Home /News /dharm /

shravana putrada ekadashi 2022 vrat katha read this story during vishnu puja kar

Shravana Putrada Ekadashi 2022: श्रावण पुत्रदा एकादशी के दिन सुनें यह व्रत कथा, समस्त पापों से मिलेगी मुक्ति

श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा को सुनने से समस्त पापों का नाश होता है.

श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा को सुनने से समस्त पापों का नाश होता है.

सावन पुत्रदा एकादशी व्रत (Shravana Putrada Ekadashi) 08 अगस्त को पड़ रही है. जो लोग यह व्रत रखेंगे, उनको पूजा के समय श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा को सुनना चाहिए. आइए जानते हैं श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा के बारे में.

हाइलाइट्स

सावन पुत्रदा एकादशी व्रत 08 अगस्त को पड़ है.
इस दिन व्रत और विष्णु पूजा करने से पुत्र की प्राप्ति होती है.

सावन माह की पुत्रदा एकादशी व्रत (Shravana Putrada Ekadashi) 08 अगस्त दिन सोमवार को पड़ रही है. इस दिन व्रत और विष्णु पूजा करने से पुत्र की प्राप्ति होती है. जो लोग यह व्रत रखेंगे, उनको भगवान विष्णु की पूजा के समय श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा को सुनना चाहिए या पढ़ना चाहिए. कथा को सुनने से ही व्रत पूर्ण माना जाता है. काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट कहते हैं कि श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा को सुनने से समस्त पापों का नाश होता है. उस व्यक्ति को मृत्यु के बाद स्वर्ग लोग में स्थान मिलता है. आइए जानते हैं श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा के बारे में.

श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा
एक बार धर्मराज युधिष्ठिर ने भगवान श्रीकृष्ण से श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के महत्व और उसकी कथा के बारे में बताने का निवदेन किया. तब भगवान श्रीकृष्ण ने कहा कि सावन के शुक्ल पक्ष की एकादशी श्रावण पुत्रदा एकादशी के नाम से प्रसिद्ध है. आपको श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत की कथा के बारे में बताता हूं. इसकी कथा इस प्रकार है—

यह भी पढ़ें: 08 अगस्त को है पुत्रदा एकादशी, इस विधि से करें व्रत-पूजा

द्वापर युग में महिष्मति नगर था, जिसका राजा महीजित था. उसे पुत्र न होने के कारण बड़ा ही दुख था. राजपाट भी उसे अच्छा नहीं लगता था. वह मानता था कि जिसका पुत्र नहीं है, उसे लोक और परलोक में कोई सुख नहीं है. उसने कई उपाय किए, लेकिन उसे पुत्र की प्राप्ति नहीं हुई.

जब वह राजा वृद्ध हो गया तो एक दिन सभा बुलाई और उसमें प्रजा को भी शामिल किया. उसने कहा कि वह पुत्र न होने के कारण दुखी है. उसने कभी भी दूसरों को दुख नहीं दिया, प्रजा का पालन अपने पुत्र की तरह किया. इसके बाद भी उसे पुत्र की प्राप्ति नहीं हुई. ऐसा क्यों है? राजा के प्रश्न का हल ढूंढने के लिए मंत्री और उनके शुभंचिंतक जंगल में ऋषि मुनियों के पास गए.

एक स्थान पर उनको लोमश मुनि मिले. उन सभी ने लोमश मुनि को प्रणाम किया तो उन्होंने उनसे आने का कारण पूछा. तब उन सभी ने राजा के कष्ट का कारण बताया. उन्होंने कहा कि उनके राजा महीजित पुत्रहीन होने के कारण दुखी हैं, जबकि वे प्रजा की देखभाल पुत्र की तर​ह करते हैं.

यह भी पढ़ें: श्रावण पुत्रदा एकादशी पर करें ये 5 उपाय, पूरी होंगी मनोकामनाएं

तब लोमश ऋषि ने अपने तपोबल से राजा महीजित के पूर्वजन्म के बारे में पता किया. उन्होंने बताया कि यह राजा पूर्वजन्म में एक गरीब वैश्य था. धन के लिए इसने कई बुरे कर्म किए. एक बार यह ज्येष्ठ शुक्ल द्वादशी को एक जलाशय पर पानी पीने गया. दो दिन से भूखा था. वहीं पर एक गाय भी पानी पी रही थी.

तब इस राजा ने उस गाय को भगाकर स्वयं जल पीने लगा, इस वजह से राजा को इस जन्म में पुत्रहीन होने का दुख सहन करना पड़ रहा है. उन सभी ने लोमश ऋषि से इस पाप से मुक्ति का उपाय पूछा. तब उन्होंने बताया कि श्रावण शुक्ल एकादशी को व्रत करो. इससे अवश्य ही पाप मिट जाएंगे और पुत्र की प्राप्ति होगी.

सभी मंत्री और शुभचिंतक वापस आ गए और श्रावण शुक्ल एकादशी के दिन सभी प्रजा ने विधिपूर्वक व्रत रखा और पूजा की, रात्रि जागरण किया. इसके बाद सभी ने श्रावण शुक्ल एकादशी व्रत के पुण्य फल को राजा को प्रदान कर दिया. इस व्रत के पुण्य प्रभाव से रानी ने एक सुंदर बालक को जन्म दिया. इससे राजा खुश हो गया और राज्य में उत्सव मनाया गया. श्रावण शुक्ल एकादशी के दिन पुत्र की प्राप्ति हुई, इसलिए इसे पुत्रदा एकादशी कहते हैं.

Tags: Dharma Aastha, Lord vishnu, Sawan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर