Shani Dev: शनिवार को शनिदेव की कृपा पाने के लिए करें ये काम, पूरी होगी मनोकामना

शनिवार शनिदेव का दिन माना गया है.

शनिवार शनिदेव का दिन माना गया है.

To Please Shani Dev Do These Things : शनिदेव इस समय मकर राशि में हैं. यानि शनि अपने ही घर में विराजमान हैं. ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह को मकर राशि का स्वामी माना गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2021, 10:58 AM IST
  • Share this:
To Please Shani Dev Do These Things : आज शनिवार है. हिंदू धर्म में शनिवार शनिदेव का दिन माना गया है. कहा जाता है कि शनिदोष से मुक्ति के लिए मूल नक्षत्रयुक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार तक शनिदेव की पूजा करने के साथ साथ व्रत (Fast) रखने चाहिए. पूर्ण नियमानुसार पूजा और व्रत करने से शनिदेव की कृपा होती है और सारे दुख खत्म हो जाते हैं. होलाष्टक अभी चल ही रहे हैं. होलाष्टक में ग्रहों की विशेष स्थिति बन रही है. शनिदेव इस समय मकर राशि में हैं. यानि शनि अपने ही घर में विराजमान हैं. ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह को मकर राशि का स्वामी माना गया है. शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनिवार के दिन कई तरह की बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए. आइए जानते हैं किस तरह से शनिदेव की कृपा पाई जा सकती है.

नीला रंग है शनि महाराज का प्रिय:

शनिदेव की पूजा में काले या नीले रंग की वस्‍तुओं का इस्तेमाल करना शुभ माना जाता है. साथ ही शनिदेव को नीले फूल चढ़ाने चाहिए, मगर यह खास तौर पर याद रखें कि शनि की पूजा में लाल रंग का कुछ भी न चढ़ाएं. इसकी वजह यह है कि लाल रंग और इससे संबंधित चीजें मंगल ग्रह से संबंधित हैं. मंगल ग्रह को भी शनि का शत्रु माना जाता है.

इसे भी पढ़ें: Rangpanchami 2021 Date: रंगपंचमी कब है, जानें सटीक तिथि और महत्व
तेल और काली वस्तुओं का करें दान

शनिवार के दिन शनि मंदिर में शनि देव को सरसों का तेल चढ़ाएं और शनि चालीसा और शनि आरती का पाठ करें.ज्‍योतिष शास्‍त्र के अनुसार शनिदेव की पूजा करते समय कुछ नियमों को ध्‍यान में रखना बेहद जरूरी होता है. सबसे पहले व्रत के लिए शनिवार को सुबह उठकर स्नान करना चाहिए. उसके बाद हनुमान जी और शनिदेव की आराधना करते हुए तिल, लौंगयुक्त जल को पीपल के पेड़ पर चढ़ाना चाहिए. फिर शनिदेव की प्रतिमा के समीप बैठकर उनका ध्यान लगाते हुए मंत्रोच्चारण करना चाहिए. जब पूजा संपन्‍न हो जाए तो काले वस्त्रों और काली वस्तुओं को किसी गरीब को दान में देना चाहिए.

शनि देव का मंत्र



ॐ नीलांजनं समाभासं रविपुत्रम् यमाग्रजम्।

छाया मार्तण्डसंभूतम् तं नमामि शनैश्चरम्।। (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज