होम /न्यूज /धर्म /Maha Ashtami 2022: महाअष्टमी पर करें ये उपाय, मिलेगी हर क्षेत्र में सफलता

Maha Ashtami 2022: महाअष्टमी पर करें ये उपाय, मिलेगी हर क्षेत्र में सफलता

अष्टमी तिथि पर तुलसी के पौधे के पास 9 दिए जला कर उनसे अपनी मनोकामनाएं मांग सकते हैं.

अष्टमी तिथि पर तुलसी के पौधे के पास 9 दिए जला कर उनसे अपनी मनोकामनाएं मांग सकते हैं.

Maha Ashtami 2022: महाअष्टमी का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व है. इस दिन महागौरी की पूजा की जाती है. देवी गौरी भक्तों के सभ ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अष्टमी तिथि पर माता दुर्गा को ध्यान करते हुए हवन अवश्य करें.
आहुति देते समय ध्यान रखें कि हवन सामग्री हवन कुंड के बाहर ना गिरे.

Maha Ashtami 2022: हिंदू धर्म में नवरात्रि के पर्व को विशेष महत्व दिया जाता है. नवरात्रि के 9 दिन माता दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है. वैसे तो नवरात्रि का हर दिन माता दुर्गा को समर्पित है, लेकिन अष्टमी और नवमी को विशेष स्थान प्राप्त है. माना जाता है कि अष्टमी और नवमी के दिन कुछ विशेष उपाय कर व्यक्ति अपने जीवन को सुखमय बना सकते हैं. नवरात्रि की अष्टमी तिथि को माता दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा की जाती है. महागौरी को ही माता पार्वती का रूप माना गया है. हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि अष्टमी तिथि शुभ फलों की प्राप्ति हेतु बहुत शुभ है.

अष्टमी तिथि पर महागौरी की विधि विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति को माता अपना आशीर्वाद प्रदान करती है. ज्योतिषी एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा बता रहे हैं महाअष्टमी के महा उपाय.

मां महागौरी को करें ये चीजें अर्पित

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार अष्टमी तिथि को माता दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा की जाती है ऐसे में मान्यता है कि अष्टमी तिथि पर माता को लाल रंग की चुनरी में सिक्के और पताशी रखकर अर्पित करना चाहिए. ऐसा करने से माता दुर्गा अपने भक्तों की सभी मुरादें पूरी करती हैं.

यह भी पढ़ें – Dussehra 2022: इस जगह प्रचलित है बड़ी ही अनोखी परंपरा, रावण दहन के बाद किया जाता है ये काम

9 कन्याओं को दें ये उपहार

अष्टमी तिथि पर कन्या भोज का भी विशेष महत्व है. इस दिन नौ कन्याओं का कन्या पूजन कर उन्हें भोज कराने के बाद उनकी जरूरत का लाल रंग कुछ भी सामान भेंट में दें. मान्यता है कि ऐसा करने से मां दुर्गा की कृपा बनी रहती है.

सुहागिनों को दें शृंगार का सामान

अष्टमी तिथि के दिन ना सिर्फ नौ कन्याओं की पूजा का विधान है, बल्कि इस दिन किसी सुहागिन स्त्री को भी लाल रंग की साड़ी और शृंगार का सामान भेंट करना चाहिए. मान्यता है कि ऐसा करने से घर परिवार में सुख समृद्धि आती है और माता दुर्गा प्रसन्न होती है.

माता तुलसी की करें पूजा

अष्टमी और नवमी तिथि पर माता दुर्गा के साथ मां तुलसी की भी पूजा की जानी चाहिए. अष्टमी तिथि पर तुलसी के पौधे के पास 9 दिए जला कर उनसे अपनी मनोकामनाएं मांग सकते हैं. साथ ही उनकी परिक्रमा भी की जा सकती है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से घर से सभी रोगों का नाश होते है.

यह भी पढ़ें – Navaratri 2022: नवरात्रि में क्यों खेला जाता है गरबा? बड़ी ही रोचक है इसके पीछे की वजह

हवन का है विशेष महत्व

हिंदू धर्म पुराणों के अनुसार किसी भी पूजा को सफल बनाने में हवन का विशेष महत्व होता है. इसलिए हवन के बिना पूजा का फल प्राप्त नहीं किया जा सकता. इसलिए अष्टमी तिथि पर माता दुर्गा को ध्यान करते हुए हवन अवश्य करें. ध्यान रखें की आहुति देते समय ध्यान रखें कि हवन सामग्री हवन कुंड के बाहर ना गिरे.

Tags: Dharma Aastha, Navratri, Navratri festival

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें