Navratri 2020: जानें शरद नवरात्रि में घटस्थापना का महत्व और शुभ मुहूर्त

शारदीय नवरात्रि शक्ति पर्व है. हिन्दू धर्म में इस पर्व को विशेष महत्व बताया गया है.
शारदीय नवरात्रि शक्ति पर्व है. हिन्दू धर्म में इस पर्व को विशेष महत्व बताया गया है.

हिन्दू धर्म के अनुसार, नवरात्रि (Navratri) के प्रथम दिन शुभ मुहूर्त अनुसार ही घटस्थापना करने के बाद मां शैलपुत्री की आराधना करने का विधान है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 5:42 PM IST
  • Share this:
Navratri 2020: वर्ष 2020 में शरद नवरात्रि (Sharad Navratri) 17 अक्टूबर, शनिवार से प्रारंभ हो रही है और 10 दिनों तक चलने वाला देवी शक्ति (Devi Shakti) को समर्पित ये पर्व 26 अक्टूबर, सोमवार तक देशभर में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा. इस बार अधिकमास (Adhik Maas 2020) लगने के कारण शारदीय नवरात्रि एक महीने की देरी से शुरू होगी. हिंदू पंचांग के अनुसार हर वर्ष पितृपक्ष के समाप्ति के बाद अगले दिन से ही शारदीय नवरात्रि शुरू हो जाती है लेकिन इस बार अधिक मास होने के कारण पितरों की विदाई के बाद नवरात्रि का त्योहार शुरू नहीं हो सका. इस बार नवरात्रि 17 अक्टूबर 2020 से शुरू होकर 25 अक्टूबर तक चलेगी. हिंदू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व होता है. नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है. इस पावन पर्व की शुरुआत घटस्थापना के साथ होती है, जिसका महत्व विशेष माना गया है.

हिन्दू धर्म के अनुसार, नवरात्रि के प्रथम दिन शुभ मुहूर्त अनुसार ही घटस्थापना करने के बाद मां शैलपुत्री की आराधना करने का विधान है. हालांकि प्रथम दिन के अलावा शरद नवरात्रि में षष्टी, महा सप्तमी, महा अष्टमी, महा नवमी और विजयादशमी का भी विशेष महत्व रहता है. तो चलिए जानते हैं इस वर्ष की शरद नवरात्रि के घटस्थापना का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व. शरद नवरात्रि में घटस्थापना के नियम और मुहूर्त का समय.

इसे भी पढ़ेंः Navratri 2020: जानें कब से शुरू हो रही है शारदीय नवरात्रि, इस दिन होगी कलश स्थापना



घटस्थापना शुभ मुहूर्त
दिन- 17 अक्टूबर 2020, शनिवार
घटस्थापना मुहूर्त- 06:23:22 से 10:11:54 तक
अवधि- 3 घंटे 48 मिनट

घटस्थापना का महत्व
नवरात्रि में घटस्थापना (जिसे कलश स्थापना भी कहते हैं) का विशेष महत्व होता है. ये नवरात्रि का पहला दिन होता है और इसी दिन से नवरात्रि पर्व का प्रारंभ माना गया है. सनातन धर्म की मानें तो, किसी भी शुभ कार्य के लिए कलश स्थापना करना शुभ माना जाता है और इसी कलश को शास्त्रों में भगवान गणेश की संज्ञा दी गई है. इसी लिए हर पूजा या मंगल कार्य की शुरुआत सर्वप्रथम गणेश जी की वंदना से की जाती है, जिसमें कलश की स्थापना पूरे विधि-विधान अनुसार करने के पश्चात ही कोई भी कार्य किया जाता है.

इसे भी पढ़ें - सप्‍ताह के सातों दिन करें इन देवी देवताओं की पूजा, बदल जाएगी किस्मत

कैसे करें कलश स्थापना व देवी आराधना
शारदीय नवरात्रि शक्ति पर्व है. हिन्दू धर्म में इस पर्व को विशेष महत्व बताया गया है. 17 अक्टूबर को सुबह 7 बजकर 45 मिनट के बाद शुभ मुहूर्त में कलश स्थापित करें. नौ दिनों तक अलग-अलग माताओं की विभिन्न पूजा उपचारों से पूजन, अखंड दीप साधना, व्रत उपवास, दुर्गा सप्तशती व नवार्ण मंत्र का जाप करें. अष्टमी को हवन व नवमी को नौ कन्याओं का पूजन करें. वैश्विक महामारी कोरोना के चलते अपनी और दूसरों की सुरक्षा का ख्याल जरूर रखें. (साभार- Astrosage.com)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज