लाइव टीवी

Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण कब है, सभी राशियों पर पड़ेगा इसका बड़ा प्रभाव

News18Hindi
Updated: November 26, 2019, 11:04 AM IST
Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण कब है, सभी राशियों पर पड़ेगा इसका बड़ा प्रभाव
सूर्य ग्रहण कब है

Solar Eclipse 2019 (सूर्य ग्रहण कब है): सूर्य ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले सूतक काल शुरू हो जाता है जोकि ग्रहण काल के समापन तक चलता है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2019, 11:04 AM IST
  • Share this:
Solar Eclipse 2019 (सूर्य ग्रहण कब है): 26 दिसंबर को साल 2019 का अंतिम सूर्य ग्रहण है. यह सूर्य ग्रहण भारत के साथ ही एशिया, अफ्रीका, और आस्ट्रेलिया में देखा जा सकेगा. साल का अंतिम सूर्य ग्रहण खंडग्रास है. वहीं दक्षिण भारत में कंकणाकृति सूर्य ग्रहण रहेगा. सूर्य ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले सूतक काल शुरू हो जाता है जोकि ग्रहण काल के समापन तक चलता है. हिंदू धर्म की धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सूतक काल में कोई भी शुभ काम करना अशुभ माना गया है. आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें...

सूर्य ग्रहण से जुड़ी बातें:
साल का अंतिम सूर्य ग्रहण सुबह करीब 8.04 बजे से सूर्य ग्रहण काल शुरू हो जाएगा. ग्रहण का समापन सुबह 10 बजकर 56 मिनट पर होगा. यह ग्रहण काल पौष मास की अमावस्या तिथि को लगा है. मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के पश्चात पवित्र जलाशय या नदी में नहाने का रिवाज है.

इसे भी पढ़ें: मिथुन राशि के लोगों को होगी धन की प्राप्ति, जानें अन्य राशियों का हाल

ये भी है मान्यता:
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसे माना जाता है कि प्राचीन काल में जब समुद्र मंथन हुआ तो देवी देवताओं और असुरों ने इसमें भाग लिया. समुद्र मंथन से एक एक कर कई चीजें निकलीं जोकि देवताओं और असुरों में बांट ली गईं. लेकिन जब समुद्र से अमृत कलश निकला तो देवताओं और असुरों में इसे लेने के लिए होड़ मच गयी. ऐसे में भगवान विष्णु ने मोहिनी का छद्म रूप धारण किया.

असुर उनके इस रूप पर मोहित हो गए, मोहिनी के रूप में भगवान विष्णु ने असुरों को सोमरस (अमृत) का पान करवाया. लेकिन राहू नामक एक असुर ने भी धोखे से देवताओं के भेष में अमृतपान कर लिया. लेकिन जब भगवान विष्णु को उसकी चाल समझ में आई तो उन्होंने सुदर्शन चक्र से राहू का सिर धड़ से अलग कर दिया. लेकिन चूंकि वो अमृत पान कर चुका था तो उसकी मृत्यु नहीं हुई लेकिन उसके शरीर के दो हिस्से हो गए जोकि राहू और केतु कहलाये. इसके बाद से ही राहू और सूर्य के बीच दुश्मनी ठन गई. यही वजह है कि आज भी जब राहू सूर्य को ग्रसता है तो सूर्य ग्रहण लगता है.Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑस्ट्रेलिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 8:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर