होम /न्यूज /धर्म /

कुंडली में मौजूद नवग्रहों को इन सरल उपायों से करें मजबूत, होगा लाभ

कुंडली में मौजूद नवग्रहों को इन सरल उपायों से करें मजबूत, होगा लाभ

सूर्य को मजबूत करने के लिए प्रतिदिन सूर्य मंत्र का जाप करें.

सूर्य को मजबूत करने के लिए प्रतिदिन सूर्य मंत्र का जाप करें.

12 राशि, 12 भाव और 9 ग्रहों के मेल से ही कुंडली का निर्माण होता है. जिस समय, स्थान और दिन पर व्यक्ति का जन्म होता है उसके अनुसार ही कुंडली में ग्रहों की स्थिति की जानकारी ज्योतिषी हमे देते हैं. कुछ लोगों की कुंडली में ग्रह कमजोर होते हैं, जिनके लिए ज्योतिष शास्त्र में कई उपाय बताए गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

शुक्र ग्रह को मजबूत रखने के लिए सफेद कपड़ों का, चावल, चीनी आदि का दान करना चाहिए.
शनि ग्रह को मजबूत करने के लिए जातक को अपना भोजन सरसों के तेल में बनाना चाहिए.

Astro Tips: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारे जीवन में होने वाली छोटी-बड़ी घटनाओं का संबंध मुख्यत: नौ ग्रहों से जुड़ा हुआ होता है. यह नौ ग्रह यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में मजबूत स्थिति में हो तो उस व्यक्ति का पूरा जीवन सुखमय व्यतीत होता है. वहीं इनकी स्थिति कमजोर होने पर इसके नकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिलते हैं. कुंडली में हर ग्रह की स्थिति के अनुसार जातक को उसका फल मिलता है.

कोई व्यक्ति अपनी कुंडली तो नहीं बदल सकता लेकिन कुंडली में बैठे इन नौ ग्रहों को प्रसन्न या मजबूत स्थिति में लाया जा सकता है. वो कैसे उसके बारे में हमें बता रहे हैं ज्योतिष एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा, आइए जानते हैं.

कैसे करें नवग्रहों को मजबूत?

सूर्य ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए

यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य ग्रह कमजोर स्थिति में हो तो ऐसे में उस व्यक्ति को प्रतिदिन प्रात: काल उठकर सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए. इसके अलावा ऐसे व्यक्तियों को सुबह की हल्की धूप में बैठकर सूर्य भगवान का ध्यान भी करना चाहिए. प्रतिदिन सूर्य मंत्र का जप करें इससे आपकी कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत होगी.

यह भी पढ़ें – इन वजहों से कुंडली में बनता है विदेश जाने का योग

चन्द्रमा की स्थिति को मजबूत करने के लिए

चंद्रमा को शीतलता का प्रतीक भी माना जाता है इसलिए चंद्रमा की स्थिति को कुंडली में मजबूत करने के लिए आपको आहार में बदलाव करने पड़ेंगे. रात्रि के समय खाना खाने के बाद या खाना खाते समय ठंडी चीजों का सेवन करने से बचें. इसके अलावा घर में बने ताजा खाने को ही खाएं. अपनी मां का सदैव आशीर्वाद लें. चंद्रमा की शीतलता पानी से मिलती जुलती है इसलिए जल को व्यर्थ बर्बाद ना होने दें.

मंगल की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए व्यक्ति को बिस्तर छोड़ कर जमीन पर सोना चाहिए, कम से कम 1 हफ्ते तक ऐसा करना होगा. दिन में एक समय नमक खाने से बचना चाहिए. खासकर मंगलवार के दिन तो नमक का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए. मंगल को शुभ स्थिति में लाने के लिए गुड़ का सेवन करें. साथ ही मंगलवार का व्रत रखकर हनुमान चालीसा का जप करें.

बुद्ध की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए खाने में हरी सब्जियों का सेवन करें और गाय को हरा चारा खिलाएं. सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग कम करें. संगीत सुनने की आदत डालें. नियमित रूप से नहाएं, घर में और अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान दें.

बृहस्पति की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में बृहस्पति ग्रह को मजबूत करने के लिए आपको तामसिक भोजन छोड़ना पड़ेगा, सात्विक भोजन करें. खाने में हमेशा हल्दी का उपयोग करें, पीले रंग के कपड़े ज्यादा पहनें. बालों को छोटा रखें और माथे पर चंदन का तिलक लगाएं.

शुक्र की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में शुक्र ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए स्नान के बाद सुगंधित इत्र अपने ऊपर छिड़कना चाहिए. शुक्र ग्रह को मजबूत रखने के लिए सफेद कपड़ों का, चावल, चीनी आदि का दान करना चाहिए. इसके अलावा शुक्रवार को सफेद वस्त्र पहनना शुभ होता है.

शनि की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में शनि ग्रह को मजबूत करने के लिए जातक को अपना भोजन सरसों के तेल में बनाना चाहिए. इसके अलावा शनिवार को व्रत रखकर शनि चालीसा और हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए. शनि ग्रह की मजबूती के लिए पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना अच्छा माना जाता है.

यह भी पढ़ें – किन जातकों के लिए लकी होता है मूंगा? जानें धारण करने के नियम और लाभ

राहु और केतु की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में राहु और केतु ग्रहों की स्थिति को मजबूत करने के लिए स्वच्छ रहना और अपने आसपास स्वच्छता रखना बहुत जरूरी है. राहु के लिए हल्के नीले रंग के कपड़े पहनना और केतु के लिए हल्के गुलाबी रंग के कपड़े पहनना शुभ होता है. इसके अलावा रोज सुबह उठने के बाद खाली पेट तुलसी के पत्ते चबाना अच्छा माना जाता है.

Tags: Astrology, Dharma Aastha, Religion

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर