Home /News /dharm /

parashuram jayanti 2022 know date tithi puja muhurat and importance kar

कब है परशुराम जयंती? जानें सही तिथि, पूजा मुहूर्त एवं महत्व

भगवान परशुराम का जन्म वैशाख शुक्ल तृतीया तिथि को हुआ था.

भगवान परशुराम का जन्म वैशाख शुक्ल तृतीया तिथि को हुआ था.

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के दिन भगवान विष्णु ने अपना छठा अवतार परशुराम के रुप में लिया था. आइए जानते हैं इस साल के परशुराम जयंती की सही तिथि एवं पूजा मुहूर्त.

भगवान विष्णु के अवतार परशुराम जी का जन्म वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हुआ था. इस वजह से हर वर्ष परशुराम जयंती इस तिथि को मनाई जाती है. इस तिथि को अक्षय तृतीया है. अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के दिन भगवान विष्णु ने अपना छठा अवतार परशुराम के रुप में लिया था. भगवान विष्णु का यह अवतार आवेशावतार माना जाता है. उन्होंने माता रेणुका के गर्भ से ऋषि जमदग्नि के घर जन्म लिया था. कहा जाता है कि क्षत्रियों के घमंड को तोड़ने के लिए परशुराम ने उनका 21 बार संहार किया था. पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र से जानते हैं परशुराम जयंती की सही तिथि एवं पूजा मुहूर्त के बारे में.

यह भी पढ़ें: कब है अक्षय तृतीया, बुद्ध पूर्णिमा, वट सावित्री, शनि जयंती? यहां देखें 

परशुराम जयंती 2022 तिथि
पंचांग के अनुसार, वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि 03 मई दिन मंगलवार को सुबह 05 बजकर 18 मिनट से शुरु हो रही है. यह तिथि अगले दिन 04 मई दिन बुधवार को सुबह 07 बजकर 32 मिनट पर समाप्त हो जाएगी. उदयातिथि के आधार पर 03 मई को परशुराम जयंती मनाई जाएगी क्योंकि इस दिन अक्षय तृतीया है.

यह भी पढ़ें: अक्षय तृतीया पर हुआ था भगवान विष्णु का यह अवतार, परशु से बनी पहचान 

परशुराम जयंती पूजा मुहूर्त 2022
अक्षय तृतीया को पूरे दिन अबूझ मुहूर्त होता है, जो स्वयं सिद्ध माना जाता है. इस दिन आप प्रात: काल में स्नान के बाद परशुराम जयंती की पूजा कर सकते हैं या फिर अपनी सुविधानुसार समय पर भी कर सकते हैं.

परशुराम जयंती पर रवि योग 04 मई को प्रात: 03 बजकर 18 मिनट से सुबह 05 बजकर 38 मिनट तक है. इस दिन का शुभ समय दिन में 11 बजकर 52 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 45 मिनट तक है.

भगवान शिव ने दिया था दिव्य परशु
परशुराम जी भगवान शिव के भक्त थे. उन्होंने अपनी कठोर तपस्या से भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न किया था. उनके तप से प्रसन्न होकर महादेव ने उनको अपना दिव्य अस्त्र परशु यानी फरसा प्रदान किया था. वे हमेशा शिव जी का वह परशु धारण किए रहते थे, जिस वजह से उनको परशुराम कहा जाने लगा. वे अस्त्र शस्त्र में बहुत ही निपुण थे.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Akshaya Tritiya, Dharma Aastha, Lord vishnu

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर