होम /न्यूज /धर्म /Surya Grahan 2021: इस दिन होगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, सूतक काल पर होगा ये प्रभाव

Surya Grahan 2021: इस दिन होगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, सूतक काल पर होगा ये प्रभाव

भारत में अप्रैल में साल का पहला सूर्य ग्रहण पड़ेगा.(फाइल फोटो)

भारत में अप्रैल में साल का पहला सूर्य ग्रहण पड़ेगा.(फाइल फोटो)

Surya Grahan 2021: सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) एवं चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) बड़ी खगोलीय घटनाएं मानी जाती है. जब सूर् ...अधिक पढ़ें

    Surya Grahan 2021: सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) और चंद्र ग्रहण दुनियाभर में बड़ी खगोलीय घटनाएं मानी जाती हैं. हमारे देश में यह खगोलीय घटनाएं ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से और ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाती हैं. दरअसल ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जब भी सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) या चंद्रग्रहण की घटनाएं होती हैं तो उसका असर सभी मनुष्यों पर पड़ता है. ज्योतिषशास्त्र के अनुसार 12 राशियों पर ग्रहण का कम या ज्यादा दुष्प्रभाव पड़ सकता है. आमतौर पर ग्रहण को अशुभ फलदायी ही माना जाता है. हालांकि अलग-अलग क्षेत्र के हिसाब से कहीं ग्रहण दिखाई देता है और कहीं ग्रहण नज़र नहीं आता है.

    इस दिन होगा सूर्य ग्रहण
    सूर्य ग्रहण की महत्वपूर्ण घटना के इस साल दो बार होने के योग हैं. पहला सूर्यग्रहण 10 जून 2021 को हो चुका है, वहीं दूसरा एवं साल का आखिरी सूर्य ग्रहण 04 दिसंबर को होगा. यह सूर्य ग्रहण कार्तिक मास के
    कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि पर पड़ रहा है. इस सूर्यग्रहण के दौरान ही दो बड़े ग्रह भी अस्त होने जा रहे हैं. जो दो बड़े ग्रह अस्त होने जा रहे हं उनमें बुध और चंद्रमा शामिल हैं. इसके अलावा राहू-केतू भी वक्री
    होंगे. ग्रहों का ये परिवर्तन सभी राशियों पर कुछ न कुछ असर डालेगा.

    इसे भी पढ़ें: गुरुवार को भगवान विष्णु के इन मंत्रों का करें जाप, जीवन की बाधाएं होंगी दूर
    बता दें कि धार्मिक मतों के अनुसार ग्रहण के दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य को करने और पूजा करने की मनाही रहती है. जिन जगहों पर ग्रहण का प्रभाव होता है वहां पर मंदिरों के कपाटों को भी बंद कर दिया
    जाता है. जब ग्रहण खत्म हो जाता है तो विधिपूर्वक शुद्धिकरण करने के बाद ही मंदिर के कपाट खोले जाते हैं. घरों में भी इस दौरान किसी तरह की पूजा नहीं की जाती है.

    सूतक काल नहीं लगेगा
    ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जब भी कभी पूर्ण ग्रहण लगता है उस स्थिति में ही सूतक काल को मान्य किया जाता है. 04 दिसंबर को लगने जा रहा सूर्य ग्रहण पूर्ण ग्रहण के बजाय उपछाया ग्रहण रहेगा. इसी वजह से इसमें सूतक काल को मान्य नहीं किया जा रहा है. इस वजह से सूर्य ग्रहण के दिन सूतक नियमों का पालन अनिवार्य नहीं रहेगा.

    इसे भी पढ़ें: मंगलवार को बजरंगबली के इन मंत्रों का करें जाप, जीवन में आ जाएगा बदलाव

    इन देशों में नजर आएगा ग्रहण
    साल का आखिरी सूर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. इस वजह से यहां पर ग्रहण का असर नहीं नजर आएगा. सूर्य ग्रहण दक्षिण अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और अंटार्कटिका में नजर आएगा.

    (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Religion, Solar eclipse, Surya Grahan

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें