• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • Sunday Special: कोरोना वायरस के बीच घर पर ऐसे करें कन्या पूजन​

Sunday Special: कोरोना वायरस के बीच घर पर ऐसे करें कन्या पूजन​

कन्या पूजन के लिए घर में अपनी बेटी या भतीजी को आमंत्रित कर सकते हैं.

कन्या पूजन के लिए घर में अपनी बेटी या भतीजी को आमंत्रित कर सकते हैं.

चैत्र नवरात्रि में माता के पूजन, मंदिर, भोग का इंतजाम तो भक्तों ने कर लिया है. लेकिन अब सबके मन में एक ही सवाल है कि आखिरकार लॉकडाउन के बीच कन्या पूजन कैसे किया जाए.

  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के कारण इन दिनों पूरा भारत घर की लक्ष्मण रेखा के अंदर ही रह रहा है. इसी बीच चैत्र नवरात्रि (Chaitra navratri 2020) पड़ने से लोगों के मन में कई तरह की दुविधा है. चैत्र नवरात्रि में माता के पूजन, मंदिर, भोग का इंतजाम तो भक्तों ने कर लिया है. लेकिन अब सबके मन में एक ही सवाल है कि आखिरकार लॉकडाउन के बीच कन्या पूजन कैसे किया जाए.

कैसे भरें गोद ?

चैत्र नवरात्रि (Chaitra navratri 2020) के दिनों में कई जगहों पर माता की गोद भरने की परंपरा चली आ रही है. महिलाएं अष्टमी या नवमीं के दिन पूजा पंडाल या माता के मंदिर में जाकर गोद भरती हैं. इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के कारण पूजा पंडाल नहीं सजे हैं. इसके साथ ही कोरोना वायरस के कारण मंदिर में आम जनता के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है. ऐसे में आप गोद भरने की परंपरा को घर पर ही निभा सकती हैं. शास्त्रों में इस बात का वर्णन है कि गोद भरने के लिए किसी मंदिर में जाना जरूरी नहीं है. आप घर में ही माता की प्रतिमा के सामने गोद भरने की रस्म को पूरा कर सकती हैं. गोद भरने के दौरान चावल, हल्दी, माता के श्रृंगार का सामान, सिंदूर, पैसे सब एक चुनरी में रखें और प्रार्थना करें. गोद को भरने के बाद इसे अपने पास रख लें.

विषम संख्या में किया जाता है कन्या पूजन

शास्त्रानुसार नवरात्र में 1, 3, 5 यानि की विषम संख्या में अपनी क्षमता के अनुसार कन्या को घर पर आमंत्रित करना चाहिए. आमंत्रण के पश्चात उन्हें भोजन करवाना चाहिए. लॉकडाउन के कारण लोग एक दूसरे के घर नहीं जा पा रहे हैं ऐसे में कन्या को भोजन के लिए आमंत्रित करना मुश्किल है. ऐसे में आप कुछ उपायों को अपनाकर कन्या पूजन भी कर सकते हैं और माता रानी को खुश भी कर सकते हैं. आइए जानते हैं बिना कन्या या सिर्फ 1 कन्या के साथ कैसे किया जा सकता है कन्या पूजन.

बेटी, भतीजी के साथ करें पूजन

घर की बाहर की कन्याओं को इस बार की नवरात्रि में आमंत्रित करना संभव नहीं है, ऐसे में आप घर में ही बेटी या भतीजी के साथ कन्या पूजन कर सकते हैं. घर की बेटियों के साथ कन्या का पूजन करने से पहले मंदिर के सामने दीपक जलाएं और हाथों में थोड़ा सा जल लेकर मां दुर्गा के सामने संकल्प लें कि इस नवरात्रि में आप अपनी बेटी को माता का अंश मानकर कन्या पूजन कर रहे हैं. संकल्प के बाद पानी को पूरे घर में छिड़क दें. इसके बाद विधि अनुसार, कन्या को आसन पर बिठाएं, उसके माथे पर तिलक लगाएं और फिर मीठा भोजन करवाकर उन्हें दान दें.

घर में न हो कन्या तब क्या करें ?

जिन लोगों के घरों में बेटी न हो वो नवरात्रि में कन्या पूजन के लिए मीठा प्रसाद बनाएं. इसके बाद पूजा स्थान पर माता को भोज लगाकर, दान अर्पित करें. ध्यान रहे कि माता को वही प्रसाद अर्पित करें जो लंबे समय तक खराब नहीं होते हैं. ऐसे में आप प्रसाद के तौर पर सूखे मेवे, मखाना, मिसरी को अर्पित कर सकते हैं. माता को प्रसाद अर्पित करके उसे रख लें. बाद में आपको जब भी मौका मिलें इस प्रसाद को कन्या में बांट दें.


Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज