Home /News /dharm /

Shiv Panchakshar Stotra: शिव पंचाक्षर स्तोत्र का रोज करें पाठ, कालसर्प दोष से मिलेगी राहत

Shiv Panchakshar Stotra: शिव पंचाक्षर स्तोत्र का रोज करें पाठ, कालसर्प दोष से मिलेगी राहत

शिव पंचाक्षर स्तोत्र

शिव पंचाक्षर स्तोत्र

Shiv Panchakshar Stotra: कुंडली (Kundali) में कालसर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) के कारण लोग परेशान रहते हैं. आप यदि भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा के समय शिव पंचाक्षर स्तोत्र का पाठ करें, तो आपको कालसर्प दोष से मुक्ति मिलेगी.

Shiv Panchakshar Stotra: कुंडली (Kundali) में कालसर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) के कारण लोग परेशान रहते हैं. इसकी वजह से कार्यों में सफलता नहीं मिलती है. मानसिक परेशानी रहती है. मेहनत करने के बाद भी फल नहीं मिलता है. कालसर्प दोष का योग है, तो उस व्यक्ति को प्रत्येक दिन भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा करनी चाहिए. भगवान शिव की आराधना से कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है. आप यदि भगवान शिव की पूजा के समय शिव पंचाक्षर स्तोत्र का पाठ करें और उस समय इत्र और कपूर का प्रयोग करें, तो आपको कालसर्प दोष से मुक्ति मिलेगी. शिव पंचाक्षर स्तोत्र बहुत ही प्रभावी माना जाता है. आइए जानते हैं शिव पंचाक्षर स्तोत्र के बारे में.

शिव पंचाक्षर स्तोत्र

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे न काराय नम: शिवाय:।।

मंदाकिनी सलिल चंदन चर्चिताय नंदीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय।
मंदारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय तस्मे म काराय नम: शिवाय:।।

शिवाय गौरी वदनाब्जवृंद सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय।
श्री नीलकंठाय वृषभद्धजाय तस्मै शि काराय नम: शिवाय:।।

यह भी पढ़ें: कुंडली में क्या है कालसर्प योग? कैसे पहचानें? जानें बचाव के 7 उपाय

वशिष्ठ कुभोदव गौतमाय मुनींद्र देवार्चित शेखराय।
चंद्रार्क वैश्वानर लोचनाय तस्मै व काराय नम: शिवाय:।।

यज्ञस्वरूपाय जटाधराय पिनाकस्ताय सनातनाय।
दिव्याय देवाय दिगंबराय तस्मै य काराय नम: शिवाय:।।

पंचाक्षरमिदं पुण्यं य: पठेत शिव सन्निधौ।
शिवलोकं वाप्नोति शिवेन सह मोदते।।

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे ‘न’ काराय नमः शिवायः।।

यह भी पढ़ें: इन 4 लोगों से शनिदेव को लगता है डर

कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए सावन के समय में रुद्राभिषेक कराना सबसे उत्तम उपाय होता है. सावन का माह भगवान शिव की पूजा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है. इसमें आप रुद्राभिषेक कराकर रोग और दोष से मुक्ति पा सकते हैं.  आप शिव पूजा में प्रत्येक दिन शिव पंचाक्षर मंत्र ओम नम: शिवाय का भी जाप कर सकते हैं. यह सबसे सरल और सबसे प्रभावी मंत्र है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Lord Shiva

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर