• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • SHANI DEV WORSHIP METHOD WISHES WILL BE FULFILLED DLNK

इस तरह करेंगे पूजा तो प्रसन्‍न होंगे शनि देव, बनेंगे बिगड़े काम

पूजा (Puja) और व्रत करने से शनिदेव (Shani Dev) की कृपा होती है और सारे दुख खत्म हो जाते हैं. शनिदेव के क्रोध से बचना बेहद जरूरी होता है नहीं तो मनुष्य पर कई तरह के दोष लग जाते हैं. इसके अलावा उनकी पूजा करते समय भी कई तरह की बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

पूजा (Puja) और व्रत करने से शनिदेव (Shani Dev) की कृपा होती है और सारे दुख खत्म हो जाते हैं. शनिदेव के क्रोध से बचना बेहद जरूरी होता है नहीं तो मनुष्य पर कई तरह के दोष लग जाते हैं. इसके अलावा उनकी पूजा करते समय भी कई तरह की बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

  • Share this:
    हिंदू धर्म में शनिवार के दिन कर्म फलदाता शनिदेव (Shani Dev) के पूजन (Puja) को शुभ माना जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हर व्यक्ति द्वारा किए जाने वाले कामों का फल देने वाले शनिदेव ही हैं. ऐसा कहा जाता है कि कर्म फलदाता शनिदेव को प्रसन्न करके कोई भी व्यक्ति जीवन के कष्टों से मुक्ति पा सकता है. विशेषकर जिन लोगों के पास रोजगार की समस्‍या है और जो लोग निर्धन हैं. या जो लोग पारिवारिक दिक्‍कतों का सामना कर रहे हैं, उन्हें शनिदेव का पूजन करने की सलाह दी जाती है. मान्यता है कि शनिवार के दिन कुछ विशेष मंत्रों के साथ शनिदेव का पूजन किया जाए तो भगवान प्रसन्न होते हैं और भक्तों को आशीर्वाद देते हैं. आइए जानते हैं शनिवार के दिन किन खास मंत्रों और विधि से शनिदेव का पूजन करना चाहिए.

    पूर्ण नियमानुसार पूजा और व्रत करने से शनिदेव की कृपा होती है और सारे दुख खत्म हो जाते हैं. शनिदेव के क्रोध से बचना बेहद जरूरी होता है नहीं तो मनुष्य पर कई तरह के दोष लग जाते हैं. इसके अलावा उनकी पूजा करते समय भी कई तरह की बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए. आइए जानते हैं कौन सी हैं वो बातें.

    शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए करें इन मंत्रों का जाप
    - "ॐ शं शनैश्चराय नमः"

    - "ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः"

    - "ॐ शन्नो देविर्भिष्ठयः आपो भवन्तु पीतये सय्योंरभीस्रवन्तुनः
    इस तरह करें शनि देव की पूजा
    - सूर्य पुत्र शनिदेव की उपासना करने के लिए कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक माना जाता है.

    - मान्यताओं के अनुसार, शनिवार के दिन प्रातः काल उठकर शिवजी की उपासना करनी चाहिए.

    - जिन लोगों को आर्थिक समस्याएं होती हैं उन्हें शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की जड़ में जल अर्पित करके, सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए.

    - जो लोग सुबह शनि की उपासना नहीं कर पाते हैं वह शाम को शनिदेव के मंत्रों का जाप कर सकते हैं.

    - शनिवार के दिन शाम को पीपल के पेड़ के नीचे सरसों को दिया जलाना चाहिए.

    शनिदेव की पूजा कभी भी मूर्ति के सामने नहीं करनी चाहिए. शनिदेव की पूजा कभी भी मूर्ति के सामने नहीं करनी चाहिए.

    ये भी पढ़ें - सोमवार को करें भगवान शिव की पूजा, मगर भूल कर भी न करें ये काम
    शनि देव की उपासना में भूल कर भी न करें ये काम
    - शनिदेव की पूजा कभी भी मूर्ति के सामने नहीं करनी चाहिए.

    - शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा हमेशा उसी मंदिर में करें जहां पर वह शिला के रूप में विराजमान हों.

    - प्रतीक रूप में शमी के या पीपल के वृक्ष की आराधना करनी चाहिए.

    - शनि देव की पूजा करते वक्त सरसों के तेल का दीपक जलाना शुभ माना जाता है, लेकिन बिना किसी कारण शनि शिला पर सरसों को तेल नहीं डालना चाहिए. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Naaz Khan
    First published: