• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • SHANI JAYANTI 2021 DATE 10 JUNE KNOW PUJA VIDHI AND IMPORTANCE DLNK

Shani Jayanti 2021: शनि जयंती पर इस विधि से करें पूजा, जानें इस दिन क्‍यों दान का है विशेष महत्‍व

Shani Jayanti 2021: शनि देव की पूजा करने से सभी मंगल कामनाएं पूर्ण होती हैं.

Shani Jayanti 2021: मनुष्य द्वारा किया गया कोई भी बुरा या अच्छा कार्य शनिदेव (Shani Dev) से छिपा हुआ नहीं है. शनि जयंती पर शनिदेव की पूरे विधि-विधान से पूजा (Worship) करनी चाहिए. मान्यता है कि इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं.

  • Share this:
    Shani Jayanti 2021: शनिदेव (Shani Dev) को न्याय का देवता माना जाता है. इस साल कल यानी 10 जून को शनि जयंती मनाई जाएगी. शनि दोषों (Shani Dosh) से छुटकारा और शनि कृपा पाने के लिए इस दिन भगवान शनि की पूजा की जाती है, इसका विशेष महत्व है. यह हर साल ज्येष्ठ मास की अमावस्या को मनाते हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मनुष्य के कर्मों के अनुसार ही शनिदेव उसे वैसा ही फल देते हैं. मनुष्य द्वारा किया गया कोई भी बुरा या अच्छा कार्य शनिदेव से छिपा हुआ नहीं है. इस दिन शनिदेव की विधि-विधान से पूजा (Worship) की जाती है.

    मान्यता है कि इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं. मान्‍यता है कि साढ़ेसाती और ढय्या आदि समस्‍याओं से परेशान लोगों के लिए शनि जयंती खास पर्व होता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन शनि पूजा करने, व्रत रखने और दान करने से व्‍यक्ति शनि के अशुभ प्रभाव से मुक्ति पाता है. शनिदेव की विधि पूर्वक पूजा करने से भक्‍तों की सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और उन पर शनिदेव की कृपा बनी रहती है.

    ये भी पढ़ें - Shani Jayanti 2021: 10 जून को है शनि जयंती. जानें शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय

    जानें शनि पूजा विधि
    शनि जयंती के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करके इस व्रत का सकंल्प लें.
    - सबसे पहले शनिदेव की पूजा में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें.
    साफ काले रंग का एक कपड़ा बिछाकर उस पर शनिदेव की प्रतिमा स्थापित करें.
    फिर शनि देव के इस स्वरूप को पंचगव्य, पंचामृत आदि से स्नान करवाना चाहिए.
    शनिदेव को सिंदूर, कुमकुम, काजल, अबीर, गुलाल और नीले या काले फूल अर्पित करने चाहिए.
    शनिदेव को तेल से बने पदार्थ अर्पित करें और शनि मंत्र का जाप करें.
    - शनि देव के विशेष दिनों में मंदिर में जाकर उनके दर्शन जरूर करना चाहिए.
    - शनि जयंती पर सूर्य देव की पूजा नहीं करनी चाहिए.

    ये भी पढ़ें - आज मंगल करेगा कर्क राशि में प्रवेश, इनका बदलेगा भाग्‍य, ये रहें सावधान

    शनिदेव की पूजा का है विशेष महत्व
    मान्‍यता है कि मनुष्य द्वारा जान बूझकर या अंजाने में किए गए कार्यों और गलतियों का संपूर्ण लेखा जोखा शनिदेव के पास होता है. मनुष्य द्वारा किया गया कोई भी बुरा या अच्छा कार्य शनिदेव से छिपा हुआ नहीं है. इसलिए शनिदेव को न्‍याय का देवता माना जाता है. शास्त्रों में शनिदेव की पूजा का विशेष महत्व है. शनि जयंती के दिन अगर सही तरीके से शनिदेव की पूजा की जाए तो इससे ग्रहों की दशा में सुधार होता है. साथ ही शनिदेव की असीम कृपा प्राप्त होती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
    Published by:Naaz Khan
    First published: