Home /News /dharm /

ravivar upay recite surya ashtam path vidhi and benefits kee

सूर्य देव की कृपा पाने के लिए हर रविवार करें सूर्य अष्टकम का पाठ

सूर्य अष्टकम पाठ के कई लाभ हैं.

सूर्य अष्टकम पाठ के कई लाभ हैं.

ऐसा माना जाता है कि जिस किसी की कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत होती है. वहां अन्य ग्रहों का दुष्प्रभाव अपने आप कम हो जाता है. सूर्य देव की उपासना आराधना करने से बिगड़े काम, रुका हुआ पैसा और जिंदगी में चल रही समस्याओं से छुटकारा मिलता है.

अधिक पढ़ें ...

कलयुग में इंसानों को आंखों से दिखाई देने वाले एकमात्र देखता हैं सूर्य देव. सूर्य देव को वैदिक ज्योतिष में पिता के समान माना गया है. सप्ताह में रविवार का दिन सूर्य देव को समर्पित किया गया है. सूर्य ग्रह ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जो कुंडली में कभी वक्री चाल नहीं चलता. वैदिक धर्म ग्रंथों में सूर्य देव को प्रसन्न करने के बहुत से उपाय बताए गए हैं. उन्हीं में से एक है सूर्य अष्टकम का पाठ, ऐसा माना जाता है कि सूर्य अष्टकम का पाठ (Surya Ashtam Path) करने से सूर्य देव जल्द प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों को सभी समस्याओं से छुटकारा दिलाते हैं. आइए जानते हैं भोपाल के रहने वाले पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा, ज्योतिष द्वारा सूर्य अष्टम पाठ की विधि.

इस विधि से करें सूर्य अष्टकम का पाठ
सुबह जल्दी उठकर स्नानादि से निवृत्त हो जाएं. उसके बाद साफ वस्त्र धारण करके सूर्य देव को अर्घ्य दें. इसके लिए एक तांबे के कलश में जल, रोली या चंदन और लाल पुष्प डालकर अर्घ देना शुभ माना जाता है.

यह भी पढ़ें – धनवान बनने के लिए आज ही घर ले आएं चांदी का हाथी

सूर्य देव को अर्घ्य देकर सूर्य अष्टम का पाठ करें.

-पंडित जी के अनुसार इस पाठ को रविवार के दिन शुरू किया जाए तो सर्वोत्तम माना जाता है.
-जिस व्यक्ति को पूरी तरह से लाभ प्राप्त करना है तो उसे नियमित रूप से सूर्योदय के समय इसका पाठ करना चाहिए.
-सूर्य अष्टकम का पाठ पूरा होने के बाद सूर्य देव को मन ही मन स्मरण करते हुए नमस्कार करना चाहिए.
-किन्ही कारणों से यदि आप प्रतिदिन सूर्य अष्टकम का पाठ नहीं कर सकते हैं. तो हर रविवार अवश्य करें.
-जो व्यक्ति सूर्य अष्टकम का पाठ करता है उसे रविवार के दिन मांस, मदिरा और तेल का सेवन नहीं करना चाहिए. संभव हो तो रविवार के दिन नमक भी ना खाएं.

यह भी पढ़ें – इस तरह घर में जलाएं पंचमुखी दीपक, सारे कष्टों से मिलेगी मुक्ति

श्री सूर्य अष्टकम स्तोत्र

आदिदेव नमस्तुभ्यं प्रसीद मम भास्कर ।
दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तु ते॥1॥

सप्ताश्व रथमारूढं प्रचण्डं कश्यपात्मजम् ।
श्वेत पद्माधरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥2॥

लोहितं रथमारूढं सर्वलोक पितामहम् ।
महापापहरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥3॥

त्रैगुण्यश्च महाशूरं ब्रह्माविष्णु महेश्वरम् ।
महापापहरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥4॥

बृहितं तेजः पुञ्ज च वायु आकाशमेव च ।
प्रभुत्वं सर्वलोकानां तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥5॥

यह भी पढ़ें – जानिए लव-कुश के जन्म के बाद माता सीता के पाताल में जाने की वजह

बन्धूकपुष्पसङ्काशं हारकुण्डलभूषितम् ।
एकचक्रधरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥6॥

तं सूर्यं लोककर्तारं महा तेजः प्रदीपनम् ।
महापाप हरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥7॥

तं सूर्यं जगतां नाथं ज्ञानप्रकाशमोक्षदम् ।
महापापहरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥8॥

सूर्याष्टकं पठेन्नित्यं ग्रहपीडा प्रणाशनम् ।
अपुत्रो लभते पुत्रं दारिद्रो धनवान् भवेत् ॥9॥

अमिषं मधुपानं च यः करोति रवेर्दिने ।
सप्तजन्मभवेत् रोगि जन्मजन्म दरिद्रता ॥10॥

स्त्री-तैल-मधु-मांसानि ये त्यजन्ति रवेर्दिने ।
न व्याधि शोक दारिद्र्यं सूर्य लोकं च गच्छति ॥11॥

Tags: Dharma Aastha, Religion

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर