लाइव टीवी

सकट चौथ व्रत कथा 2020: इस कथा के बिना अधूरा है व्रत

News18Hindi
Updated: January 6, 2020, 6:48 AM IST
सकट चौथ व्रत कथा 2020: इस कथा के बिना अधूरा है व्रत
सकट चौथ व्रत कथा 2020

सकट चौथ व्रत कथा (Sakat Chauth 2020): पौराणिक कथाओं के अनुसार, सकट चौथ के दिन गणेश भगवान के जीवन पर आया सबसे बड़ा संकट टल गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2020, 6:48 AM IST
  • Share this:
सकट चौथ व्रत कथा (Sakat Chauth 2020): सकट चौथ या संकष्टी चौथ के दिन महिलाएं संतान की लंबी आयु और सेहतमंद जीवन के लिए गणेश भगवान की पूजा-अर्चना करती हैं और दिनभर व्रत रखती हैं. इस बार सकट चौथ या संकष्टी चौथ का व्रत 13 जनवरी सोमवार को पड़ रहा है. इस दिन महिलाएं निर्जला उपवास रखेंगी. आइए जानते हैं इस व्रत की कथा.

पौराणिक कथाओं के अनुसार, सकट चौथ के दिन गणेश भगवान के जीवन पर आया सबसे बड़ा संकट टल गया था. इसीलिए इसका नाम सकट चौथ पड़ा. इसे पीछे ये कहानी है कि मां पार्वती एकबार स्नान करने गईं. स्नानघर के बाहर उन्होंने अपने पुत्र गणेश जी को खड़ा कर दिया और उन्हें रखवाली का आदेश देते हुए कहा कि जब तक मैं स्नान कर खुद बाहर न आऊं किसी को भीतर आने की इजाजत मत देना.

गणेश जी अपनी मां की बात मानते हुए बाहर पहरा देने लगे. उसी समय भगवान शिव माता पार्वती से मिलने आए लेकिन गणेश भगवान ने उन्हें दरवाजे पर ही कुछ देर रुकने के लिए कहा.

इसे भी पढ़ें:  Vastu Tips 2020: नए साल में चाहिए खुशियां, तो घर में करें ये वास्तु बदलाव



भगवान शिव ने इस बात से बेहद आहत और अपमानित महसूस किया. गुस्से में उन्होंने गणेश भगवान पर त्रिशूल का वार किया. जिससे उनकी गर्दन दूर जा गिरी.

स्नानघर के बाहर शोरगुल सुनकर जब माता पार्वती बाहर आईं तो देखा कि गणेश जी की गर्दन कटी हुई है. ये देखकर वो रोने लगीं और उन्होंने शिवजी से कहा कि गणेश जी के प्राण फिर से वापस कर दें.

इसपर शिवजी ने एक हाथी का सिर लेकर गणेश जी को लगा दिया. इस तरह से गणेश भगवान को दूसरा जीवन मिला. तभी से गणेश की हाथी की तरह सूंड होने लगी. तभी से महिलाएं बच्चों की सलामती के लिए माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी का व्रत करने लगीं.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 6, 2020, 6:48 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर