Home /News /dharm /

Numerology: जानिए कौन सा अंक क्या कहता है और उसका क्या महत्व है

Numerology: जानिए कौन सा अंक क्या कहता है और उसका क्या महत्व है

प्रत्येक अंक का अपना-अपना अलग महत्व है.

प्रत्येक अंक का अपना-अपना अलग महत्व है.

Which number says what: अंक ज्योतिष से व्यक्ति का व्यक्तित्व और भविष्य की गणना की जा सकती है. सभी ग्रहों के अलग-अलग अंक निश्चित किए गए हैं. जैसे अंक 1 को सूर्य के लिए निश्चित किया गया है. यानी एक अंक भगवान सूर्य को समर्पित है. इसी तरह दो चंद्रमा, तीन गुरु या बृहस्पति, चार राहू, पांच बुध, छह शुक्र, सात केतु, आठ शनि और नौ मंगल के लिए निश्चित हैं. अब इनमें से प्रत्येक अंक को किसी न किसी मूलांक से जोड़ा गया है. मूलांक उस व्यक्ति की तारीख का योग है.

अधिक पढ़ें ...

    Which number says what: ज्योतिष शास्त्र में अंक ज्योतिष का खास महत्व है. अंक ज्योतिष में सभी ग्रहों का अपना एक खास अंक होता है. यानी सभी ग्रहों के अलग-अलग अंक निश्चित किए गए हैं. जैसे अंक 1 को सूर्य के लिए निश्चित किया गया है. यानी एक अंक भगवान सूर्य को समर्पित है. इसी तरह दो चंद्रमा, तीन गुरु या बृहस्पति, चार राहू, पांच बुध, छह शुक्र, सात केतु, आठ शनि और नौ मंगल के लिए निश्चित हैं. अब इनमें से प्रत्येक अंक को किसी न किसी मूलांक से जोड़ा गया है. मूलांक उस व्यक्ति की तारीख का योग है. यानी अगर किसी व्यक्ति का जन्म 24 मई को हुआ है तो उसकी जन्म तारीख के अंकों का योग 2+4=6 होगा. इस तरह 6 उस व्यक्ति का मूलांक भी होगा. इस प्रकार प्रत्येक अंक का अलग-अलग महत्व है.

    एस्ट्रोसेज के मुताबिक प्रत्येक अंक का अपना-अपना अलग महत्व है. सभी अंक कुछ न कुछ कहते हैं. यहां कौन से अंक क्या कहते हैं इसके बारे में संक्षिप्त जानकारी इस प्रकार है.

    कौन सा अंक क्या कहता है

    एक
    अंक एक को भगवान सूर्य का अंक माना गया है. इस अंक के प्रभाव से व्यक्ति के अंदर नेतृत्व की भावना बढ़ती है. 1 अंक वाले व्यकित अत्यधिक साहसी, वीर, पराक्रमी तथा उद्यमी होते हैं. इस अंक पर सूर्य का अधिकार होने से व्यक्ति अति तेजस्वी होने के साथ जिद्दी और अपनी धुन के पक्के भी होते हैं.

    दो
    अंक दो को चंद्रदेव का अंक माना गया है. दो अंक वाले व्यक्ति के अंदर नेतृत्व की भावना का अभाव रह सकता है लेकिन ऐसे व्यक्ति समूह में काम करने वाले व्यक्ति होगें. अंक दो के प्रभाव से आप शांतिप्रिय व्यक्ति होगें, दूसरो को सहयोग देने वाले वाले और सभी के साथ मित्रतापूर्ण व्यवहार वाले व्यक्ति होंगे. अंक दो का प्रभाव व्यक्ति को अत्यधिक भावुक भी बना सकता है.

    तीन
    अंक तीन का स्वामी ग्रह बृहस्पति है, जो सभी ग्रहों के गुरु हैं. मूलांक 3 वाले व्यक्ति बड़े स्वाभिमानी होते हैं. ऐसे व्यक्ति किसी के आगे झुकना इन्हें पसंद नहीं करते. इन्हें अपनी स्वतंत्रता से समझौता करना पसंद नहीं होता. ऐसे व्यक्ति साहसी, वीर, शक्तिशाली, अविचल, संघर्षशील, श्रमजीवी तथा कष्टों से हार न मानने वाले होते हैं.

    चार
    मूलांक 4 का स्वामी ग्रह राहु है. कुछ अंकशास्त्री इसे यूरेनस या नकारात्मक सूर्य का अंक मानते हैं. 4 अंक वाले व्यक्ति क्रांतिकारी, वैज्ञानिक या राजनीतिज्ञ हो सकते है लेकिन साथ ही ऐसे व्यक्ति घमंडी, उपद्रवी, अहंकारी और हठी भी हो सकते हैं. हालांकि 4 अंक वाले व्यक्ति साहसी, व्यवहार कुशल और चकित कर देने वाले कामों को करने में भी निपुण होते हैं. हालांकि ऐसे व्यक्ति के भीतर कल्पनाशक्ति का अभाव होता है.

    पांच
    मूलांक 5 का स्वामी ग्रह बुध है जो ज्ञान एवं बुद्धि का प्रतीक हैं. 5 अंक वाले व्यक्ति बुद्धिमान होते हैं. इस मूलांक के व्यक्ति साहसी तथा कर्मशील होते हैं. 5 अंक वाले व्यक्ति चुनौतियों को चेलेंज के रूप में स्वीकार करते है और उनसे लड़कर विजय भी प्राप्त करते हैं. ऐसा व्यक्ति बहुत ही तार्किक भी होता है. इस मूलांक वाले व्यक्ति निर्णय लेने मे निपुण होते है.

    छह
    मूलांक 6 का स्वामी ग्रह शुक्र है जो प्रेम एवं शान्ति का प्रतीक है. 6 अंक वाले व्यक्ति सुगठित शरीर वाले होते हैं. ये देखने में सुंदर एवं प्रभावशाली होते हैं. 6 अंक वाली महिला बहुत सुंदर होती हैं. इन्हें बुढ़ापा देर से आता है. ये कलाप्रेमी होते हैं और इनमें सौंदर्य के प्रति आकर्षण होता है. ऐसे व्यक्ति दीर्घायु, स्वस्थ, बलवान, हंसमुख होते हैं और इनमें दूसरों को सम्मोहित करने का गुण होता है. ये उदार हृदय के होते हैं.

    सात
    सात अंक का स्वामी केतु है. कई विद्वान इसे नेपच्यून (वरुण) ग्रह का अंक भी मानते हैं. 7 अंक वाले व्यक्ति मौलिकता, स्वतंत्र विचार-शक्ति तथा असामान्य व्यक्तित्व के होते हैं. ये शांत चित्त नहीं बैठ पाते सदैव कुछ न कुछ सोचते रहते हैं, ये सदैव बदलाव और यात्रा के लिए उत्सुक रहते हैं. अपनी मौलिकता के बल पर ये धन अर्जित करते हैं, लेकिन उसका संग्रह नहीं कर पाते सामान्य रूप से ये खर्च कम ही करते हैं.

    आठ
    अंक 8 का स्वामी शनि हैं. इस मूलांक के व्यक्ति प्रायः अन्तर्मुखी प्रवृति के होते है, ये लोग प्रचार-प्रसार से दूर एकनिष्ठ होकर अपने कामो में लगे रहते हैं. ये हर बात को गंभीरता से सोचते हैं. ये शांत, गंभीर व निश्छल प्रवृति वाले होते हैं. डॉ. मनमोहन सिंह इसी मूलांक के हैं. 8 मूलांक वाले लोग भी धीरे धीरे सफलता पाते हैं, इनके कामो में रुकावट प्रायः आती रहती है. ये प्रायः दुनिया के लिए महत्वपूर्ण कार्य करते हैं.

    नौ
    अंक 9 का स्वामी मंगल हैं. मंगल उत्साह और ऊर्जा का द्योतक है. इस अंक वाले व्यक्ति उत्साही स्वभाव के होते हैं. ये ताकतवर शरीर के होते हैं. ये किसी भी परिस्थिति से निबटने का माद्दा रखते हैं. ये अनुशासन प्रिय और सिद्धांत के पक्के होते हैं. प्रसिद्ध कवि डॉ. हरिवंश राय बच्चन का मूलांक 9 ही था. नौ अंक वाले व्यक्ति की प्रवॄत्ति कलात्मक भी होती है.

    Tags: Lifestyle, Numerology, Religious

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर