Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण में भूलकर भी न करें ये काम, नहीं तो बुरा होगा परिणाम

Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण में भूलकर भी न करें ये काम, नहीं तो बुरा होगा परिणाम
सूर्य ग्रहण में भूलकर भी न करें ये काम

सूर्य ग्रहण २०१९ (Solar Eclipse 2019): सूर्य ग्रहण शुरू होने से 12 घंटे पहले सूतक काल की शुरुआत हो जाती है. सूतक काल को भी अशुभ माना जाता है. माना जाता है कि इस समय किए गए काम नकारात्मक प्रभाव पैदा करने वाले होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 26, 2019, 5:49 AM IST
  • Share this:
सूर्य ग्रहण २०१९ (Solar Eclipse 2019): आज 26 दिसंबर को साल 2019 का अंतिम सूर्य ग्रहण है. साल के इस आखिरी सूर्य ग्रहण को भारत, एशिया, अफ्रीका और आस्ट्रेलिया में देखा जा सकेगा. ज्योतिषशास्त्रियों के मुताबिक़, यह सूर्य ग्रहण खंडग्रास है. लेकिन दक्षिण भारत में सूर्य ग्रहण कंकणाकृति रहेगा. जानकारी के मुताबिक़, यह अदभुत खगोलीय घटना सालों बाद घट रही है. इससे 296 साल पहले ऐसा सूर्य ग्रहण लगा था. सूर्य ग्रहण शुरू होने से 12 घंटे पहले सूतक काल की शुरुआत हो जाती है. सूतक काल को भी अशुभ माना जाता है. माना जाता है कि इस समय किए गए काम नकारात्मक प्रभाव पैदा करने वाले होते हैं. आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण के दौरान किन कामों से बचना चाहिए....

इसे भी पढ़ेंः Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण में करें ये काम, कम होगा बुरा प्रभाव

क्या न करें: 

  • सूतक कल शुरू होने पर कोई भी मांगलिक काम करने से बचें. सूतक काल नकारात्मक प्रभाव पैदा करने वाला होता है.



  • सूर्य ग्रहण का सूतक काल लगने के बाद अन्न और जल नहीं ग्रहण करना चाहिए. माना जाता है कि इस समय खाना दूषित हो जाता है. यही वजह है कि कुछ लोग सूतक काल शुरू होने से पहले ही खाने में तुलसी के पत्ते डाल देते हैं ताकि खाना दूषित न हो.

  • सूतक काल से लेकर सूर्य ग्रहण तक के समय को काफी नकारात्मक प्रभाव पैदा करने वाला बताया जाता है. यही वजह है कि इस समय में लोग घर से बाहर निकलने, किसी बेहद शांत या निर्जन स्थान पर जाने से परहेज करने की सलाह देते हैं. माना जाता है कि इस समय नकारात्मक शक्तियां काफी प्रभावशाली हो जाती हैं.

  • सूर्य ग्रहण और सूतक काल को गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक प्रभाव पैदा करने वाला माना जाता है. इस समय गर्भवती महिलाओं को खाना नहीं पकाना चाहिए और सिलाई कढ़ाई के काम से भी बचना चाहिए.

  • सूतक काल और सूर्य ग्रहण के समय किसी भी वजह से तुलसी के पत्तों को न तोड़े. अगर आपको तुलसी के पत्तों का कोई काम है भी तो इसे सूतक काल शुरू होने से पहले ही तोड़ कर रख लें.

  • सूतक काल और सूर्य ग्रहण के समय भगवान की मूर्तियों को छुएं नहीं और पूजाघर को खुला न छोड़ें. पूजाघर का पर्दा लगा दें.

  • सूतक काल लगने के बाद तामसिक भोजन का इस्तेमाल ना करें. खाने में लहसुन, प्याज और मांस, मदिरा (शराब) का सेवन बिलकुल भी ना करें.

  • सूर्य ग्रहण के दौरान सूर्य से हानिकारक किरणें निकलती हैं. इसलिए कभी भी नंगी आंखों से सूर्य ग्रहण को देखने की गलती न करें .इससे आपकी आंखों की रौशनी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

  • इसे भी पढ़ेंः Solar Eclipse 2019: 26 दिसंबर को साल का अंतिम सूर्य ग्रहण, जानें समय, सूतक और उपायDisclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading