होम /न्यूज /धर्म /Muharram 2021: हज़रत इमाम हुसैन की शहादत की याद में होता है मुहर्रम

Muharram 2021: हज़रत इमाम हुसैन की शहादत की याद में होता है मुहर्रम

मुहर्रम में युद्ध करना हराम माना जाता है.

मुहर्रम में युद्ध करना हराम माना जाता है.

Muharram 2021: मुहर्रम का महीना इस्लामिक कैलेंडर (Islamic Calendar) का पहला महीना है. इस महीने में दुनिया भर में कर्बला ...अधिक पढ़ें

    Muharram: नए इस्लामी साल की शुरुआत मुहर्रम से होती है. मुहर्रम का महीना इस्लामिक कैलेंडर (Islamic Calendar) का पहला महीना है. इस महीने की बहुत अहमियत समझी जाती है. इस माह के 10वें दिन आशुरा मनाया जाता है. यह इस्लाम मजहब का प्रमुख महीना है. इस महीने में दुनिया भर में कर्बला (Karbala is A City In Central Iraq) के शहीदों की याद में सभाएं होती हैं और जुलूस निकाले जाते हैं. मुहर्रम अंतिम पैगंबर हज़रत मुहम्मद साहब (Prophet Hazrat Muhammad Sahab) के नवासे इमाम हुसैन और उनके साथियों की शहादत की याद में होता है. दुनिया भर में मुसलमान मुहर्रम की 9 और 10 तारीख को रोज़ा रखते हैं और मस्जिदों, घरों में इबादत करते हैं.

    इसलिए मनाते हैं मुहर्रम
    कर्बला, जहां यज़ीद मुसलमानों का ख़लीफ़ा बन बैठा था. वह पूरे अरब में अपना वर्चस्व फैलाना चाहता था, जिसके लिए उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती इमाम हुसैन थे, जो किसी भी परिस्थिति में यज़ीद के आगे झुकने को तैयार नहीं थे. इससे यज़ीद के अत्याचार बढ़ने लगे. ऐसे में इमाम हुसैन अपने परिवार और साथियों के साथ मदीना से इराक के शहर कूफा जाने लगे. मगर रास्ते में यज़ीद की सेना ने कर्बला के रेगिस्तान में इमाम हुसैन के कारवां को रोका और फिर यहां इमाम हुसैन की शहादत की दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी. उस दिन से मुहर्रम इमाम हुसैन और उनके साथियों की शहादत के रूप में होता है.

    ये भी पढ़ें – दुनिया की सबसे खूबसूरत और ऐतिहासिक मस्जिदें, जानें ये क्‍यों हैं खास

    जीने का तरीका सिखाता है यह महीना
    मुहर्रम इस्लामिक कैलेंडर का पहला महीना है, जो कई मायनों में खास है. इस महीने को लेकर इतिहास में कई विशेषताएं दर्ज हैं लेकिन हज़रत इमाम हुसैन ने जिस तरह झूठ के आगे झुकने से इंकार करते हुए सच्‍चाई को कायम रखा, यह हमें जीने का सही तरीका सिखाता है. मुहर्रम, जिसका अर्थ है हराम यानी निषिद्ध. इस महीने का नाम मुहर्रम रखने का कारण यह है कि इस महीने में युद्ध करना हराम माना जाता है यानी मना है. कर्बला की घटना दुनिया की सबसे बड़ी घटनाओं में से एक है जिसे आज भी 1400 साल गुजरने के बाद भी याद किया जाता है और इसका प्रभाव जरा भी कम नहीं हुआ है. इस तरह मुहर्रम मातम और गम का महीना है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Islam, Muharram, Muslim religion, New year, Religion, Religious

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें