• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • Pitru Paksha 2021: पितरों की मुक्ति के लिए तर्पण के समय जपें ये मंत्र

Pitru Paksha 2021: पितरों की मुक्ति के लिए तर्पण के समय जपें ये मंत्र

पितृ पक्ष में तर्पण के समय मंत्र जाप करें- Image: shutterstock

पितृ पक्ष में तर्पण के समय मंत्र जाप करें- Image: shutterstock

Pitru Paksha 2021: पितृ पक्ष में पितरों को जल देने की विधि को तर्पण (Tarpan) कहा जाता है. परिजनों की श्राद्ध तिथि पर तर्पण करते समय पितरों की मुक्ति के लिए मंत्र (Mantra) जप करने की परम्परा भी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    Pitru Paksha 2021: हमारे जो परिजन अपनी देह का त्याग कर के इस दुनिया विदा हो जाते हैं. उनकी आत्मा की शांति के लिए पितृ पक्ष में तर्पण-श्राद्ध  किया जाता है. श्राद्ध का मतलब होता है श्रद्धा पूर्वक. मान्यता है कि पितृ पक्ष के दिनों में यमराज आत्मा को मुक्त देते हैं. जिससे वे अपने परिजनों के यहां जाकर तर्पण ग्रहण कर सकें. शास्त्रों के अनुसार पितृ पक्ष में पितरों का तर्पण करने से पितृ दोष दूर होता है. ज्योतिष शास्त्र में पितृ दोष को अशुभ फल देने वाला माना गया है. अतः श्राद्ध में पितरों का तर्पण करने से पितृ दोष से आने वाली परेशानियां दूर होती हैं और पितरों का आशीर्वाद मिलता है. इस वर्ष पितृ पक्ष 20 सितंबर 2021 से शुरू हो रहे हैं और इनका समापन 6 अक्टूबर 2021 को होगा लेकिन 26 सितम्बर को पितृ पक्ष की कोई तिथि नहीं है.

    ये भी पढ़ें: Pitru Paksha 2021: पितरों को प्रसन्न करने के लिए पितृ पक्ष में लगाएं ये पौधे

    पितृ पक्ष तर्पण विधि

    पितरों को जल देने की विधि को तर्पण कहा जाता है. परिजनों की श्राद्ध तिथि पर तर्पण करते समय पितरों की मुक्ति के लिए मंत्र जपे जाने की परम्परा भी है. हम यहां आपको कुछ मंत्र बता रहे हैं, जिनको आप अपने पितरों की मुक्ति के लिए तर्पण करते समय जप सकते हैं. इसके लिए सबसे पहले हाथों में कुश लेकर दोनों हाथों को जोड़कर पितरों का ध्यान करें और उनको इस मंत्र के माध्यम से आमंत्रित करें. ‘ओम आगच्छन्तु में पितर एवं ग्रहन्तु जलान्जलिम’ इस मंत्र का अर्थ है, हे पितरों, आइये और जलांजलि ग्रहण कीजिये.

    पिता जी के तर्पण में जल देने का मंत्र  

    तर्पण के समय गंगा जल या अन्य जल में दूध, तिल और जौ मिलाकर तीन बार पिता को जलांजलि दें. जल देते समय ध्यान करें कि वसु रूप में मेरे पिता जल ग्रहण करके तृप्त हों. फिर अपने गोत्र का नाम लेकर बोलें, गोत्रे अस्मतपिता (पिता जी का नाम) शर्मा वसुरूपत् तृप्यतमिदं तिलोदकम गंगा जलं वा तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः।

    दादा जी के तर्पण में जल देने का मंत्र

    जल देते समय अपने गोत्र का नाम लेकर बोलें, गोत्रे अस्मत्पितामह (दादा जी का नाम) शर्मा वसुरूपत् तृप्यतमिदं तिलोदकम गंगा जलं वा तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः,  तस्मै स्वधा नमः।

    माता के तर्पण में जल देने का मंत्र   

    (गोत्र का नाम) गोत्रे अस्मन्माता (माता का नाम) देवी वसुरूपास्त् तृप्यतमिदं तिलोदकम गंगा जल वा तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः।

    दादी के तर्पण में जल देने का मंत्र   

    (गोत्र का नाम लें) गोत्रे पितामां (दादी का नाम) देवी वसुरूपास्त् तृप्यतमिदं तिलोदकम गंगा जल वा तस्मै स्वधा नमः,तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः।

    ये भी पढ़ें: Pitru Paksha 2021: पितृपक्ष के 15 दिनों में इन बातों का रखें ध्यान, वरना हो सकते हैं परेशान

    अगर आप किसी कारणवश ऊपर दिए मंत्रों का उच्चारण नहीं कर सकते हैं तो आप अपने पितरों की मुक्ति के लिए पितृ गायत्री पाठ भी पढ़ सकते हैं. इसके साथ ही पितृ गायत्री मंत्र पढ़ने से भी पितरों को मुक्ति मिलती है और वे हमें आशीर्वाद देते हैं.

    पितृ गायत्री मंत्र

    ॐ पितृगणाय विद्महे जगत धारिणी धीमहि तन्नो पितृो प्रचोदयात्।

    ॐ आद्य-भूताय विद्महे सर्व-सेव्याय धीमहि। शिव-शक्ति-स्वरूपेण पितृ-देव प्रचोदयात्।

    ओम् देवताभ्य: पितृभ्यश्च महायोगिभ्य एव च। नम: स्वाहायै स्वधायै नित्यमेव नमो नम:।। (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज