Navratri Day 6, Maa Katyayani Puja: मां कात्यायनी की पूजा मिलेगा योग्य जीवनसाथी, जानें पूजा विधि, मंत्र

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है
नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है

शारदीय नवरात्रि २०२० (Shardiya Navratri 2020/Navratri Sixth Day):नवरात्रि (Navratri 2020)के छठवें दिन देवी मां कात्यायनी की पूजा करने से मन की शक्ति मजबूत होते है और साधक इन्द्रियों को वश में कर सकता है. अविवाहितों को देवी की पूजा करने से अच्छे जीवनसाथी की प्राप्ति होती है..

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2020, 4:31 PM IST
  • Share this:
शारदीय नवरात्रि २०२० (Shardiya Navratri 2020/Navratri Sixth Day): आज नवरात्रि (Navratri 2020) का 6वां दिन है. आज मां नव दुर्गा के छठे रूप मां कात्यायनी देवी की पूजा-अर्चना (Maa Katyayani Puja) की जाती है. मान्यता है कि मां का यह स्वरूप सुख और शांति प्रदान करने वाला है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, देवी कात्यायनी की पूजा करने से मन की शक्ति मजबूत होते है और साधक इन्द्रियों को वश में कर सकता है. अविवाहितों को देवी की पूजा करने से अच्छे जीवनसाथी की प्राप्ति होती है. धर्म ग्रंथों के अनुसार, इन्हीं देवी ने महिषासुर का मर्दन किया था. आइए जानते हैं नवरात्रि के छठे दिन किस तरह करें देवी कात्यायनी की पूजा:
मां कात्यायनी की पूजा :
मां कात्यायनी की पूजा करने के लिए सबसे पहले पूजा की चौकी पर साफ लाल रंग का कपड़ा बिछाकर उस पर मां कात्यायनी की मूर्ति रखें. गंगाजल से पूजाघर और घर के बाकी स्थानों को पवित्र करें. वैदिक मंत्रोच्चार के साथ व्रत का संकल्प पढ़ें एवं सभी देवी-देवताओं को नमस्कार करते हुए षोडशोपचार पूजन करें. मां कात्यायनी को दूध, घी, दही और शहद से स्नान करवाएं. मां कात्यायनी को शहद अति प्रिय है. इसलिए पूजा में देवी को शुद्ध शहद अर्पित करें. इसके बाद पूरे भक्ति भाव से देवी का मंत्र पढ़ें. मन में जो मनोकामना हो उसे दोहराते हुए देवी से आशीर्वाद मांगें.


देवी कात्यायनी का मंत्र:
चंद्रहासोज्जवलकरा शार्दूलवर वाहना।


कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनि।| (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज