होम /न्यूज /धर्म /भगवान शिव के प्रिय गण नंदी ने रावण को दिया था ऐसा श्राप, हो गया उसका सर्वनाश

भगवान शिव के प्रिय गण नंदी ने रावण को दिया था ऐसा श्राप, हो गया उसका सर्वनाश

कैलाश पर्वत पर नंदी ने रावण को श्राप दिया था. Image-Canva

कैलाश पर्वत पर नंदी ने रावण को श्राप दिया था. Image-Canva

नंदी भगवान शिव के प्रमुख गणों में एक हैं. जब रावण शिवजी ने मिलने कैलाश पर्वत पहुंचा था तो नंदी ने रावण को श्राप दे दिया ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

नंदी भगवान शिव के सबसे प्रिय गण हैं.
नंदी ने रावण को उपहास के कारण श्राप दिया था.

हिंदू धर्म ग्रंथ रामायण में राम और रावण के युद्ध का वर्णन मिलता है. रावण भगवान शिव का सबसे बड़ा भक्त था और उसे भगवान शिव से कई वरदान प्राप्त थे. रावण ने ही शिव स्त्रोत की रचना की थी. नंदी भगवान शिव के प्रमुख गणों में एक हैं.  वे भगवान शिव के प्रिय गण और वाहन हैं. एक समय नंदी और रावण की मुलाकात हुई तो नंदी ने रावण को श्राप दे दिया था. पंडित इंद्रमणि घनस्याल से जानते हैं यह कथा. 

उपहास करने पर रावण को दिया श्राप
पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार रावण शिव जी से मिलने के लिए कैलाश पर्वत पर गया. कैलाश पर्वत पर रावण ने नंदी को देखा और जोर-जोर से हंसने लगा. रावण ने नंदी से कहा कि तुम्हारा स्वरूप देखो कैसा है. तुम वानर की शक्ल जैसे लग रहे हो.

रावण के उपहास से नंदी को क्रोध आ गया और अपने अपमान के बदले रावण को श्राप दे दिया. नंदी ने कहा कि तुमने मेरा वानर कहकर उपहास उड़ाया है, एक दिन वानर ही तुम्हारे सर्वनाश का कारण होगा. 

और रावण की हो गई मृत्यु
जैसा कि रामायण में उल्लेख है कि रावण ने कई बार महान पुरुषों का अपमान किया था. इसके कारण रावण को बहुत बार श्राप मिला था. नंदी का उपहास करने के कारण रावण को वानरों द्वारा सर्वनाश होने का श्राप मिला था.

ये भी पढ़ें: अमावस्या व्रत में सुनते हैं यह कथा, मिलता है सुख और सौभाग्य

ये भी पढ़ें: मां भगवती को इसलिए लेना पड़ा भ्रामरी और शाकंभरी माता का अवतार, पढ़ें कथा

एक समय जब रावण सीता का हरण करके लंका में ले गया था. तब भगवान श्रीराम ने हनुमान जी को सीता जी को ढूंढने के लिए भेजा था. तब हनुमान जी ने माता सीता का पता लगाया था और हनुमान जी ने अशोक वाटिका उजाड़ दी थी.

इससे क्रोधित होकर रावण ने हनुमान जी को बंदी बना लिया था और हनुमान जी की पूंछ में आग लगा दी, तब हनुमान जी ने पूंछ से रावण की सोने की लंका को जला दिया था और बाद में रावण और श्रीराम के मध्य हुए युद्ध में रावण की मृत्यु हो गई थी.

Tags: Dharma Culture, Lord Shiva, Ramayan

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें