Subh Vivah: साल 2020 का अंतिम विवाह मुहूर्त आज, अब चार महीने बाद होंगी शादियां

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार साल 2021 में विवाह के लिए बस 50 दिन रहेंगे.

साल 2021 में सर्व शुभ मुहूर्त (Subh Muhurat) की बात करें तो यह केवल 33 हैं. हालांकि वर और कन्या की कुंडली के हिसाब से अन्य 17 शुभ मुहूर्त भी मिलेंगे.

  • Share this:
    साल 2020 अब अपने अंतिम पड़ाव पर खड़ा है. पूरे साल कोरोना (Corona) ने अपना कहर बनाए रखा. हालांकि उस बीच ही लोगों ने अपने कई शुभ कार्य संपन्न किए. आपको बता दें कि इस वर्ष यानी 2020 में 13 दिसंबर को रात में 1 बजकर 39 मिनट तक शुभ लग्न मुहूर्त था. इसके बाद चार महीने तक विवाह की शहनाइयां नहीं गूंज पाएंगी. फिर दिनांक 16 दिसंबर को सुबह 6.47 बजे से खरमास आरंभ हो रहा है. खरमास में लगभग एक महीने तक वैवाहिक कार्यक्रम निषिद्ध होते हैं. पंचांग के अनुसार 16 जनवरी 2021 को दिन में 2 बजकर 3 मिनट पर खरमास समाप्त हो जाएगा. अगले साल भी विवाह की धूम आधा अप्रैल गुजरने के बाद होगी. जनवरी 2021 से लेकर मार्च 2021 तक विवाह का एक भी मुहूर्त नहीं मिल रहा है. नए साल में 20 अप्रैल से शुभ मुहूर्तों की शुरुआत हो रही है.

    ज्योतिष शास्त्र के अनुसार साल 2021 में विवाह के लिए बस 50 दिन रहेंगे. बृहस्पति और शुक्र ग्रह के कारण साल के शुरुआती महीनों में विवाह नहीं हो पाएंगे. मकर संक्रांति के बाद 19 जनवरी से 16 फरवरी तक गुरु अस्त रहेगा. फिर 16 फरवरी से शुक्र 17 अप्रैल तक अस्त रहेगा. वैसे तो खरमास की समाप्ति पर हर वर्ष जनवरी महीने में शादियां होती थीं लेकिन इस बार 16 जनवरी 2021 से रात्रि 3 बजे से गुरु अस्त पश्चिम दिशा की ओर हो जाएंगे. 12 फरवरी 2021 को फिर पूर्व दिशा में उदय होंगे. उसके बाद फिर 17 फरवरी 2021 को शुक्र पश्चिम दिशा में अस्त हो जाएंगे. इसलिए इस बार जनवरी, फरवरी और मार्च माह में शुभ विवाह मुहूर्त नहीं बन रहे हैं. उसके बाद एक ही बार लंबे इंतजार के बाद शुभ विवाह मुहूर्त, 20 अप्रैल 2021 से शुरू हो रहा है. इसके बाद देव शयन से पहले यानी 15 जुलाई तक 37 दिन विवाह के मुहूर्त हैं. वहीं, 15 नवंबर को देव उठनी एकादशी से 13 दिसंबर तक विवाह के लिए 13 दिन मिलेंगे.

    वसंत पंचमी पर नहीं हो पाएगी शादी
    16 फरवरी 2021 को वसंत पंचमी है. इसे भी विवाह के लिए अबूझ मुहूर्त माना जाता है, लेकिन इस दिन सूर्योदय के साथ ही शुक्र अस्त हो जाएगा. इस कारण पंचांगों में इसे विवाह मुहूर्त में नहीं गिना गया है. हालांकि लोक परंपरा के चलते उत्तराखंड सहित देश के कई हिस्सों में वसंत पंचमी पर विवाह होते हैं.

    विवाह के लिए अबूझ मुहूर्त 
    देव प्रबोधिनी एकादशी पर तुलसी शालिग्राम विवाह की परंपरा है, इसलिए इस दिन को विवाह के लिए शुभ माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन किया गया विवाह कभी नहीं टूटता और दांपत्य सुख भी हमेशा बना रहता है. इसके अलावा अक्षय तृतीया और वसंत पंचमी को भी अबूझ मुहूर्त मानते हुए शादियां की जाती हैं.

    इसे भी पढ़ेंः शुक्रवार को ये 4 चीजें पत्नी को देने से मां लक्ष्मी होती हैं खुश, घर में होता है सुख-शांति का वास

    साल 2020 में थे 49 शुभ मुहूर्त
    इस साल जनवरी से मार्च तक होली से पहले 19 दिन मुहूर्त थे. फिर 15 मार्च से खरमास शुरू हो गया, इसके बाद कोरोना के चलते लॉकडाउन में अप्रैल से जून तक 23 मुहूर्त निकल गए. फिर चतुर्मास के दौरान जुलाई से 24 नवंबर तक विवाह नहीं हो पाए. देव उठनी एकादशी से 11 दिसंबर तक सात दिन ही विवाह के लिए मिले.

    साल 2021 में हैं 33 सर्व शुभ मुहूर्त
    साल 2021 में सर्व शुभ मुहूर्त की बात करें तो यह केवल 33 हैं. हालांकि वर और कन्या की कुंडली के हिसाब से अन्य 17 शुभ मुहूर्त भी मिलेंगे. इस साल 1 जनवरी से 14 जनवरी तक खरमास, 17 जनवरी से गुरु और शुक्र के कारण बाल-वृद्ध दोष के चलते शुभ मुहूर्त नहीं मिल रहे हैं. इसके बाद 20 जुलाई से 14 नवंबर तक चतुर्मास रहेगा तो इस दौरान भी शुभ कार्य नहीं होंगे. इसके बाद 15 दिसंबर से खरमास शुरू हो जाएगा जो 31 दिसंबर तक रहेगा.

    साल 2021 में विवाह शुभ मुहूर्त
    अप्रैल : 22, 24, 25, 26, 27, 30
    मई : 1, 3, 7, 8, 15, 21, 22, 24
    जून : 4, 5, 19, 30
    जुलाई : 1, 2, 15
    नवंबर : 19, 20, 21, 28, 29, 30
    दिसंबर : 1, 6, 7, 11, 12,13

    (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.