• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • Navratri 2021: मां दुर्गा को प्रिय हैं ये 4 मंत्र, जाप से मिलेगी मन और आत्मा को शांति

Navratri 2021: मां दुर्गा को प्रिय हैं ये 4 मंत्र, जाप से मिलेगी मन और आत्मा को शांति

नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ स्वरुपों की आराधना की जाती है.

नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ स्वरुपों की आराधना की जाती है.

Navratri 2021: नवरात्रि के नैौ दिनों में माता के विभिन्न 9 स्वरुपों की पूजा-अर्चना की जाती है. इस दिनों में माता के भक्त लगातार उपवास का भी पालन करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    Navratri 2021: नवरात्रि का वक्त मां दुर्गा (Maa Durga) की उपासना का सबसे विशेष समय होता है. नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के विभिन्न रुपों की आराधना की जाती है. धार्मिक मान्यता है कि माता को प्रसन्न करने के लिए सही विधि-विधान और कठोर नियमों का पालन करना अनिवार्य होता है. अगर ऐसा न हो तो माता की पूजा का पूरा फल प्राप्त नहीं होता है.नवरात्रि (Navratri)में माता के विभिन्न 9 स्वरूप मां शैलपुत्री, मां ब्रह्मचारिणी, मां चंद्रघंटा, मां कूष्मांडा देवी, मां स्कंदमाता, मां कत्यायनी, मां कालरात्रि, मां महागौरी और मां सिद्धिदात्री की उपासना की जाती है.
    धार्मिक शास्त्रों की मान्यतानुसार, नवरात्रि में मां दुर्गा के कुछ विशेष मंत्रों का जाप किया जाए तो इससे मन और आत्मा दोनों को असीम शांति भी मिलती है. इन मंत्रों के नियमित जाप के साथ ही अगर नवरात्रि में सच्चे मन से विधि विधान से इन्हें जपा जाता है तो माता रानी भक्तों पर बहुत प्रसन्न होती हैं. आइए जानते हैं मां दुर्गा को प्रसन्न करने वाले वो मंत्र.

    इसे भी पढ़ें: Navratri 2021: मां दुर्गा ने धारण किए हैं ये शस्त्र, जानें इनका महत्व

    इन मंत्रों का नियमित जपें

    सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
    शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते।।

    ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
    दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।।
    नवार्ण मंत्र – ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै’

    या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    या देवी सर्वभूतेषु शांतिरूपेण संस्थिता,
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

    इसे भी पढ़ें:  Navratri 2021: सिंह इस वजह से बन गया मां दुर्गा का वाहन, पढ़ें ये रोचक कहानी

    इस तरह करें मंत्रों का जाप
    माता के इन मंत्रों का जाप करने के लिए सुबह स्नान करने के बाद घर में बने पूजा स्थान पर बैठे. मां की तस्वीर के सामने दीपक जलाएं और उन्हें नमन करते हुए किसी भी एक मंत्र का जाप 108 बार करें. मान्यता है कि इन मंत्रों का जाप करने से मन को असीम शांति मिलती है और दिमाग में नई ऊर्जा का संचार होता है. ऐसा कहा जाता है कि मां दुर्गा के इन मंत्रों का जाप नवरात्रि के अलावा अन्य दिनों में भी किया जाए तो मनुष्य के जीवन से कष्ट मिट जाते हैं.Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज