Home /News /dharm /

shani jayanti 2022 shani kavach and shani stotra path shani dev to protect you kar

Shani Jayanti 2022: शनि जयंती पर करें कवच या स्तोत्र का पाठ, रक्षा करेंगे शनि देव

शनि देव का जन्म दिवस 30 मई दिन सोमवार को है.

शनि देव का जन्म दिवस 30 मई दिन सोमवार को है.

शनि जयंती (Shani Jayanti) 30 मई को है. शनि देव गलत कर्म करने वालों को जिस प्रकार से दंड देते हैं, उसी प्रकार से अच्छे कर्म करने वालों की रक्षा भी करते हैं. आइए जानते हैं शनि स्तोत्र और शनि कवच के बारे में.

शनि देव का जन्म दिवस 30 मई दिन सोमवार को है. यह शनि जयंती (Shani Jayanti) के नाम से प्रसिद्ध है. शनि देव गलत कर्म करने वालों को जिस प्रकार से दंड देते हैं, उसी प्रकार से अच्छे कर्म करने वालों की रक्षा भी करते हैं. जिन पर शनि देव की कृपा हो जाती है, उनके बिगड़े काम बन जाते हैं, रोग और दोष से वह मुक्त हो जाता है. श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ. मृत्युञ्जय तिवारी कहते हैं कि जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या चल रही है, जो रोग दोष आदि से परेशान है, उन लोगों को शनि जयंती के अवसर पर शनि कवच या फिर शनि स्तोत्र का पाठ करना चाहिए.

यह भी पढ़ें: शनि जयंती पर करें ये 7 आसान उपाय, साढ़ेसाती और ढैय्या से मिलेगी राहत

शनि स्तोत्र और शनि कवच का पाठ करना बहुत ही लाभकारी है. इससे शनि देव प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की सभी प्रकार के संकटों से रक्षा करते हैं. राजा दशरथ ने पृथ्वी लोक की रक्षा के लिए शनि स्तोत्र से शनि देव को प्रसन्न किया था.

शनि स्तोत्र
नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च।
नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम:।।

नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च।
नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते।।

यह भी पढ़ें: इस साल शनि जयंती पर बन रहे हैं कई शुभ संयोग, जानें पूजा का मुहूर्त

नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नम:।
नमो दीर्घाय शुष्काय कालदंष्ट्र नमोऽस्तु ते।।

नमस्ते कोटराक्षाय दुर्नरीक्ष्याय वै नम:।
नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने।।

नमस्ते सर्वभक्षाय बलीमुख नमोऽस्तु ते।
सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करेऽभयदाय च।।

अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तु ते।
नमो मन्दगते तुभ्यं निस्त्रिंशाय नमोऽस्तुते।।

तपसा दग्ध-देहाय नित्यं योगरताय च।
नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नम:।।

ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज-सूनवे।
तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात्।।

देवासुरमनुष्याश्च सिद्ध-विद्याधरोरगा:।
त्वया विलोकिता: सर्वे नाशं यान्ति समूलत:।।

प्रसाद कुरु मे सौरे वारदो भव भास्करे।
एवं स्तुतस्तदा सौरिर्ग्रहराजो महाबल:।।

शनि कवच
अस्य श्री शनैश्चरकवचस्तोत्रमंत्रस्य कश्यप ऋषिः, अनुष्टुप् छन्दः, शनैश्चरो देवता, शीं शक्तिः, शूं कीलकम्, शनैश्चरप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः

नीलाम्बरो नीलवपु: किरीटी गृध्रस्थितत्रासकरो धनुष्मान्।
चतुर्भुज: सूर्यसुत: प्रसन्न: सदा मम स्याद्वरद: प्रशान्त:।।

श्रृणुध्वमृषय: सर्वे शनिपीडाहरं महंत्।
कवचं शनिराजस्य सौरेरिदमनुत्तमम्।।

कवचं देवतावासं वज्रपंजरसंज्ञकम्।
शनैश्चरप्रीतिकरं सर्वसौभाग्यदायकम्।।

ऊँ श्रीशनैश्चर: पातु भालं मे सूर्यनंदन:।
नेत्रे छायात्मज: पातु कर्णो यमानुज:।।

नासां वैवस्वत: पातु मुखं मे भास्कर: सदा।
स्निग्धकण्ठश्च मे कण्ठ भुजौ पातु महाभुज:।।

स्कन्धौ पातु शनिश्चैव करौ पातु शुभप्रद:।
वक्ष: पातु यमभ्राता कुक्षिं पात्वसितस्थता।।

नाभिं गृहपति: पातु मन्द: पातु कटिं तथा।
ऊरू ममाSन्तक: पातु यमो जानुयुगं तथा।।

पदौ मन्दगति: पातु सर्वांग पातु पिप्पल:।
अंगोपांगानि सर्वाणि रक्षेन् मे सूर्यनन्दन:।।

इत्येतत् कवचं दिव्यं पठेत् सूर्यसुतस्य य:।
न तस्य जायते पीडा प्रीतो भवन्ति सूर्यज:।।

व्ययजन्मद्वितीयस्थो मृत्युस्थानगतोSपि वा।
कलत्रस्थो गतोवाSपि सुप्रीतस्तु सदा शनि:।।

अष्टमस्थे सूर्यसुते व्यये जन्मद्वितीयगे।
कवचं पठते नित्यं न पीडा जायते क्वचित्।।

इत्येतत् कवचं दिव्यं सौरेर्यन्निर्मितं पुरा।
जन्मलग्नस्थितान्दोषान् सर्वान्नाशयते प्रभु:।।

Tags: Dharma Aastha, Shani Jayanti

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर