• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि पर मां दुर्गा को खुश करने के लिए पढ़ें दुर्गा चालीसा

Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि पर मां दुर्गा को खुश करने के लिए पढ़ें दुर्गा चालीसा

नवरात्रि के 9 दिन रोजाना दुर्गा चालीसा का पाठ करें. Image-shutterstock.com

नवरात्रि के 9 दिन रोजाना दुर्गा चालीसा का पाठ करें. Image-shutterstock.com

Shardiya Navratri 2021: माना जाता है नवरात्रि पर दुर्गा चालीसा (Durga Chalisa) का पाठ करने से मां प्रसन्न होती हैं और भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती हैं.

  • Share this:

    Shardiya Navratri 2021: आज नवरात्रि का छठा दिन है. नवरात्रि मां दुर्गा (Maa Durga) की उपासना का विशेष पर्व है. नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की उपासना की जाती है. नवरात्रि के पावन दिनों में मां के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है जो अपने भक्तों को खुशी, शक्ति और ज्ञान प्रदान करती हैं. मान्यता है कि नवरात्रि के व्रत रखने वालों को मां दुर्गा का आशीर्वाद मिलता है और उनके सभी संकट दूर हो जाते हैं. माता रानी उनकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं. शारदीय नवरात्रि में पूरे नौ दिन तक व्रत रखने वाले भक्त मां दुर्गा को खुश करने के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ करते हैं. माना जाता है नवरात्रि पर दुर्गा चालीसा का पाठ करने से मां प्रसन्न होती हैं और भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती हैं. व्रत करने वाले ज्यादातर लोग नवरात्रि के 9 दिन रोजाना दुर्गा चालीसा का पाठ करते हैं. नवरात्रि या किसी भी अन्य मौके पर मां दुर्गा की स्तुति के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ शास्त्रों में भी उत्तम माना गया है. तो आइए पढ़ते हैं संपूर्ण दुर्गा चालीसा.

    दुर्गा चालीसा का पाठ

    नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो अंबे दुःख हरनी॥

    निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूं लोक फैली उजियारी॥

    इसे भी पढ़ेंः Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि पर मां दुर्गा के इन मंदिरों में करें दर्शन, मिलेगा आशीर्वाद

    शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥

    रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश करत जन अति सुख पावे॥

    तुम संसार शक्ति लै कीना। पालन हेतु अन्न धन दीना॥

    अन्नपूर्णा हुई जग पाला। तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥

    प्रलयकाल सब नाशन हारी। तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥

    शिव योगी तुम्हरे गुण गावें। ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥

    रूप सरस्वती को तुम धारा। दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥

    धरयो रूप नरसिंह को अम्बा। परगट भई फाड़कर खम्बा॥

    रक्षा करि प्रह्लाद बचायो। हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥

    लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं। श्री नारायण अंग समाहीं॥

    क्षीरसिन्धु में करत विलासा। दयासिन्धु दीजै मन आसा॥

    हिंगलाज में तुम्हीं भवानी। महिमा अमित न जात बखानी॥

    मातंगी अरु धूमावति माता। भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥

    श्री भैरव तारा जग तारिणी। छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥

    केहरि वाहन सोह भवानी। लांगुर वीर चलत अगवानी॥

    कर में खप्पर खड्ग विराजै। जाको देख काल डर भाजै॥

    सोहै अस्त्र और त्रिशूला। जाते उठत शत्रु हिय शूला॥

    नगरकोट में तुम्हीं विराजत। तिहुँलोक में डंका बाजत॥

    शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे। रक्तन बीज शंखन संहारे॥

    महिषासुर नृप अति अभिमानी। जेहि अघ भार मही अकुलानी॥

    रूप कराल कालिका धारा। सेन सहित तुम तिहि संहारा॥

    परी गाढ़ सन्तन पर जब जब। भई सहाय मातु तुम तब तब॥

    आभा पुरी अरु बासव लोका। तब महिमा सब रहें अशोका॥

    ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी। तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥

    प्रेम भक्ति से जो यश गावें। दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥

    ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई। जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥

    जोगी सुर मुनि कहत पुकारी। योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥

    शंकर आचारज तप कीनो। काम क्रोध जीति सब लीनो॥

    निशिदिन ध्यान धरो शंकर को। काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥

    शक्ति रूप का मरम न पायो। शक्ति गई तब मन पछितायो॥

    शरणागत हुई कीर्ति बखानी। जय जय जय जगदम्ब भवानी॥

    भई प्रसन्न आदि जगदम्बा। दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥

    मोको मातु कष्ट अति घेरो। तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥

    आशा तृष्णा निपट सतावें। रिपु मुरख मोही डरपावे॥

    इसे भी पढ़ेंः Shardiya Navratri 2021: मां सती की जीभ से बना शक्तिपीठों में से एक ‘ज्वाला देवी मंदिर’, जानें इसका रहस्य

    शत्रु नाश कीजै महारानी। सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥

    करो कृपा हे मातु दयाला। ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।

    जब लगि जियऊं दया फल पाऊं। तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं॥

    श्री दुर्गा चालीसा जो कोई गावै। सब सुख भोग परमपद पावै॥

    देवीदास शरण निज जानी। करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज