Solar Eclipse 2020: सूर्य ग्रहण देखने के लिए अपनाएं ये तरीके, इन सावधानियों का भी रखें ध्यान

Solar Eclipse 2020: सूर्य ग्रहण देखने के लिए अपनाएं ये तरीके, इन सावधानियों का भी रखें ध्यान
रविवार को सूर्यग्रहण का अद्भुत नजारा दिखेगा (सांकेतिक तस्वीर)

सूर्य ग्रहण(Solar Eclipse) के दौरान नंगी आंखों से आसमान देखने पर सूरज की इनफ्रारेड और अल्ट्रावॉयलेट किरणें आंखों के रेटिना(Retina) को नुकसान पहुंचा सकती हैं.

  • Share this:
Solar Eclipse 2020: आज 21 जून को सूर्यग्रहण है. यह साल 2020 का पहला सूर्यग्रहण है. आमतौर पर 21 जून को, साल का सबसे बड़ा दिन माना जाता है. ऐसे में इस ग्रहण का महत्व और अधिक बढ़ जाता है. हालांकि आज होने वाला सूर्य ग्रहण वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. ये ग्रहण न ही आंशिक सूर्य ग्रहण होगा और न ही पूर्ण सूर्यग्रहण, क्योंकि इसमें चंद्रमा की छाया सूर्य के करीब 99% भाग को ही ढकेगी. आकाशमंडल में चंद्रमा की छाया सूर्य के केंद्र के साथ मिलकर सूर्य के चारों ओर एक वलयाकार आकृति बनाएगी. इससे सूर्य आसमान में एक आग की अंगूठी की तरह नजर आएगा. जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच में आता है और सूर्य के मध्य भाग को पूरी तरह से ढक लेता है. ऐसे में इस घटना को वलयाकार सूर्य ग्रहण कहा जाता है. आइए आज हम आपको बताते हैं कि सूर्य ग्रहण कैसे देखना चाहिए और इसे देखते हुए कौन- कौन सी सावधानी बरतनी चाहिए.

सूर्य ग्रहण को कैसे देखें

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार सूर्यग्रहण के समय आपको सोलर फिल्टर के बगौर सूर्य की तरफ नहीं देखना है. अगर आप सूर्य ग्रहण देखना चाहते हैं तो बाजार से आपको सोलर फिल्टर खरीद लेना चाहिए. इसके लिए घर के चश्मे का इस्तेमाल न करें. दूरबीन, कैमरा, टेलीस्कोप या अन्य ऑप्टिकल डिवाइस से भी सूर्य ग्रहूण न देखें. इससे आपकी आंखों को नुकसान पहुंच सकता है.



खुली आंखों से न देखें ग्रहण
चंद्रमा की तरह सूर्य ग्रहण खुली आंखों से नहीं देखना चाहिए. ऐसा कहा जाता है कि इसका बुरा असर आपकी आंखों पर पड़ सकता है. सूर्य ग्रहण को सुरक्षित तकनीक या तो एल्युमिनेटेड मायलर, ब्लैक पॉलिमर, शेड नंबर 14 के वेल्डिंग ग्लास या टेलिस्कोप द्वारा सफेद बोर्ड पर सूर्य की इमेज को प्रोजेक्‍ट करके करके उचित फिल्टर का उपयोग करके देखा जा सकता है.

सूर्य ग्रहण की फोटो मोबाइल में ऐसे लें
- सबसे पहले अपने कैमरे के आगे एक्स-रे या यूवी फिल्टर जैसी प्रोटेक्शन फिल्म का इस्तेमाल करें. इससे कैमरा सेंसर को नुकसान नहीं होगा.
- सूर्य ग्रहण की फोटो के लेते समय कैमरे को जूम न करें.
- कैमरे को 48MP या 64MP शूटिंग मोड पर रखें. जूम करने के बजाय आप हाई रेजोल्यूशन वाली इमेज क्रॉप कर सकते हैं. इससे अच्छी क्लैरिटी आएगी.

​आंखों को नुकसान से ऐसे बचाएं
सूर्य ग्रहण के दौरान अगर आप नंगी आंखों से आसमान की ओर देखे हैं तो सूरज की इनफ्रारेड और अल्ट्रावॉयलेट किरणें आंखों के रेटिना को नुकसान पहुंचा सकती हैं. इस दौरान थोड़ी देर के लिए भी सीधे सूरज की ओर नहीं देखना चाहिए. भले ही सूरज की 99 फीसदी सतह चांद से ढंकी हो, लेकिन बाकी रोशनी काफी तेज होती है जो आंखों को नुकसान पहुंचा सकती है.

गर्भवती महिलाएं रखें विशेष सावधानी
भारतीय मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण शुरू होने से लेकर ग्रहण समाप्त होने तक यानी ग्रहणकाल (21 जून को 09:15AM से 03:04PM तक) में गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी रखनी चाहिए. महिलाओं को इस दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए. हालांकि मन में किसी प्रकार का भय या चिंता नहीं रखनी चाहिए.

ये भी पढ़ें- Solar Eclipse 2020: कब से कब तक रहेगा सूर्यग्रहण, क्या होगा इसका सूतक काल, जानें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज