कोरोना संक्रमण के चलते नहीं निकलेगी जगन्नाथ पुरी में रथयात्रा, इस्कॉन में होगी डिजिटल यात्रा

कोरोना संक्रमण के चलते नहीं निकलेगी जगन्नाथ पुरी में रथयात्रा, इस्कॉन में होगी डिजिटल यात्रा
भगवान जगन्नाथ की पुरी रथ यात्रा (Puri Rath Yatra) पर रोक लगा दी गई है.

कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण की मौजूदा स्थिति के चलते तमाम स्थानों पर रथ यात्राओं को निरस्त किया जा रहा है. ऐसे में डिजिटल रथ यात्रा (Digital Rath Yatra) का विचार काफी सराहनीय है.

  • Share this:
इस वर्ष जगन्नाथ पुरी में रथयात्रा (Jagannath Puri Rath Yatra) नहीं निकलेगी लेकिन इस्कॉन में इसके लिए डिजिटल (Digital) या वर्चुअल व्यवस्था की जा रही है. भक्त अपने घर बैठे ही भगवान जगन्नाथ, बलराम और सुभद्रा के न सिर्फ दर्शन कर सकेंगे बल्कि उनकी पूजा-अर्चना भी कर सकेंगे. यह दुनिया की पहली वर्चुअल या डिजिटल रथ यात्रा होगी. हर साल भक्तों को भगवान जगन्नाथ के रथ यात्रा के इस खास दिन का बहुत इंतजार रहता है और वह यात्रा के लिए कई दिनों पहले से ही तैयारियां करते हैं. लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण की मौजूदा स्थिति के चलते तमाम स्थानों पर रथ यात्राओं को निरस्त किया जा रहा है. ऐसे में डिजिटल रथ यात्रा (Digital Rath Yatra) का विचार काफी सराहनीय है.

भगवान जगन्नाथ, बलराम और सुभद्रा के दर्शन 
आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल के मायापुर के इस्कॉन मंदिर में डिजिटल (वर्चुअल) रथ यात्रा निकालने की तैयारी की जा रही है. इस डिजिटल रथ यात्रा में 108 रथ शामिल होंगे जबकि इसमें 6 देशों के भक्तों के साथ ही भारत के विभिन्न स्थानों में बैठे भक्त भी भगवान जगन्नाथ, बलराम और सुभद्रा के दर्शन कर सकेंगे. इसके अलावा भक्त उनकी पूजा भी कर सकेंगे.

वेबसाइट पर जाकर अपना नाम रजिस्टर्ड कराना होगा
इस अनूठी डिजिटल रथ यात्रा के लिए भक्त निशुक्ल रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. इस्कॉन मंदिर की तरफ से बताया गया है कि डिजिटल यात्रा में दर्शन और पूजन के लिए भक्तों को www.mercyonwheel वेबसाइट पर जाकर अपना नाम रजिस्टर्ड कराना होगा. बता दें कि रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 22 जून यानी कल तक ही चलेगी. रजिस्ट्रेशन कराने के दौरान भक्तों को एक कोड मिलेगा. इसके जरिए भक्त को एक निश्चित समय दिया जाएगा. इसी समय के दौरान भक्त खुद घर से ही भगवान के दर्शन व पूजन और आरती कर सकेंगे. जिन भक्तों का रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाएगा उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है. ऐसे भक्तों के लिए मंदिर प्रबंधन द्वारा यूट्यूब के माध्यम से रथ यात्रा देखने की सुविधा दी गई है. यहां ध्यान रखें कि दिए गए स्लॉट के माध्यम से यात्रा भक्तों के घरों तक जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज