लग चुका है पंचक, न करें कोई शुभ काम, जानिए कब तक रहेगा इसका प्रभाव

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार पंचक काल में कोई भी मांगलिक कार्य करना अशुभ माना जाता है. यहां तक कि इस दौरान शादी, ब्याह, धन का लें देन, गृह प्रवेश, कोई सौदा या यात्रा करना भी ठीक नहीं समझा जाता है.

News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 6:36 AM IST
लग चुका है पंचक, न करें कोई शुभ काम, जानिए कब तक रहेगा इसका प्रभाव
दिन के हिसाब से पंचक का प्रभाव
News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 6:36 AM IST
पंचक की शुरुआत हो चुकी है और यह 17 सितंबर मंगलवार की भोर सुबह 4.23 बजे तक रहेगा. जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है पंचक काल पांच दिनों तक रहता है. हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार पंचक काल में कोई भी मांगलिक कार्य करना अशुभ माना जाता है. यहां तक कि इस दौरान शादी, ब्याह, धन का लें देन, गृह प्रवेश, कोई सौदा या यात्रा करना भी ठीक नहीं समझा जाता है. इस बार पंचक 11 सितंबर बुधवार अर्द्ध रात्रि करीब 3.29 बजे से 17 सितंबर की भोर तक रहेगा. आइए जानते हैं पंचक काल के मुहूर्त...

हिंदू पंचांग के मुताबिक़ अगर देखा जाए तो पांच पंचक अशुभ माने गए हैं. जिन नक्षत्रों को अशुभ माना गया है वो इस प्रकार हैं-धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वाभाद्रपद, उत्तराभाद्रपद और रेवती. हर नक्षत्र को चार भागों में बांटा जाता है. धनिष्ठा नक्षत्र के तीसरे चरण से शुरू होकर रेवती नक्षत्र के आखिरी चरण तक पंचक का प्रभाव रहता है. पंचक धनिष्ठा नक्षत्र से लेकर रेवती नक्षत्र तक यानी कि पांच दिन तक रहता है.

दिन के हिसाब से पंचक का प्रभाव:
ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक़, पंचक का प्रभाक अलग-अलग दिन के हिसाब से अलग -अलग होता है. हालांकि ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि पंचक किस दिन से शुरू हुआ है. बता दें कि जिस पंचक की शुरुआत रविवार से होती है वो रोग पंचक कहलाता है. शनिवार के दिन लगने वाले पंचक को मृत्यु पंचक माना गया है. जिस पंचक की शुरुआत सोमवार से होती है उसे राजपंचक कहा जाता है. पंचक अगर मंगलवार को लगता है तो इसे अग्नि पंचक कहा जाता है. वहीं बुधवार तथा गुरुवार को लगने वाले पंचक को अशुभ पंचक कहा जाता है. पंचक अगर शुक्रवार के दिन लगता है तो इसे चोर पंचक कहा जाता है. ऐसा माना जाता है कि चोर पंचक में चोरी की संभावना बढ़ जाती है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 14, 2019, 6:36 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...