Navratri 2020: पाकिस्तान के हिंगलाज माता मंदिर में हिंदू-मुस्लिम दोनों झुकाते हैं सिर, बेहद ख़ास होती है नवरात्रि

पाकिस्तान के हिंगलाज माता मंदिर में ही देवी सती का सिर गिरा था
पाकिस्तान के हिंगलाज माता मंदिर में ही देवी सती का सिर गिरा था

नवरात्रि २०२० (Navratri 2020): मंदिर के आपस 10 फीट लंबी अंगारों की एक सड़क है. ऐसा माना जाता है कि जो भक्त शोलों भरे इस रास्ते पर चलता हुआ आता है हिंगलाज माता उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 5:28 PM IST
  • Share this:
नवरात्रि २०२० (Navratri 2020): नवरात्रि 17 अक्टूबर से प्रारंभ हो रही है. अधिकमास पड़ने की वजह से इस बार नवरात्रि में विलंब हो गया है. यह शारदीय नवरात्रि है. नवरात्रि में मां नव दुर्गा के शक्तिपीठों का अपना अलग ही महत्व है. हर नवरात्रि भक्त मां के शक्तिपीठ जाकर पूजा अर्चना करते थे और मन्नत मांगते थे. इस बार लेकिन कोरोना के चलते भक्तों को पूजा में भी गाइडलाइंस का पालन करना होगा. आज हम आपको पाकिस्तान में स्थित देवी मां के एक ऐसे शक्तिपीठ के बारे में बताने जा रहे हैं जोकि 2000 साल प्राचीन है. बलूचिस्तान में स्थित हिंगलाज माता मंदिर जिसे कि हिंगलाज भवानी मंदिर भी कहा जाता है काफी प्रसिद्ध है.

इसे भी पढ़ेंः Navratri 2020: नवरात्रि में घटस्थापना के दौरान इन बातों का रखें विशेष ध्यान, ऐसे करें पूजा

मंदिर में दिखती है हिंदू-मुस्लिम एकता:
पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू जहां मंदिर में शीश झुकाते है वहीं मुस्लिम श्रद्धालु भी मंदिर में सजदा करते हुए दिखाई देते हैं. पाकिस्तान के निवासियों के लिए यह नानी का मंदिर है.
इसे भी पढ़ेंः Navratri 2020: नवरात्रि के पहले दिन करें देवी शैलपुत्री की पूजा, जानें उनसी जुड़ी पौराणिक कथा



जहां गिरा सती का सिर वहीं है शक्तिपीठ:
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, हिंगलाज मंदिर वहां स्थित है जहां भगवान शिव की पहली पत्नी देवी सती का सिर गिरा था. इसीलिए मंदिर में माता अपने पूरे रूप में नहीं दिखतीं, बल्कि उनका सिर्फ सिर ही दिखाई देता है. मंदिर के आपस 10 फीट लंबी अंगारों की एक सड़क है. ऐसा माना जाता है कि जो भक्त शोलों भरे इस रास्ते पर चलता हुआ आता है हिंगलाज माता उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज