Home /News /dharm /

ravi pradosh vrat 2022 upay follow these 6 tips for life betterment kar

Ravi Pradosh Vrat 2022: रवि प्रदोष व्रत पर करें ये 6 आसान उपाय, आपको होगा लाभ

प्रदोष व्रत के दिन कुछ ज्योतिष उपायों से जीवन को सुखमय बना सकते हैं.

प्रदोष व्रत के दिन कुछ ज्योतिष उपायों से जीवन को सुखमय बना सकते हैं.

रवि प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) 26 जून को है. प्रदोष व्रत के दिन कुछ ज्योतिष उपायों से जीवन को सुखमय बना सकते हैं. जानते हैं प्रदोष व्रत से जुड़े उपायों के बारे में.

आषाढ़ माह का रवि प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) 26 जून को है. जैसा कि आपको पता है कि हर माह की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है. इस दिन प्रदोष मुहूर्त में भगवान शिव की पूजा की जाती है. 26 जून को प्रदोष पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 07 बजकर 23 मिनट से रात 09 बजकर 23 मिनट तक है. इस दिन आप व्रत रखने के साथ ही कुछ ज्योतिष उपाय करके अपने जीवन को सुखमय बना सकते हैं. श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ. मृत्युञ्जय तिवारी से जानते हैं प्रदोष व्रत से जुड़े उपायों के बारे में.

यह भी पढ़ें: कब है आषाढ़ माह का पहला प्रदोष व्रत? जानें पूजा का शुभ मुहूर्त

रवि प्रदोष व्रत के उपाय

1. यदि आपके दांपत्य जीवन में किसी प्रकार की समस्या है, तो आप प्रदोष व्रत के दिन गाय के दूध में केसर और फूल डाले दें और उससे भगवान शिव का अभिषेक करें. इससे पति और पत्नी के बीच संबंध मधुर रहेंगे. उत्तम जीवनसाथी की मनोकामना पूर्ति के लिए भी इस उपाय को कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: सर्वार्थ सिद्धि योग में है मासिक शिवरात्रि, मन की मुरादें होंगी पूरी

2. मनोकामना पूर्ति के लिए ओम नम: शिवाय मंत्र का जाप करें या फिर पूजा के समय बेलपत्र पर ओम नम: शिवाय लिकर भगवान भोलेनाथ को चढ़ाएं. इस उपाय से आपकी जो भी मनोकामना है, वह शिव कृपा से पूरी होगी.

3. यदि आप किसी रोग की चपेट में हैं या फिर कोई विकट समस्या है, जिसका समाधान नहीं मिल पा रहा है, तो आप रवि प्रदोष व्रत के दिन महामृत्युंजय मंत्र का जाप कराएं. नीचे संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र दिया गया है.

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ.

4. जमीन-जायदाद या अन्य मामलों से जुड़े कोर्ट केस से आप परेशान हैं, तो प्रदोष व्रत के दिन गंगाजल में अक्षत् मिलाकर भगवान भोलेनाथ का अभिषेक करें. शिव कृपा से आपकी समस्या का समाधान होगा.

5. अनजाने भय से डरे हुए हैं, शरीर शक्तिहीन लगता है, आत्मविश्वास की कमी है, तो प्रदोष व्रत के दिन शिव पंचाक्षरी मंत्र ओम नम: शिवाय का 108 बार जप करें. मंत्र जाप के लिए रुद्राक्ष या चंदन की माला का उपयोग करें. आपको लाभ मिलेगा.

6. आपके परिवार में कलह रहती है या सुख-समृद्धि नहीं हो रही है, तो आप प्रदोष व्रत के दिन पूजा के समय भगवान शिव को जौ का आटा अर्पित करें. फिर उससे रोटी बनाकर किसी बैल या गाय के बछड़े को खिला दें. आपकी मनोकामना पूर्ण होगी.

Tags: Dharma Aastha, Lord Shiva

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर