Holika Dahan 2021: होलिका दहन में अर्पित करें ये चीजें, जीवन होगा ऊर्जामय

होलिका दहन में क्या आहुति दें जानें

होलिका दहन में क्या आहुति दें जानें

Holika Dahan 2021 Offer These Things- होलिका दहन को बेहद फायदेमंद और सेहत के लिहाज से अच्छा माना जाता है. इसके पीछे धारणा है कि इससे शरीर के सभी रोग और परेशानियां होलिका की अग्नि में जलकर भस्म हो जाते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 12:54 PM IST
  • Share this:
Holika Dahan 2021 Offer These Things- होलिका दहन 28 मार्च रविवार को है. होलिका दहन से कुछ दिन पहले, प्रत्येक इलाके में एक स्थान पर एक पेड़ रखा जाता है, जिसमें होली से एक दिन पूर्व आग  लगा दी जाती है. आग लगाने से पूर्व श्रद्धालु उस पर लकड़ियां, घास, पुआल और गोबर के उपले रख देते हैं. फाल्गुन मास की पूर्णिमा आते-आते ये सारा ढेर सूख जाते हैं और जलने लायक हो जाते हैं. होलिका दहन के दिन इसी ढेर में आग लगा दिया जाता है, जिसे होलिका दहन कहा जाता है. इसके बाद होलिका माई की पूजा की जाती है.

होलिका दहन को बेहद फायदेमंद और सेहत के लिहाज से अच्छा माना जाता है. कई लोग सरसों का उबटन पूरे शरीर पर लगाकर इसकी मैल को होलिका की अग्नि में डालते हैं. इसके पीछे धारणा है कि ऐसा करने से शरीर के सभी रोग और परेशानियां होलिका की अग्नि में जलकर भस्म हो जाते हैं. आइए जानते हैं कि होलिका की अग्नि में किन चीजों की आहुति देनी चाहिए...

इसे भी पढ़ें: हिरण्यकशिपु ने प्रह्लाद को मारने होलिका को भेजा, होलिका दहन की पौराणिक कथा जानें

होलिका दहन में डालें ये चीजें:
1. नारियल

2. फूल, माला,

3. रोली, गुलाल



4.गुड़, कच्चा सूत

5. हल्दी, गेहूं की बालियां

6. उबटन आदि.

होलिका दहन कैसे करें

होलिका पूजा के पश्चात, पुनः जल अर्पित करें. मुहूर्त के अनुसार होलिका में स्वयं अथवा परिवार के किसी वरिष्ठ सदस्य से अग्नि प्रज्जवलित कराए. इस आग में किसी भी फसल को सेंक लें और अगले दिन उसे सपरिवार ग्रहण करें. मान्यता है कि ऐसा करने से परिवार पर कोई बुरा साया नहीं पड़ता एवं साथ ही सदस्यों को रोगों से मुक्ति भी मिलती है.

होलिका दहन से पूर्व करें ये काम

● होलिका दहन के पूर्व, परिवार के सभी सदस्यों को सरसों तेल और हल्दी मिलाकर, उसका उबटन पूरे शरीर पर लगाना चाहिए.

● फिर उसके सूख जाने के बाद, इस पूरे उबटन को छुड़ा कर किसी कागज या कपड़े पर जमा कर लें.

● अब इस पूरे उबटन को पूजन सामग्री के साथ ही, होलिका में अर्पित कर दें.

● इसके बाद होलिका की परिक्रमा सपरिवार अवश्य करें.क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति को उसके सभी प्रकार के रोग, कष्ट और दोष से मुक्ति मिलती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज