होम /न्यूज /धर्म /किन कारणों से मरणोपरांत आत्माओं का होता हैं पुनर्जन्म, जानें क्या कहते हैं शास्त्र

किन कारणों से मरणोपरांत आत्माओं का होता हैं पुनर्जन्म, जानें क्या कहते हैं शास्त्र

कुछ विशेष आत्माओं का पुनर्जन्म होता है.

कुछ विशेष आत्माओं का पुनर्जन्म होता है.

शास्त्रों के अनुसार, सभी आत्माएं पुनर्जन्म नहीं ले पाती हैं. कुछ विशेष आत्माओं का ही पुनर्जन्म होता है. पौराणिक वेद यजु ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

शास्त्रों के अनुसार, सभी आत्माएं पुनर्जन्म नहीं ले पाती हैं.
अपूर्ण इच्छाओं को पूरा करने के लिए भी फिर से जन्म मिलता है.
शतपथ ब्राह्मण में पुनर्जन्म के बारे में विस्तार से वर्णन मिलता है.

हिंदू शास्त्रों में कहा गया है कि मरणोपरांत आत्माएं पुनर्जन्म लेती हैं. लेकिन क्या वास्तव में आत्माएं पुनर्जन्म लेती हैं? आज हम आपको इस बारे में बताएंगे. पंडित इंद्रमणि घनस्याल बताते हैं कि सभी आत्माएं पुनर्जन्म नहीं ले पाती हैं. कुछ विशेष आत्माओं का ही पुनर्जन्म होता है. पौराणिक वेद यजुर्वेद के शतपथ ब्राह्मण में पुनर्जन्म के बारे में विस्तार से वर्णन मिलता है. मनुष्य के कर्म और पुनर्जन्म परस्पर एक दूसरे के साथ निरंतर चलते रहते हैं. आइए जानते हैं आत्माओं के पुनर्जन्म को लेकर क्या मान्यताएं हैं.

अकाल मृत्यु के कारण
जब किसी मनुष्य की मृत्यु किसी दुर्घटना या हादसे के दौरान होती है और उसकी कुछ इच्छाएं अधूरी रह जाती हैं तो ऐसी आत्मा को अपनी इच्छाओं की पूर्ति करने के लिए पुनर्जन्म मिलता है.

अधिक पाप करने के कारण
कभी-कभी कोई मनुष्य अपने जीवन में बहुत पाप करता है, इसलिए मरने के बाद भगवान उसे वापस लोक में भेज देते हैं, जिससे उसे धरती पर बहुत सारे कष्टों का सामना करना पड़ता है.

दिव्य पुरुष की आत्मा का पुनर्जन्म
कभी-कभी भगवान मनुष्य के कल्याण के लिए किसी ऋषि, महात्मा या दिव्य पुरुष की आत्मा को वापस पृथ्वीलोक भेज देते हैं.

यह भी पढ़ेंः बरगद के पेड़ की पूजा क्यों की जाती है, जानें इसका लाभ

यह भी पढ़ेंः पीपल के पेड़ से जुड़े ये 5 ज्योतिषी उपाय चमका देंगे आपकी किस्मत

पुण्यों का फल समाप्त हो जाने पर
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, कुछ आत्माओं का जन्म पुण्यों के आधार पर होता है. जैसे कुछ मनुष्य ने अगर अपने जीवन में थोड़ा बहुत भी पुण्य कर्म किया होता है और उनके पुण्य का फल खत्म हो जाता है तो ऐसी आत्मा को पुनःधरती पर भेज दिया जाता है.

अपूर्ण साधना पूर्ण करने के लिए
कभी-कभी किसी मनुष्य की मृत्यु जल्दी हो जाती है और उसकी कोई तपस्या या साधना अपूर्ण रह जाती है तो उसे पूर्ण करने के लिए उसका पुनर्जन्म होता है.

उपकार का प्रतिफल चुकाने के लिए
कभी-कभी किसी भले मनुष्य द्वारा किए गए उपकार का प्रतिफल चुकाने के लिए भी आत्मा का पुनर्जन्म होता है.

प्रतिकार लेने के लिए
हिंदू शास्त्रों के अनुसार, अगर कोई मनुष्य किसी मनुष्य के साथ बहुत अन्याय करता है और उस मनुष्य की मृत्यु हो जाती है, तो उसका प्रतिकार बदला लेने के लिए भी पुनर्जन्म मिलता है.

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Religious

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें