होम /न्यूज /धर्म /Om Chanting: ॐ की शक्ति का क्या है राज? जानें कैसे नाम लेने मात्र से दूर होते हैं कष्ट

Om Chanting: ॐ की शक्ति का क्या है राज? जानें कैसे नाम लेने मात्र से दूर होते हैं कष्ट

ॐ में त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश वास करते हैं. Image- Canva

ॐ में त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश वास करते हैं. Image- Canva

Om Chanting: ॐ के उच्चारण मात्र से सभी संकटों का निवारण होता है. ग्रंथ शास्त्रों में ॐ के अनेक प्रभावशाली और चमत्कारी ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ॐ में इस सृष्टि का रहस्य व ज्ञान छिपा हुआ है.
ॐ को ब्रह्मांड की आवाज भी कहा जाता है.

Om Chanting: हिंदू धर्म में ॐ का बड़ा महत्व है. ॐ में त्रिदेवों का वास माना गया है. ॐ का उच्चारण करने से धर्म, काम, मोक्ष व अर्थ चारों पुरुषार्थों की प्राप्ति होती है. ॐ के प्रभावशाली होने का प्रमाण है कि किसी भी मंत्र के जाप से आरंभ में ॐ लगाया जाता है. पंडित इंद्रमणि घनस्याल बताते हैं कि ॐ के उच्चारण मात्र से सभी संकटों का निवारण होता है. ग्रंथ शास्त्रों में ॐ के अनेक प्रभावशाली और चमत्कारी लाभ बताए गए हैं. आइये जानते हैं ॐ की शक्ति का राज क्या है?

ॐ की शक्ति का क्या है राज
धार्मिक ग्रंथों में ॐ की शक्ति को विस्तार से बताया गया है. ॐ में इस सृष्टि का रहस्य व ज्ञान छिपा हुआ है. ॐ के उच्चारण से तीन अक्षरों की ध्वनि संचारित होती है- अ+उ+म्…., इसमें ‘अ’ वर्ण सृष्टि, ‘उ’ वर्ण  स्थिति व ‘म्’ लय का सूचक है.  इन तीन अक्षरों से ॐ बना है. ॐ में त्रिदेव ब्रह्मा,विष्णु,महेश वास करते हैं. ॐ के उच्चारण से ईश्वर को पाया जा सकता है. ॐ को ब्रह्मांड की आवाज भी कहा जाता है. ॐ के जाप से अनेक शारीरिक व मानसिक लाभ होते हैं.

ॐ जाप के फायदे
शास्त्रों के अनुसार, ॐ के जाप से शारीरिक और मानसिक शक्ति प्राप्त होती है. ॐ के जाप से मन शांत और स्थिर रहता है. ॐ के उच्चारण से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. अगर आप अपने आप को एकाग्रता नहीं कर पाते हैं तो ॐ का उच्चारण बेहद लाभदायक होता है.

ये भी पढ़ें: हथेली की यह रेखा बताती है जीवन में कितना मिलेगा सुख-दुख, जानें महत्व

ये भी पढ़ें: हर घर में होता है पञ्चसूना पाप, इन उपायों से दूर करें दोष

ॐ के उच्चारण से मानसिक तनाव, अनिद्रा जैसी पीड़ाओं से मुक्ति मिलती है. ॐ का उच्चारण करना शरीर के लिए भी लाभदायक होता है, यह आपके शरीर को लाभ पहुंचाता है. इससे रक्तचाप आदि नियंत्रण में रहता है. हालांकि ॐ का उच्चारण साफ व खुले वातावरण में करना चाहिए, इससे आपको अधिक लाभ प्राप्त होगा.

Tags: Dharma Aastha, Hinduism

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें