Rishi Panchami: आज है ऋषि पंचमी, जानें व्रत की विधि और पूजा का शुभ मुहूर्त

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 2:01 PM IST
Rishi Panchami: आज है ऋषि पंचमी, जानें व्रत की विधि और पूजा का शुभ मुहूर्त
Rishi Panchami: आज है ऋषि पंचमी. जानें व्रत की विधि और पूजा का शुभ मुहूर्त

Rishi Panchami 2019, Vrat Katha and Images: ऋषि पंचमी हर साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष में पड़ती है. कुछ भक्त इस दिन ऋषि पंचमी का व्रत रखते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2019, 2:01 PM IST
  • Share this:
ऋषि पंचमी पूजा विधि और शुभ मुहूर्त (Rishi Panchami,Rishi Panchami Pooja vidhi And Shubh Muhurt): आज 3 सितंबर सोमवार को ऋषि पंचमी मनाई जा रही है. ऋषि पंचमी हर साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष में पड़ती है. कुछ भक्त इस दिन ऋषि पंचमी का व्रत रखते हैं. हिंदू धर्म में विवाहित महिलाओं के लिए इस व्रत को काफी महत्वपूर्ण माना गया है. मान्यता है कि इससे उनकी सभी मान्यताएं पूरी होती हैं. यह भी माना जाता है कि इस व्रत के प्रभाव से पाप कर्मों से मुक्ति मिलती है. इस व्रत में सप्तऋषियों में शामिल सातों ऋषियों की विधिवत षोडशोपचार विधि से पूजा अर्चना की जाती है. यही वजह है कि व्रत को ऋषि पंचमी कहा जाता है. आइए जानते है व्रत का मुहूर्त एवं व्रत की विधि...

ऋषि पंचमी शुभ मुहूर्त:
ऋषि पंचमी के दिन पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 5 मिनट से शुरू होकर दोपहर 1 बजकर 36 मिनट तक रहेगा.

इसे भी पढ़ें: आज कुछ इस तरह बनाएं ये स्पेशल मोदक- रेसिपी

व्रत विधि-
ऋषि पंचमी के दिन सुबह उठकर नित्यकर्म निपटाने के बाद स्नान करना चाहिए. हो सके तो स्नान के पानी में किसी पवित्र नदी का जल मिला लें. इसके बाद पूजाघर में आटे और रंगों से सर्वतोभद्र मण्डलचौक
(रंगों, आटे, रोली, अक्षत और सुपारी की सहायता से बनाया गया वर्गाकार चौक) बनाकर उसपर तांबे या पीतल के कलश में जल भरकर स्थापित करना चाहिए. कलश में आम या अशोक के पत्तों को डालकर ऐसा मानना चाहिए कि उसके पत्तों में कश्यप, अत्रि, भरद्वाज, विश्वामित्र, गौतम, जमदग्नि तथा वशिष्ठ-इन सप्तर्षियों और देवी अरुन्धती की प्राण प्रतिष्ठा की गयी है और फिर विधिवत पूजा पाठ करना चाहिए.
Loading...

इसे भी पढ़ें: 'क्रिएटिव' बनना चाहते हैं, तो रोज करें मेडिटेशन: अध्ययन

इस मन्त्र से दें अर्घ्य:
''कश्यपोऽत्रिर्भरद्वाजो विश्वामित्रोऽथ गौतमः. जमदग्निर्वसिष्ठश्च सप्तैते ऋषयः स्मृताः. दहन्तु पापं मे सर्वं गृह्णन्त्वर्घ्यं नमो नमः.’’

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 12:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...