिवरात्रि के दिन शिव लिङ्ग की आराधना की थी. भोले शंकर भगवान शिव सबसे जल्दी प्रसन्न होने वाले भगवान माने जाते हैं. भगवान शिव अपने भक्तों पर विशेष कृपा करते हैं. आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि का शुभ मुहूर्त, कथा और महत्त्व.

आश्विन, कृष्ण चतुर्दशी
मासिक शिवरात्रि प्रारम्भ –रात्रि  08:33, अक्टूबर 15
मासिक शिवरात्रि समाप्त – दोपहर 04:52, अक्टूबर 16
मासिक शिवरात्रि की व्रत कथा (Masik Shivratri Vrat Katha):



पौराणिक कथाओं के अनुसार, शिव जी महाशिवरात्रि के दिन मध्य रात्रि के समय शिवलिंग के रूप में प्रकट हुए थे. उनके शिवलिंग में प्रकट होने के बाद सबसे पहले उनकी पूजा भगवान ब्रह्मा और भगवान विष्णु ने की थी. तब से लेकर आज तक इसी दिन भगवान शिव का जन्मदिवस बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. पुराणों में भी शिवरात्रि पर किए जाने ल्रत का जिक्र किया गया है. शास्त्रों के अनुसार, माता लक्ष्मी, मां सरस्वती, गायत्री, सीता, पार्वती जैसे देवियों ने भी अपने जीवन के उद्धार के लिए शिवरात्रि का व्रत किया था. मासिक शिवरात्रि से सुख और शांति प्राप्त होती है. माना जाता है कि यह व्रत संतान प्राप्ति, रोगों से मुक्ति पाने के लिए भी किया जाता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज